30 मई 2016

स्वर - वर्ण ज्ञान

( अ )
श्रृणु तत्वमकारस्य अतिगोप्यं वरानने । शरच्चन्द्रप्रतीकाशं पञ्चकोणमयं सदा । 
पञ्चदेवमयं वर्णं शक्तित्रयसमन्वितम । निर्गुणं त्रिगुणोपेतं स्वयं कैवल्यमूर्तिमान । 
बिन्दुतत्वमयंवर्णं स्वयं प्रकृतिरुपिणी ।

( आ )
आकारं परमाश्चर्यं शङ्खज्योतिर्मयं प्रिये । ब्रह्मविष्णुमयं वर्णं तथा रुद्रमयं प्रिये ।
पञ्चप्राणमयं वर्णं स्वयं परमकुण्डली ।

( इ )  
इकारं परमानन्दसुगन्धकुसुमच्छविम । हरिब्रह्ममयं वर्णं सदा रुद्रयुतं प्रिये । 
सदाशक्तिमयं देवि गुरुब्रह्ममयं तथा ।
-------
सदाशिवमयं वर्णं परं ब्रह्मसमन्वितम । हरिब्रह्मात्मकं वर्णं गुणत्रयसमन्वितम । 
इकारं परमेशानि स्वयं कुण्डली मूर्तिमान ।

( इ )
ईकारं परमेशानि स्वयं परमकुण्डली । ब्रह्मविष्णुमयं वर्णं तथा रुद्रमयं सदा ।
पञ्चदेवमयं वर्णं पीतविद्युल्लताकृतिम । चतुर्ज्ञानमयं वर्णं पञ्चप्राणमयं सदा ।

( उ )
उकारं परमेशानि अधःकुण्डलिनी स्वयम । पीतचम्पकसंकाशं पञ्चदेवमयं सदा । 
पञ्चप्राण मयं देवि चतुर्वर्गप्रदायकम ।

( ऊ )
शङ्खकुन्दसमाकारं ऊकारं परमकुण्डली । पञ्चप्राणमयं वर्णं पञ्चदेवमयं सदा ।
धर्मार्थकाममोक्षं च सदासुखप्रदायकम ।

( ऋ )
ऋकारं परमेशानि कुण्डली मूर्तिमान स्वयम । अत्र ब्रह्मा च विष्णुश्च रुद्रश्चैव वरानने । 
सदाशिवंयुतं वर्णं सदा ईश्वरसंयुतम । पञ्चप्राणमयं वर्णं चतुर्ज्ञानमयं तथा । 
रक्तविद्युतल्लताकारं ऋकारं प्रणमाम्यहम ।

( ॠ )
ॠकारंपरमेशानि स्वयं परमकुण्डलम । पीतविद्युतल्लताकारं पञ्चदेवमयं सदा ।
चतुर्ज्ञानमयं वर्णं पञ्चप्राणयुतं सदा । त्रिशक्तिसहितं वर्णं प्रणमामि सदा प्रिये ।

( लृ )
लृकारं चञ्चलापाङ्गि कुण्डली परदेवता । अत्र ब्रह्मादयः सर्वे तिष्ठन्ति ससतं प्रिये । 
पञ्चदेवमयं वर्णं चतुर्ज्ञानमयं सदा । पञ्चप्राणयुतं वर्ण तथा गुणत्रयात्मकम । 
विन्दुत्रयात्मकं वर्णं पीतविद्युल्लता तथा ।

( ए )
एकारं परमेशानि ब्रह्मविष्णुशिवात्मकम । रञ्जनीकुसुमप्रख्यं पञ्चदेवमयं सदा ।
पञ्चप्राणात्मकं वर्ण तथा बिन्दुत्रयात्मकम । चतुर्वर्गप्रदं देवि स्वयं परमकुण्डली ।

( ऐ )
ऐकारंपरमंदिव्यं महाकुण्डलिनी स्वयम । कोटिचन्द्रप्रतीकाशं पञ्चप्राणमयं सदा । 
ब्रह्मविष्णुमयं वर्णं बिन्दुत्रयसमन्वितम ।

( ओ )
ओकारं चञ्चलापाङ्गि पञ्चदेवमयं सदा । रक्तविद्युल्लताकारं त्रिगुणात्मानमीश्वरीम ।
पञ्चप्राणमयं वर्णं नमामि देवमातरम । एतद्वर्णं महेशानि स्वयं परमकुण्डली ।

( औ )
रक्तविद्युल्लताकारं औकारं कुण्डली स्वयम । 
अत्र ब्रह्मादयः सर्वे तिष्ठन्ति सततं प्रिये । 
पञ्चप्राणमयं वर्णं तथा शिवमयं सदा ।

( अं )
सदा ईश्वरसंयुक्तं चतुर्वर्गप्रदायकम ।
अङ्कारं विन्दुसंयुक्तं पीतविद्युतसमप्रभम ।
पञ्चप्राणमयं वर्णं ब्रह्मादिदेवतामयम ।

( अः )
सर्वज्ञानमयं वर्णं बिन्दुत्रयसमन्वितम । अःकारं परमेशानि विसर्गसहितं  सदा ।
पञ्चदेवमयं वर्णं पञ्चप्राणमयः सदा । सर्वज्ञानमयोवर्णः आत्मादि तत्वसंयुतः ।

( क )
जपायावकसिन्दूरमदृशीं कामिनीं पराम । चतुर्भुजां त्रिनेत्रां च बाहुबल्लीविराजिताम । कदम्बकोरकाकारस्तनद्वयविभूषितम । रत्नकंकणकेयूरैरङ्गदैरुपशोभिताम ।
रत्नहारैः पुष्पहारैः शोभितां परमेश्वरीम । एवं हि कामिनीं व्यात्वा ककारं दशधा जपेत ।

( ख )
खकारं परमेशानि कुण्डलीत्रयसंयुतम । खकारं परमाश्चर्यं शङ्खकुन्दसमप्रभम । 
कोणत्रययुतं रम्यं बिन्दुत्रयसमन्वितम । गुणत्रययुतं देवि पञ्चदेवमयं सदा । 
त्रिशक्तिसंयुतं वर्णं सर्व शक्त्यात्मकं प्रिये ।

( ग )
गकारं परमेशानि पञ्चदेवात्मकं सदा । निर्गुणं त्रिगुणोपेतं निरीहं निर्मलं सदा ।
पञ्चप्राणमयं वर्णं गकारं प्रणमाम्यहम ।

( घ )
अरुणादित्यसङ्काशं कुण्डलीं प्रणमाम्यहम । घकारं चञ्चलापाङ्गि चतुष्कोणात्मकं सदा । पञ्चदेवमयं वर्णं तरुणादित्यसन्निभम । निर्गुणं त्रिगुणोपेतं सदा त्रिगुणसंयुतम । 
सर्वगं सर्वदं शान्तं घकारं प्रणमाम्यहम ।

( ङ )
ङकारं परमेशानि स्वयं परमकुण्डली । सर्वदेवमयं वर्णं त्रिगुणं लोललोचने ।
पञ्चप्राणमयं वर्णं ङकारं प्रणमाम्यहम ।

( च )
चवर्णं श्रृणु सुश्रोणि चतुर्वर्गप्रदायकम । कुण्डलीसहितं देवि स्वयं परमकुण्डली । 
रक्त विद्युतल्लताकारं सदा त्रिगुणसंयुतम । पञ्चदेवमयं वर्णं पञ्चप्राणमयं सदा । 
त्रिशक्ति सहितं वर्णं त्रिबिन्दुसहितं सदा ।

( छ )
छकारं परमाश्चर्यं स्वयं परमकुण्डली । सततं कुण्डलीयुक्तं पञ्चदेवमयं सदा ।
पञ्चप्राणमयं वर्णं त्रिशक्तिसहितं सदा । त्रिबिन्दुसहितं वर्णं सदा ईश्वरसंयुतम ।
पीतविद्युल्लताकारं छकारं प्रणमाम्यहम ।

( ज )
जकारं परमेशानि या स्वयं मध्य कुण्डली । शरच्चन्द्रप्रतीकाशं सदा त्रिगुणसंयुतम । 
पञ्चदेवमयं वर्णं पञ्चप्राणात्मकं सदा । त्रिशक्ति सहितं वर्णं त्रिबिन्दुसहितं प्रिये ।

( झ )
झकारं परमेशानि कुण्डलीमोक्षरुपिणी । रक्तविद्युल्लताकारं सदा त्रिगुणसंयुतम ।
पञ्चदेवमयं वर्णं पञ्चप्राणात्मकमं सदा । त्रिबिन्दुसहितं वर्णं त्रिशक्तिसहितं सदा ।

( ञ )
सदा ईश्वरसंयुक्तं ञकारं श्रृणु पार्वति । रक्तविद्युल्लताकारं स्वयं परमकुण्डली । 
पञ्चदेवमयं वर्णं पञ्चप्राणात्मकमं सदा । त्रिशक्तिसहितं वर्णं त्रिबिन्दुसहितं सदा ।

( ट )
टकारं चञ्चलापाङ्गि स्वयं परमकुण्डली । पञ्चदेवमयं वर्णं पञ्च प्राणात्मकमं सदा ।
त्रिशक्तिसहितं वर्णं त्रिबिन्दुसहितं सदा ।

( ठ )
ठकारं चञ्चलापाङ्गि कुण्डली मोक्षरुपिणी । पीतविद्युल्लताकारं सदा त्रिगुणसंयुतम । 
पञ्चदेवात्मकं वर्णं पञ्चप्राणमयं सदा । त्रिबिन्दुसहितं वर्णं त्रिशक्तिसहितं सदा ।

( ड )
डकारं चञ्चलापाङ्गि सदा त्रिगुणसंयुतम । पञ्चदेवमयं वर्णं पञ्चप्राणमयं तथा ।
त्रिशक्तिसहितं वर्णं त्रिबिन्दुसहितं सदा । चतुर्ज्ञानमयं वर्णमात्मादितत्वसंयुतम ।  पीतविद्युल्लताकारं डकारं प्रणमाम्यहम ।

( ढ )
ढकारं परमाराध्यं या स्वयं कुण्डली परा । पञ्चदेवात्मकं वर्णं पञ्चप्राणमयंसदा । सदात्रिगुणसंयुक्तंआत्मादितत्वसंयुतम । रक्तविद्युल्लताकारं ढकारं प्रणमाम्यहम ।

( ण )
णकारं परमेशानि या स्वयं परमकुण्डली । पीतविद्युल्लताकारं पञ्चदेवमयं सदा ।
पञ्चप्राणमयं देवि सदा त्रिगुणसंयुतम । आत्मादितत्वसंयुक्तं महासौख्यप्रदायकम ।

( त )
तकारं चञ्चलापाङ्गि स्वयं परमकुण्डली । पञ्चदेवात्मकं वर्णं पञ्चप्राणमयं तथा । 
त्रिशक्ति सहितं वर्णमात्मादितत्वसंयुतम । त्रिबिन्दुसहितं वर्णं पीतविद्युत्समप्रभम ।

( थ )
थकारं चञ्चलापाङ्गि कुण्डली मोक्षरुपिणी । त्रिशक्तिसहितं वर्णं त्रिबिन्दुसहितं सदा ।
पञ्चदेवमयं वर्णं पञ्चप्राणात्मकं प्रिये । तरुणादित्यसङ्काशं थकारं प्रणमाम्यहम ।

( द )
दकारं श्रृणु चार्वङ्गि चतुर्वर्गप्रदायकम् । पञ्चदेवमयं वर्णं त्रिशक्तिसहितं सदा । 
सदा ईश्वरसंयुक्तं त्रिबिन्दुसहितं सदा । आत्मादितत्वसंयुक्तं स्वयं परमकुण्डली । 
रक्तविद्युल्लताकारं दकारं हृदि भावय ।

( ध )
धकारं परमेशानि कुण्डली मोक्षरुपिणी । आत्मादितत्वसंयुक्तं पञ्चदेवमयं सदा ।
पञ्चप्राणमयं देवि त्रिशक्तिसहितं सदा । त्रिबिन्दुसहितं वर्णं धकारं हृदि भावय ।
पीतविद्युल्लताकारं चतुर्वर्गप्रदायकम ।

( न )
नकारं श्रृणु चार्वङ्गि रक्तविद्युल्लताकृतिम । पञ्चदेवमयं वर्णं स्वयं परमकुण्डली । 
पञ्चप्राणात्मकं वर्णं त्रिबिन्दुसहितं सदा । त्रिशक्तिसहितं वर्णमात्मादितत्वसंयुतम । 
चतुर्वर्गप्रदं वर्णं हृदि भावय पार्वति । 

( प )
अतः परं प्रवक्ष्यामि पकारं मोक्षमव्ययम् । चतुर्वर्गप्रदं वर्णं शरच्चन्द्रसमप्रभम ।
पञ्चदेवमयं वर्णं स्वयं परमकुण्डली । पञ्चप्राणमयं वर्णं त्रिशक्तिसहितं सदा ।
त्रिबिन्दुसहितं वर्णंमात्मादितत्वसंयुतम । महामोक्षप्रदं वर्णंहृदि भावय पार्वति ।

( फ )
फकारं श्रृणु चार्वङ्गि रक्तविद्युल्लतोपमम । चतुर्वर्गमयं वर्णं  पञ्चदेवमयं सदा । 
पञ्चप्राणमयं वर्णं सदा त्रिगुणसंयुतम । आत्मादितत्वसंयुक्तं त्रिबिन्दुसहितं सदा ।

( ब )
बकारं श्रृणु चार्वङ्गि चतुर्वर्गप्रदायकम । शरच्चन्द्रप्रतीकाशं पञ्चदेवमयं सदा ।
पञ्चप्राणात्मकं वर्णं त्रिबिन्दुसहितं सदा । त्रिशक्तिसहितं वर्णं निविडाऽमृतनिर्मलम ।
स्वयं कुण्डलिनी साक्षात सततं प्रणमाम्यहम ।

( भ )
भकारं चञ्चलापाङ्गि स्वयं परमकुण्डली । महामोक्षप्रदं वर्णं पञ्चदेवमयं सदा । 
त्रिशक्ति सहितं वर्णं त्रिबिन्दुसहितं प्रिये ।

( म )
मकारं श्रृणु चार्वङ्गि स्वयं परमकुण्डली । महामोक्षप्रदं वर्णं पञ्चदेवमयं सदा ।
तरुणादित्यसङ्काशं चतुर्वर्गप्रदायकम । त्रिशक्तिसहितं वर्णं त्रिबिन्दुसहितं सदा ।
आत्मादितत्वसंयुक्तं हृदिस्थं प्रणमाम्यहम ।

( य ) 
यकारं श्रृणु चार्वङ्गि चतुष्कोमयं सदा । पलालधूमसङ्काशं स्वयं परमकुण्डली । 
पञ्चदेवमयं वर्णं पञ्चप्राणात्मकं सदा । त्रिशक्तिसहितं वर्णं त्रिबिन्दुसहितं तथा । 
प्रणमामि सदा वर्णं मूर्तिमान मोक्षमव्ययम ।

( र )
रकारं चञ्चलापाङ्गि कुण्डलीद्वयसंयुतम । रक्तविद्युल्लताकारं पञ्चदेवात्मकं सदा ।
पञ्चप्राणमयं वर्णं त्रिबिन्दुसहितं सदा । त्रिशक्तिसहितं देवि आत्मादितत्वसंयुतम ।

( ल )
लकारं चञ्चलापाङ्गि कुण्डलीद्वयसंयुतम । पीतविद्युल्लताकारं सर्वरत्नप्रदायकम ।  
पञ्चदेवमयं वर्णं पञ्चप्राणमं सदा । त्रिशक्तिसहितं वर्णं त्रिबिन्दुसहितं सदा । 
आत्मादितत्वसंयुक्तं हृदि भावय पार्वति ।

( व )
वकारं चञ्चलापाङ्गि कुण्डलीमोक्षमव्ययम । पलालधूमसंकाशं पञ्चदेवमयं सदा ।
पञ्चप्राणमयं वर्णं त्रिशक्तिसहितं सदा । त्रिबिन्दुसहितं वर्णमात्मादितत्वसंयुतम ।

( श )
शकारं चञ्चलापाङ्गि कुण्डलीतत्वसंयुतम । पीतविद्युल्लताकारं सर्वरत्नप्रदायकम । 
पञ्चदेवमयं वर्णं पञ्चप्राणमयं सदा । त्रिशक्तिसहितं वर्णं त्रिबिन्दुसहितं सदा । 
आत्मादितत्वसंयुक्तं हृदि भावय पार्वति ।

( ष )
षकारं श्रृणुचार्वङ्गि अष्टकोणमयं सदा । रक्तचन्द्रप्रतीकाशं स्वयं परमकुण्डली ।
चतुर्वर्गप्रदं वर्णं सुधानिर्मितविग्रहम । पञ्चदेवमयं वर्णं पञ्चप्राणमयं सदा ।
रजःसत्त्वतमोयुक्तं त्रिशक्ति सहितं सदा । त्रिबिन्दुसहितं वर्णमात्मादितत्वसंयुतम ।
सर्वदेवमयं वर्णं हृदि भावय पार्वति ।

( स )
सकारं श्रृणु चार्वङ्गि शक्तिबीजं परात्परम । कोटिविद्युल्लताकारं कुण्डलीत्रयसंयुतम । 
पञ्चदेवमयं वर्णं पञ्चप्राणमयं सदा । रजःसत्वतमोयुक्तं त्रिबिन्दुसहितं सदा । 
प्रणम्य सततं देवि हृदि भावय पार्वति ।

( ह )
हकारं श्रृणु चार्वङ्गि चतुर्वर्गप्रदायकम । कुण्डलीत्रयसंयुक्तं रक्तविद्युल्लतोपमम ।
रजःसत्वतमोवायु पञ्चदेवमयं सदा । पञ्चप्राणमयं वर्णं हृदि भावय पार्वति ।

( क्ष )
क्षकारं श्रृणु चार्वङ्गि कुण्डलीत्रयसंयुतम । चतुर्वर्गमयं वर्णं पञ्चदेवमयं सदा । 
पञ्चप्राणात्मकं वर्णं त्रिशक्तिसहितं सदा । त्रिबिन्दुसहितं वर्णांत्मादितत्वसंयुतम । 
रक्तचन्द्रप्रतीकाशं हृदि भावय पार्वति ।

29 मई 2016

ऋ अक्षर यानी सत्य और गति

बकरियों को बुलाते समय जो ‘उर्र उर्र’ करते हैं  या हारमोनियम की चौथी चाबी खोलने पर जो ध्वनि होती है या मेढक और झींगुर का जो शब्द है । वही ध्वनि ऋ अक्षर की भी है । इसे कोई रि और रु का उच्चारण भी करते हैं जो दोनों ही अशुद्ध हैं ।
इसके उच्चारण में जिह्वा तालु से बारबार लग लगकर छूटती भी है । जितनी जल्दी छूटती है फ़िर उतनी ही जल्दी लगती है । अर्थात स्थान को पकङती नहीं और निरन्तर गतिमान रहती है ।
क्योंकि इसकी गति में विश्राम नहीं है । इसीलिये इसकी गति अखण्ड, नित्य अतएव सत्य कहलाती है । इन्ही दोनों कारणों से ऋ अक्षर ‘सत्य’ और ‘गति’ दो अर्थों में प्रचलित है । क्योंकि इसकी गति बाहर की ओर है । इसलिये यह बाहर के अर्थ में भी आता है । इन्हीं अर्थों को ध्यान में रखकर इसके 2 रूप बनाये गये हैं ।
पहला रूप बाहर ‌की और दानेदार गति का सूचक है । अर्थात उस आवाज का सूचक है जो जिह्वा के तालु में लगने से पैदा होती है पर बिना अकार के योग के यह स्वयं किसी रूप में नहीं आ सकता । इसलिये अकार के साथ दूसरे रूप में बनता है । ऋ जब किसी अक्षर के साथ मिलता है तो अपने पहले रूप से और जब स्वयं आता है तो दूसरे रूप से लिखा जाता है ।
ऋकार में अकार जोङने से ‘र’ शब्द होता है । ऋ के वर्णन में उसका अर्थ बाहर और सत्यगति बताया गया है । अतः रकार बाहर फ़ेंकने अर्थात देने और सत्यगति अर्थात ‘अविच्छिन्न अस्तित्व’ नाम ‘रमन’ अर्थ में लिया गया है ।
(स्वर में निरन्तरता होती है पर व्यंजन में नहीं । व्यंजन जब तक कोई स्वर न मिले । उसका स्पष्ट उच्चारण नहीं हो सकता  पर स्वर निरन्तर रहता है । जब तक उसके स्थान पर अन्य स्वर न बोला जाये)
-------------
गिनती लिखने का चलन कैसे शुरू हुआ । यह भी देखें ।

28 मई 2016

ताऊ खसमे मिलना

अखा बाझु वेखना विनु कना सुणना, पैरा बाझु चलना विनु हाथ करना 
जीवे बाझु बोलना जीवत मरना, नानक हुकमु पछान के ताऊ खसमे मिलना
- हम नाम को पकड़ के आपने मालिक को मिल सकते हैं । जिसको न किसी ने आँखों से देखिया है । न किसी की जुबान बियान कर सकती है । न किसी के कान सुन सकते हैं । और यहाँ न कोई हाथ पैर ले के जा सकता है । इसको सिर्फ जीवत मर के हासिल किया जा सकता है । जीवत मरने का मतलब है । अपने ख्यक को 9 दरवाजिया में से निकल के दसवें पर लेके आना । जब किसी की मौत आती है । उसके पांव ठन्डे हो जाते हैं । फिर टांगे ठंडी हो जाती हैं । उसके अंदर आत्मा होती है । जब वो निकलती है । तो वो जगह ठंडी होने लगती है । जब आत्मा आँखों के उपर से निकल के बाहर आ जाती है । तब बोलते हैं कि यह जीव मर गया है । गुरु से लिए सिमरन से ऐसे ही मरना है । आत्मा को 9 दरवाजों से लाकर 10 दरवाजे से बाहर निकलना है । और जब आत्मा शरीर से बाहर आ जायेगी । तो इसको जीवत मरना बोलते हैं ।
-----------
हरेर्नाम हरेर्नाम हरेर्नामैव केवलम ।
कलौ नास्त्येव नास्त्येव नास्त्येव गतिरन्यथा ।
- कलियुग में हरि का नाम ही, हरि का नाम ही, हरि का नाम ही एकमात्र गति है । इसके अतिरिक्त और कोई गति नहीं है । और निश्चित रूप में गति नहीं है ।
------------
1 लोहे को कोई नष्ट नहीं कर सकता । बस उसका जंग उसे नष्ट करता है । इसी तरह आदमी को भी कोई और नहीं बल्कि उसकी सोच ही नष्ट कर सकती है । सोच अच्छी रखें । निश्चित अच्छा ही होगा ।
2 दवा जेब में नहीं..शरीर में जाए तो असर होता है ।
वैसे ही..अच्छे विचार मोबाइल में नहीं, ह्रदय में उतरे तो जीवन सफल होता है ।
-------------
बुराई करना रोमिंग की तरह है - करो तो भी चार्ज लगता है और सुनो तो भी चार्ज लगता है ।
और - सत्संग, सेवा और सिमरन LIC की तरह है > जिंदगी के साथ भी । जिंदगी के बाद भी । 

सफल जीवन के सूत्र

1 जीवन - जब तुम पैदा हुए, तो तुम रोए थे जबकि पूरी दुनिया ने जश्न मनाया था । अपना जीवन ऐसे जियो कि तुम्हारी मौत पर पूरी दुनिया रोए और तुम जश्न मनाओ ।
2 कठिनाइयाँ - जब तक अपनी समस्याओं एवं कठिनाइयों की वजह दूसरों को मानते हैं । तब तक समस्याओं एवं कठिनाइयों को मिटा नहीं सकते ।
3 असंभव - इस दुनिया में असंभव कुछ भी नहीं । हम वो सब कर सकते हैं । जो हम सोच सकते हैं । और हम वो सब सोच सकते हैं । जो आज तक हमने नहीं सोचा ।
4 हार ना मानना - बीच रास्ते से लौटने का कोई फायदा नहीं । क्योंकि लौटने पर आपको उतनी ही दूरी तय करनी पड़ेगी । जितनी दूरी तय करने पर आप लक्ष्य तक पहुँच सकते हैं ।
5 हारजीत - सफलता हमारा परिचय दुनियाँ को करवाती है । और असफलता हमें दुनियाँ का परिचय करवाती है ।
6 आत्मविश्वास - अगर किसी चीज़ को दिल से चाहो तो पूरी कायनात उसे तुमसे मिलाने में लग जाती है ।
7 महानता - महानता कभी न गिरने में नहीं । बल्कि हर बार गिरकर उठ जाने में है ।
8 गलतियां - अगर आप समय पर अपनी गलतियों को स्वीकार नहीं करते हैं । तो आप एक और गलती कर बैठते हैं । आप अपनी गलतियों से तभी सीख सकते हैं । जब आप अपनी गलतियों को स्वीकार करते हैं ।
9 चिन्ता - अगर आप उन बातों एंव परिस्थितियों की वजह से चिंतित हो जाते हैं । जो आपके नियंत्रण में नहीं । तो इसका परिणाम समय की बर्बादी एवं भविष्य पछतावा है ।
10 शक्ति - ब्रह्माण्ड की सारी शक्तियां पहले से हमारी हैं । वो हम हैं । जो अपनी आँखों पर हाथ रख लेते हैं और फिर रोते हैं कि कितना अन्धकार है ।
11 मेहनत - हम चाहें तो अपने आत्मविश्वास और मेहनत के बल पर अपना भाग्य खुद लिख सकते हैं । और अगर हमको अपना भाग्य लिखना नहीं आता । तो परिस्थितियां हमारा भाग्य लिख देंगी ।
12 सपने - सपने वो नहीं हैं । जो हम नींद में देखते हैं । सपने वो हैं । जो हमको नींद नहीं आने देते ।
13 समय - यह नहीं कह सकते कि आपके पास समय नहीं है । क्योंकि आपको भी दिन में उतना ही समय ( 24 घंटे ) मिलता है । जितना समय महान एवं सफल लोगों को मिलता है ।
14 विश्वास - विश्वास में वो शक्ति है । जिससे उजड़ी हुई दुनिया में प्रकाश लाया जा सकता है । विश्वास पत्थर को भगवान बना सकता है । और अविश्वास भगवान के बनाए इंसान को भी पत्थर दिल बना सकता है ।
16 सफलता - दूर से हमें आगे के सभी रास्ते बंद नजर आते हैं । क्योंकि सफलता के रास्ते हमारे लिए तभी खुलते हैं । जब हम उसके बिलकुल करीब पहुँच जाते हैं ।
17 सोच - बारिश के दौरान सारे पक्षी आश्रय की तलाश करते हैं । लेकिन बाज़ बादलों के ऊपर उडकर बारिश को ही avoid कर देते है । समस्याएं common हैं । लेकिन आपका नजरिया इनमें difference पैदा करता है ।
18 प्रसन्नता - यह पहले से निर्मित कोई चीज नहीं है । ये आप ही के कर्मों से आती है ।
साभार - अज्ञात ( फ़ेसबुक पेज से )

शुकराना

रूप सिंह बाबा ने अपने गुरु अंगद देव जी की बहुत सेवा की । 20 साल सेवा करते हुए बीत गए । गुरु रूप सिंह पर प्रसन्न हुए और कहा - मांगो जो माँगना है । 
रूप सिंह बोले - गुरुदेव मुझे तो मांगना ही नहीं आता ।
गुरु के बहुत कहने पर रूप सिंह बोले - मुझे एक दिन का वक़्त दो । घर वालों से पूछ के कल बताता हूँ ।
घर जाकर माँ से पूछा तो माँ बोली - जमीन माँग ले ।
मन नहीं माना ।
बीवी से पूछा तो बोली - इतनी गरीबी है पैसे मांग लो । 
फिर भी मन नहीं माना ।
छोटी बिटिया थी उनको, उसने बोला - पिताजी गुरु ने जब कहा है कि मांगो तो कोई छोटी मोटी चीज़ न मांग लेना । 
इतनी छोटी बेटी की बात सुन के रूप सिंह जी बोले - कल तू ही साथ चल । गुरु से तू ही मांग लेना ।
अगले दिन दोनों गुरु के पास गए ।
रूप सिंह बोले - गुरुदेव मेरी बेटी आपसे मांगेगी मेरी जगह ।
वो नन्ही बेटी बहुत समझदार थी । रूप सिंह इतने गरीब थे कि घर के सारे लोग दिन में एक वक़्त का खाना ही खाते ।
इतनी तकलीफ होने के बावजूद भी उस नन्ही बेटी ने गुरु से कहा - गुरुदेव मुझे कुछ नहीं चाहिए । आपके हम लोगों पर बहुत एहसान है । आपकी बड़ी रहमत है । बस मुझे एक ही बात चाहिए कि आज हम दिन में एक बार ही खाना खाते हैं । अगर कभी आगे ऐसा वक़्त आये कि हमे चार पांच दिन में भी एक बार खाए । तब भी हमारे मुख से शुक्राना ही निकले । कभी शिकायत न करें ।
शुकर करने की दात दो ।
इस बात से गुरु प्रसन्न होकर बोले - जा बेटा, अब तेरे घर के भंडार सदा भरे रहेंगे । तू क्या तेरे घर पर जो आएगा । वो भी खाली हाथ नहीं जाएगा ।
यह है शुकर करने का फल । सदा शुकर करते रहें ।
-------------
सुख में सिमरन, दुख में अरदास ।
हर वेले शुकराना,
सुख में शुकराना, दुःख में शुकराना ।
हर वेले हर वक्त सिर्फ, शुकराना शुकराना शुकराना ।
सेवा, सिमरन, सतसंग करके, तेरा शुक्र मनाना आ जाये ।
जिंदगी ऐसी कर दो मेरी, औकात में रहना आ जाये ।
अगर पूछे कोई राज खुशी का, तो तेरी तरफ इशारा करूँ ।
खुशियों से भर दो झोली सबकी, हर दुख सहना आ जाये ।
यही प्रार्थना तुझसे सतगुरु, तेरी रजा में रहना आ जाये ।

विपस्सना

विपस्सना कैसे की जाती है ?
विपस्सना मनुष्य जाति के इतिहास का सर्वाधिक महत्वपूर्ण ध्यान-प्रयोग है । जितने व्यक्ति विपस्सना से बुद्धत्व को उपलब्ध हुए । उतने किसी और विधि से कभी नहीं ।
विपस्सना अपूर्व है । विपस्सना शब्द का अर्थ होता है - देखना, लौटकर देखना ।
बुद्ध कहते थे - इहि पस्सिको, आओ और देखो । बुद्ध किसी धारणा का आग्रह नहीं रखते । बुद्ध के मार्ग पर चलने के लिए ईश्वर को मानना न मानना, आत्मा को मानना न मानना आवश्यक नहीं है । बुद्ध का धर्म अकेला धर्म है इस पृथ्वी पर जिसमें मान्यता, पूर्वाग्रह, विश्वास इत्यादि की कोई भी आवश्यकता नहीं है । बुद्ध का धर्म अकेला वैज्ञानिक धर्म है ।
बुद्ध कहते - आओ और देख लो । मानने की जरूरत नहीं है । देखो, फिर मान लेना । और जिसने देख लिया, उसे मानना थोड़े ही पड़ता है मान ही लेना पड़ता है । और बुद्ध के देखने की जो प्रक्रिया थी, दिखाने की जो प्रक्रिया थी, उसका नाम है - विपस्सना ।
विपस्सना बड़ा सीधा सरल प्रयोग है । अपनी आती जाती श्वास के प्रति साक्षीभाव । श्वास जीवन है । श्वास से ही तुम्हारी आत्मा और तुम्हारी देह जुड़ी है । श्वास सेतु है । इस पार देह है, उस पार चैतन्य है, मध्य में श्वास है । यदि तुम श्वास को ठीक से देखते रहो, तो अनिवार्य रूपेण, अपरिहार्य रूप से, शरीर से तुम भिन्न अपने को जानोगे । श्वास को देखने के लिए जरूरी हो जायेगा कि तुम अपनी आत्मचेतना में स्थिर हो जाओ ।
बुद्ध कहते नहीं कि आत्मा को मानो । लेकिन श्वास को देखने का और कोई उपाय ही नहीं है । जो श्वास को देखेगा, वह श्वास से भिन्न हो गया, और जो श्वास से भिन्न हो गया वह शरीर से तो भिन्न हो ही गया । क्योंकि शरीर सबसे दूर है उसके बाद श्वास है उसके बाद तुम हो । अगर तुमने श्वास को देखा तो श्वास के देखने में शरीर से तो तुम अनिवार्य रूपेण छूट गए ।
शरीर से छूटो, श्वास से छूटो, तो शाश्वत का दर्शन होता है । उस दर्शन में ही उड़ान है, ऊंचाई है, उसकी ही गहराई है । बाकी न तो कोई ऊंचाइयां हैं जगत में, न कोई गहराइयां हैं जगत में । बाकी तो व्यर्थ की आपाधापी है ।
फिर श्वास अनेक अर्थों में महत्वपूर्ण है । यह तो तुमने देखा होगा, क्रोध में श्वास एक ढंग से चलती है, करुणा में दूसरे ढंग से । दौड़ते हो, एक ढंग से चलती है आहिस्ता चलते हो, दूसरे ढंग से चलती है । चित्त ज्वरग्रस्त होता है, एक ढंग से चलती है तनाव से भरा होता है, एक ढंग से चलती है और चित्त शांत होता है, मौन होता है, तो दूसरे ढंग से चलती है । 
श्वास भावों से जुड़ी है । भाव को बदलो, श्वास बदल जाती है़ । श्वास को बदल लो, भाव बदल जाते हैं । जरा कोशिश करना । क्रोध आये, मगर श्वास को डोलने मत देना । श्वास को थिर रखना, शांत रखना । श्वास का संगीत अखंड रखना । श्वास का छंद न टूटे । फिर तुम क्रोध न कर पाओगे । तुम बड़ी मुश्किल में पड़ जाओगे, करना भी चाहोगे तो क्रोध न कर पाओगे । क्रोध उठेगा भी तो भी गिर गिर जायेगा । क्रोध के होने के लिए जरूरी है कि श्वास आंदोलित हो जाये । श्वास आंदोलित हो तो भीतर का केंद्र डगमगाता है । नहीं तो क्रोध देह पर ही रहेगा । देह पर आये क्रोध का कुछ अर्थ नहीं है, जब तक कि चेतना उससे आंदोलित न हो । चेतना आंदोलित हो, तो जुङ गये ।
फिर इससे उल्टा भी सच है - भावों को बदलो, श्वास बदल जाती है । तुम कभी बैठे हो सुबह उगते सूरज को देखते नदी तट पर । भाव शांत हैं । कोई तरंगें नहीं चित्त में । उगते सूरज के साथ तुम लवलीन हो । लौटकर देखना, श्वास का क्या हुआ ? श्वास बड़ी शांत हो गयी । श्वास में एक रस हो गया, एक स्वादछंद बंध गया श्वास संगीतपूर्ण हो गयी । 
विपस्सना का अर्थ है शांत बैठकर, श्वास को बिना बदले खयाल रखना प्राणायाम और विपस्सना में यही भेद है । प्राणायाम में श्वास को बदलने की चेष्टा की जाती है, विपस्सना में श्वास जैसी है वैसी ही देखने की आकांक्षा है । जैसी है - ऊबड़ खाबड़ है, अच्छी है, बुरी है, तेज है, शांत है, दौड़ती है, भागती है, ठहरी है, जैसी है ।
बुद्ध कहते हैं - तुम अगर चेष्टा करके श्वास को किसी तरह नियोजित करोगे, तो चेष्टा से कभी भी महत फल नहीं होता । चेष्टा तुम्हारी है । तुम ही छोटे हो । तुम्हारी चेष्टा तुमसे बड़ी नहीं हो सकती । तुम्हारे हाथ छोटे हैं । तुम्हारे हाथ की जहां जहां छाप होगी, वहां वहां छोटापन होगा ।
इसलिए बुद्ध ने यह नहीं कहा है कि - श्वास को तुम बदलो । बुद्ध ने प्राणायाम का समर्थन नहीं किया है । बुद्ध ने तो कहा - तुम तो बैठ जाओ । श्वास तो चल ही रही है । जैसी चल रही है बस बैठकर देखते रहो । जैसे राह के किनारे बैठकर कोई राह चलते यात्रियों को देखे कि नदी तट पर बैठ कर नदी की बहती धार को देखे । तुम क्या करोगे ? आई एक बड़ी तरंग तो देखोगे और नहीं आई तरंग तो देखोगे । राह पर निकली कारें, बसें, तो देखोगे नहीं निकलीं, तो देखोगे । गाय भैंस निकलीं, तो देखोगे । जो भी है,गाय भैंस निकलीं, तो देखोगे । जो भी है, जैसा है, उसको वैसा ही देखते रहो । जरा भी उसे बदलने की आकांक्षा आरोपित न करो । बस शांत बैठ कर श्वास को देखते रहो । देखते देखते ही श्वास और शांत हो जाती है । क्योंकि देखने में ही शांति है ।
और निर्चुनाव, बिना चुने देखने में बड़ी शांति है । अपने करने का कोई प्रश्न ही न रहा । जैसा है ठीक है । जैसा है शुभ है । जो भी गुजर रहा है आंख के सामने से, हमारा उससे कुछ लेना देना नहीं है । तो उद्विग्न होने का कोई सवाल नहीं, आसक्त होने की कोई बात नहीं । जो भी विचार गुजर रहे हैं, निष्पक्ष देख रहे हो । श्वास की तरंग धीमे धीमे शांत होने लगेगी । श्वास भीतर आती है, अनुभव करो स्पर्शनासापुटों में । श्वास भीतर गयी, फेफड़े फैले अनुभव करो फेफड़ों का फैलना । फिर क्षण-भर सब रुक गया । अनुभव करो उस रुके हुए क्षण को । फिर श्वास बाहर चली, फेफड़े सिकुड़े, अनुभव करो उस सिकुड़ने को । फिर नासापुटों से श्वास बाहर गयी । अनुभव करो उत्तप्त श्वास नासापुटों से बाहर जाती । फिर क्षण भर सब ठहर गया, फिर नयी श्वास आयी ।
यह पड़ाव है । श्वास का भीतर आना, क्षण भर श्वास का भीतर ठहरना, फिर श्वास का बाहर जाना, क्षण भर फिर श्वास का बाहर ठहरना, फिर नयी श्वास का आवागमन, यह वर्तुल है । वर्तुल को चुपचाप देखते रहो । करने की कोई भी बात नहीं, बस देखो । यही विपस्सना का अर्थ है ।
क्या होगा इस देखने से ? इस देखने से अपूर्व होता है । इसके देखते देखते ही चित्त के सारे रोग तिरोहित हो जाते हैं । इसके देखते देखते ही, मैं देह नहीं हूं, इसकी प्रत्यक्ष प्रतीति हो जाती है । इसके देखते देखते ही, मैं मन नहीं हूं, इसका स्पष्ट अनुभव हो जाता है । और अंतिम अनुभव होता है कि मैं श्वास भी नहीं हूं । फिर मैं कौन हूं ? 
फिर उसका कोई उत्तर तुम दे न पाओगे । जान तो लोगे, मगर गूंगे का गुड़ हो जायेगा । वही है उड़ान । पहचान तो लोगे कि मैं कौन हूं, मगर अब बोल न पाओगे । अब अबोल हो जायेगा । अब मौन हो जाओगे । गुनगुनाओगे भीतर भीतर, मीठा मीठा स्वाद लोगे, नाचोगे मस्त होकर, बांसुरी बजाओगे पर कह न पाओगे ।
और विपस्सना की सुविधा यह है कि कहीं भी कर सकते हो । किसी को कानों कान पता भी न चले । बस में बैठे, ट्रेन में सफर करते, कार में यात्रा करते, राह के किनारे, दुकान पर, बाजार में, घर में, बिस्तर पर लेटे किसी को पता भी न चले । क्योंकि न तो कोई मंत्र का उच्चार करना है, न कोई शरीर का विशेष आसन चुनना है । धीरे धीरे इतनी सुगम और सरल बात है और इतनी भीतर की है, कि कहीं भी कर ले सकते हो । और जितनी ज्यादा विपस्सना तुम्हारे जीवन में फैलती जाये उतने ही एक दिन बुद्ध के इस अदभुत आमंत्रण को समझोगे - इहि पस्सिको आओ और देख लो ।
बुद्ध कहते हैं - ईश्वर को मानना मत । क्योंकि शास्त्र कहते हैं मानना तभी जब देख लो । 
बुद्ध कहते हैं - इसलिए भी मत मानना कि मैं कहता हूं । मान लो तो चूक जाओगे । देखना, दर्शन करना । और दर्शन ही मुक्तिदायी है । 
मान्यताएं हिंदू बना देती हैं । मुसलमान बना देती हैं । ईसाई बना देती हैं । जैन बना देती हैं । बौद्ध बना देती हैं । 
दर्शन तुम्हें परमात्मा के साथ एक कर देता है ।
फिर तुम न हिंदू हो । न मुसलमान, न ईसाई, न जैन, न बौद्ध फिर तुम परमात्ममय हो । और वही अनुभव पाना है । वही अनुभव पाने योग्य है । ओशो
पाली भाषा में ‘आन’ का अर्थ है श्वास लेना और ‘अपान’ का अर्थ है श्वास छोड़ना और ‘सति’ का अर्थ है ‘के साथ मिल कर रहना’
गौतम बुद्ध ने हज़ारों वर्ष पूर्व ध्यान की यह विधि सिखाई थी । साँस तो हम सभी लेते हैं । परन्तु इस क्रिया के प्रति जागरूक नहीं होते । ‘आनापानसति’ में व्यक्ति को अपना पूरा ध्यान और जागरूकता अपनी सामान्य श्वसन-प्रक्रिया पर रखने की आवश्यकता होती है । यह आवश्यक है कि हम साँस पर सजगतापूर्वक अपनी निगाह टिकाकर रखें । साँस की क्रिया तो स्वाभाविक रूप से चलती रहनी चाहिए । साँस को किसी भी रूप में रोकना नहीं है । हमें अपनी ओर से इसकी गति में किसी भी प्रकार का परिवर्तन लाने का प्रयास नहीं करना है । जब मन इधर उधर भागने लगे तो तुरन्त विचारों पर रोक लगाकर पुनः अपने ध्यान को श्वास की सामान्य लय पर ले आना चाहिए । स्वयं को शिथिल छोड़कर मात्र प्रेक्षक बन जाना चाहिए । इससे हमारी चेतना का विस्‍तार होता है तथा हमारी जागरूकता बढ जाती है ।

योग साधना के 14 विघ्न

योग साधना में 14 प्रकार के विघ्न पतंजलि ने योगसूत्र में बताये हैं और साथ ही इनसे छूटने का उपाय भी बताया है । राम के 14 वर्ष का वनवास इन्हीं 14 विघ्न व इनको दूर करने का सूचक हैं । 14 विघ्न इस प्रकार हैं ।
1 व्याधि - शरीर एवं इन्द्रियों में किसी प्रकार का रोग उत्पन्न होना ।
2 स्त्यान - सत्कर्म/साधना के प्रति होने वाली ढिलाई, अप्रीति, जी चुराना ।
3 संशय - अपनी शक्ति या योग प्राप्ति में संदेह उत्पन्न होना ।
4 प्रमाद - योग साधना में लापरवाही बरतना ।
5 आलस्य - शरीर व मन में एक प्रकार का भारीपन आ जाने से योग साधना न कर पाना ।
6 अविरति - वैराग्य की भावना को छोड़कर सांसारिक विषयों की ओर पुनः भागना ।
7 भ्रान्ति दर्शन - योग साधना को ठीक से नहीं समझना । विपरीत अर्थ समझना सत्य को असत्य और असत्य को सत्य समझ लेना ।
8 अलब्धभूमिकत्व - योग के लक्ष्य की प्राप्ति नहीं होना । योगाभ्यास के बावजूद भी साधना में विकास नहीं दिखता है । इससे उत्साह कम हो जाता है ।
9 अनवस्थितत्व - चित्त की विशेष स्थिति बन जाने पर भी उसमें स्थिर नहीं होना ।
दुखःदौर्मनस्यःअङ्गमेजयत्व‌ःश्वासःप्रश्वासा विक्षेप सह्भुवः ।
योगसूत्र, समाधि पाद, सूत्र 31
10 दुख - तीन प्रकार के दुख आध्यात्मिक,आधिभौतिक और आधिदैविक ।
11 दौर्मनस्य - इच्छा पूरी नहीं होने पर मन का उदास हो जाना या मन में क्षोभ उत्पन्न होना ।
12 अङ्गमेजयत्व‌ - शरीर के अंगों का कांपना ।
13 श्वास - श्वास लेने में कठिनाई या तीव्रता होना ।
14 प्रश्वास - श्वास छोड़ने में कठिनाई या तीव्रता होना ।
इस प्रकार ये 14 विघ्न होते हैं यदि साधक अपनी साधना के दौरान ये विघ्न अनुभव करता हो । तो इनको दूर करने के उपाय करे ।
----------------
साधना के विघ्नों को दूर करने के उपाय -
1 तत्प्रतिषेधार्थमेकतत्त्वाऽभ्यासः ।32। 
योग के उपरोक्त विघ्नों के नाश के लिए एक तत्व ईश्वर का ही अभ्यास करना चाहिए ॐ का जप करने से ये विघ्न शीघ्र ही नष्ट हो जाते हैं ।
2 मैत्रीकरुणामुदितोपेक्षाणां सुखदुःखपुण्यापुण्यविषयाणां भावनातश्चित्तप्रसादनम ।33।
सुखीजनों से मित्रता, दुखी लोगों पर दया, पुण्यात्माओं में हर्ष और पापियों की उपेक्षा की भावना से चित्त स्वच्छ हो जाता है और विघ्न शांत होते हैं ।
3 प्रच्छर्दनविधारणाभ्यां वा प्राणस्य ।34। 
श्वास को बारबार बाहर निकालकर रोकने से उपरोक्त विघ्न शांत होते हैं । इसी प्रकार श्वास भीतर रोकने से भी विघ्न शांत होते हैं ।
4 विषयवती वा प्रवृत्तिरुत्पन्ना मनसः स्थितिनिबन्धिनी ।35। 
दिव्य विषयों के अभ्यास से उपरोक्त विघ्न नष्ट होते हैं ।
5 विशोका वा ज्योतिष्मती ।36। 
हृदय कमल में ध्यान करने से या आत्मा के प्रकाश का ध्यान करने से भी उपरोक्त विघ्न शांत हो जाते हैं ।
6 वीतरागविषयं वा चित्तम ।37। 
राग द्वेष रहित संतों, योगियों, महात्माओं के शुभ चरित्र का ध्यान करने से भी मन शांत होता है और विघ्न नष्ट होते हैं ।
7 स्वप्ननिद्राज्ञानालम्बनं वा ।38। 
स्वपन और निद्रा के ज्ञान का अवलंबन करने से, अर्थात योगनिद्रा के अभ्यास से उपरोक्त विघ्न शांत हो जाते हैं ।
8 यथाभिमतध्यानाद्वा ।39। 
उपरोक्त में से किसी भी एक साधन का या शास्त्र सम्मत अपनी पसंद के विषयों ( मंत्र, श्लोक, भगवान के सगुण रूप आदि ) में ध्यान करने से भी विघ्न नष्ट होते हैं ।
------------
यह मन काम क्रोध सुख भोगा । मन भोगी है मन है रोगा ।
------------
नहिं कोई बंधा नहिं कोई छुटा । संशय के बस सब जग लूटा ।
तुम्हारी दया सो हम जाना । मुक्ति अमुक्ति दोउ भर्माना ।
---------------
क्या निर्गुण क्या सगुण कहिए । वोय तो दोय से न्यारा है ।
पांच तत्व माया यह कहिए । कर्म काम का जारा है ।
---------------
आपहि सब में रमा है । आप सबन के पार ।
आप भुलानो आप में बंधो आपही आप ।
जाको ढूंढत फिरतहौ सो तुम आपहि आप ।

परीक्षित का मृत्यु भय

राजा परीक्षत को भागवत सुनाते हुए जब शुकदेव को 6 दिन बीत गये और सर्प के काटने से मृत्यु होने का 1 दिन रह गया । तब भी राजा का शोक और मृत्यु भय दूर न हुआ । कातर भाव से अपने मरने की घड़ी निकट आती देखकर राजा क्षुब्ध हो रहा था ।
शुकदेव ने राजा को एक कथा सुनाई - राजन, बहुत समय पहले की बात है । एक राजा किसी जंगल में शिकार खेलने गया । संयोगवश वह रास्ता भूलकर बड़े घने जंगल में जा निकला । रात्रि हो गई । वर्षा पड़ने लगी । सिंह व्याघ्र बोलने लगे । राजा बहुत डरा और किसी प्रकार रात्रि बिताने के लिए विश्राम का स्थान ढूँढ़ने लगा । कुछ दूर पर उसे दीपक दिखाई दिया । वहाँ पहुँचकर उसने एक गन्दे बीमार बहेलिये की झोंपड़ी देखी । वह चल फिर नहीं सकता था । इसलिए झोंपड़ी में ही एक ओर उसने मल मूत्र त्यागने का स्थान बना रखा था । अपने खाने के लिये जानवरों का माँस उसने झोंपड़ी की छत पर लटका रखा था । बड़ी गन्दी, छोटी, अन्धेरी और दुर्गन्धयुक्त वह कोठरी थी । उसे देखकर राजा पहले तो ठिठका । पर पीछे उसने और कोई आश्रय न देखकर विवशतावश उस बहेलिये से अपनी कोठरी में रात भर ठहर जाने देने के लिए प्रार्थना की ।
बहेलिये ने कहा - आश्रय हेतु कुछ राहगीर कभी कभी यहाँ आ भटकते हैं और मैं उन्हें ठहरा लेता हूँ । लेकिन दूसरे दिन जाते समय वे बहुत झंझट करते हैं । इस झोंपड़ी की गन्ध उन्हें ऐसी भा जाती है कि फिर उसे छोड़ना ही नहीं चाहते । इसी में रहने की कोशिश करते हैं और अपना कब्जा जमाते हैं । ऐसे झंझट में मैं कई बार पड़ चुका हूँ । अब किसी को नहीं ठहरने देता । आपको भी इसमें नहीं ठहरने दूँगा । 
राजा ने प्रतिज्ञा की, कसम खाई कि वह दूसरे दिन इस झोंपड़ी को अवश्य खाली कर देगा । उसका काम तो बहुत बड़ा है । यहाँ तो वह संयोगवश ही आया है । सिर्फ एक रात ही काटनी है ।
बहेलिये न अनमनस्यक होकर राजा को झोंपड़ी के कोने में ठहर जाने दिया । पर दूसरे दिन प्रातःकाल ही बिना झंझट किये झोंपड़ी खाली कर देने की शर्त को फिर दुहरा दिया ।
राजा एक कोने में पड़ा रहा । रात भर सोया । सोने में झोंपड़ी की दुर्गन्ध उसके मस्तिष्क में ऐसी बस गई कि सवेरे उठा तो उसे वही सब परमप्रिय लगने लगा । राजकाज की बात भूल गया और वहीं निवास करने की बात सोचने लगा ।
प्रातःकाल जब राजा और ठहरने के लिये आग्रह करने लगा । तो बहेलिये ने लाल पीली आँखें निकाली और झंझट शुरू हो गया । झंझट बढ़ा । उपद्रव और कलह का रूप धारण कर लिया । राजा मरने मारने पर उतारू हो गया । उसे छोड़ने में भारी कष्ट और शोक अनुभव करने लगा ।
शुकदेव ने पूछा - परीक्षित । बताओ, उस राजा के लिए क्या यह झंझट उचित था ?
परीक्षित ने कहा - भगवान वह कौन राजा था, उसका नाम तो बताईए । वह तो बड़ा मूर्ख मालूम पड़ता है कि ऐसी गन्दी कोठरी में अपनी प्रतिज्ञा तोड़कर राजकाज छोड़कर, नियत अवधि से भी अधिक रहना चाहता था । उसकी मूर्खता पर तो मुझे भी क्रोध आता है ।
शुकदेव ने कहा - परीक्षित । वह और कोई नहीं तुम स्वयं हो । इस मलमूत्र की कोठरी देह में जितने समय तुम्हारी आत्मा को रहना आवश्यक था वह अवधि पूरी हो गई । अब उस लोक को जाना है । जहाँ से आप थे । इस पर भी आप झंझट फैला रहे हैं । मरना नहीं चाहते । एवं मरने का शोक कर रहे हो । क्या यह उचित है ?
राजा ने कथा के मर्म को स्वयं पर आरोपित किया । एवं मृत्यु भय को भुलाते हुए मानसिक रूप से निर्वाण की अपनी तैयारी कर ली । अन्तिम दिन का कथा श्रवण उन्होंने पूरे मन से किया ।

21 मई 2016

यही - मुक्त मंडल है

फ़ेसबुक पर इस फ़ोटो को कवर फ़ोटो बनाने पर अविनाश कुमार ने यह हल्के फ़ुल्के हास्य अन्दाज में टिप्पणी की । 
- जैसे आजकल चर्चा में है, संघ मुक्त भारत, भाजपा मुक्त भारत, कांग्रेस मुक्त भारत, क्या वैसे ही ये ‘ट्रुथ मुक्त मण्डल’ है ?
(तब मैंने निम्न उत्तर दिया ।)
- कोई 11 वर्ष पहले मैंने मुक्त मंडल की स्थापना की थी । ये शब्द या नाम अचानक से उठा था । बिना कुछ सोचे विचारे । मुक्त मंडल का अर्थ है - पूरे ब्रह्मांड में कहीं भी बिना वहाँ के पासपोर्ट और वीजा के जाने/रहने को स्वतन्त्र होना, याने - स्वेच्छा से ।
(फ़िर इन शब्दों के साथ आध्यात्म स्थितियों पर तर्क होना शुरू हो गया । निम्न में अंग्रेजी भाषा में श्री पंकज जी द्वारा लिखा है और उनके हिन्दी में उत्तर मेरे द्वारा । पठन सुविधा हेतु पंकज जी के वाक्यों को # और अपने कथन को * द्वारा चिह्नित किया है ।)

# Nobody can forecast about 4 his future. It is all are tukkas (तुक्के) to be fitted or not to b. Experiences with the energy depend on your thoughts that are stored in your nervous system. Living in body u can't move outer cosmos..It occurs only on nervous system feeling outer cosmos.

 * Living in body u can't move outer cosmos.
--------
मन, बुद्धि, शरीर और प्रकृति से परे है - असली सत्य !
जैसे ही सभी धारणायें और बंधन छूट (या टूट) जाते हैं । सिर्फ़ ‘है’ रह जाता है ।
बस एक बार पूरा मोह-क्षय = मोक्ष हो जाये ।
your thoughts that are stored in your nervous system
----------
ज्ञान में नर्वस सिस्टम जैसा कुछ नहीं होता । सिर्फ़ स्मृति गुण होता है ।
स्पष्टीकरण के लिये अपने गुरु से बात करें ।

# Remember u r living in more advanced world where no place exists 4 hypothetical things. Face book is also outcome of brain that explored 2 new earths out of this solar system receiving photos.
* लेकिन फ़ेसबुकी बुद्धि या न्यूटनी या आइंस्टीन ने सिर्फ़ उनको जाना । निर्माण और स्थित नहीं किया । स्मरण रहें - सभी ग्रहादि रचना निराधार है । वह कैसे ?

# Is it less impotant ? No all systems are not baseless. They stand through isostacy. Dhudh mein light.. Brain proved this
* सभी कुछ निराधार ही है । पर वह पदार्थ की परिकल्पना से परे ज्ञात होता है ।
हाँ, सृष्टि वैचारिक रूप से बङी जटिलता से गुंथी है । जिसका भी नियन्त्रण एकात्मा के हाथ ही रहता है ।
Is it less impotant
नीचे से देखो तो ही महत्वपूर्ण लगता है ।
ऊपर से देखो तो यह सृष्टि की सिर्फ़ निरन्तरता भर है ।
Dhudh mein light - कहाँ, घी होता है । और वह स्वतः सिद्ध है - प्राकृतिक रूप से

# Where will memory stay. It will b only in nervous system with thinking reasoning comparison imagine and even creativity that effects natural realisation. G Y A N hypothetical originally created by Guru kahin n kahin to rahega body mein. All nerves of body that are internally with each other receiving natural experiences get teaching ENERGY either in form of power or LIGHT to nadi idea pingla and sushmna these are an integral part BRAIN shorting this and forgetting all except minute realization we will receive an immense natural pleasure.
* मेरुदंड पर डालि दुलेची, जोगिन तारी लाया ।
सोई सुमेर पर खाक उडमनी, कच्चा जोग कमाया ।
इंगला बिनसे पिंगला बिनसे, बिनसे सुखमनि नाड़ी ।
जब उन्मुनि की तारी टूटे, तब कहँ रही तुम्हारी ।
(ज्ञान में उच्च स्थिति को प्राप्त करने के बाद जब कारण शरीर से पार हो जाता है और सारे बीज निर्बीज हो जाते है । तब शरीर के मृत्यु द्वारा नष्ट होने पर भी सभी याद रहता है - वो किस नाङी में होता है ?)
अद्वैत वैराग कठिन है भाई, अटके मुनिवर जोगी ।
अक्षर लौं की गम्म बतावै, सो है मुक्ति बिरोगी ।
प्रेतों के स्थूल शरीर और नाङियां नहीं होती । उन्हें कैसे याद रहता है ?
बर्बरीक ने सिर्फ़ कटे सिर से पूरा महाभारत देखा था । उसका नर्व सिस्टम क्या था ?

# Khopadi is storage of energy that is a driving force Brain
* खोपङी तो महज हड्डियों और मज्जा का ढांचा है । इसमें ‘बल’ कहाँ से आ रहा है ?
सैकङों मृतक खोपङियां सालों सुरक्षित रहती हैं ।

# There is very close relationship between hardware and software and without hardware u can't use this Facebook or twitter.
Force was received through collaboration of mother and father.
* लेकिन जो इंटरनेटिक लहरें आ रहीं हैं । वो अदृश्य, अप्रत्यक्ष और अ-तार हैं । उनमें कौन सा हार्डवेयर और साफ़्टवेयर है ? और वही मुख्य हैं ।

# WO bhi scientists ke brain ke hardware and software se possible hua hai.
* फ़िर सांइटिस्ट के ब्रेन हार्डवेयर साफ़्टवेयर को क्षमता/ बल किससे प्राप्त हुआ ? खोपङी तो सभी की (बाह्य) एक समान है ।
Force was received through collaboration of mother and father
फ़िर माता पिता को यह ‘बल’ कहाँ से आता है ?

# Ghuma phira kar u can't move me to hypothetical that have many interpitation to b trued finally
* हमारा विषय ही मुक्त मंडल और केवल सत्य है ।
गौर करें - स्थितिजन्य सत्य असत्य नहीं ।
**************
और एक अन्य टिप्पणी -
rajiv ji iske bare me kuch jankari bhi pardan kre. kya h mukat mandal ?
उत्तर - सर्वोच्च ‘सुरति शब्द योग’ व जीवात्मा के मोक्ष को आदिविधान द्वारा सिखाने/अभ्यास/क्रियान्वित कराने हेतु इस संस्था को स्थापित किया है । यहाँ क्रिया योग प्रधान है । यही - मुक्त मंडल है ।

सोऽहंग सार - जीवन के पार

अधिकांश ही मेरे देखने में आया है कि इंटरनेट पर आत्मज्ञान प्रचार के मामले में लगभग मौलिक, आधारीय सामग्री का एकदम अभाव सा है । इसके बजाय अधिकाधिक लोग अपना मिर्च मसाला जोङकर या गुरु अथवा संस्था का प्रचार करने पर अधिक जोर देते हैं । जो कि मैंने आरम्भ से ही नही किया । मेरा मानना है कि ज्ञान के लिये अधिकाधिक उपयोगी और गहन जानकारी युक्त सामग्री पर अधिक ध्यान देना चाहिये ।
अपने अनुभव अपने भाव बताना ठीक है लेकिन ‘मूल सत्य’ सदैव इससे अलग ही रहता है ? सर्वाधिक प्रमाणित और शाश्वत सत्य का संदेश देती कबीर की वाणी ही इस हेतु सर्वोपरि है । अतः इसको ज्यादा से ज्यादा शुद्ध 

और विचारणीय सूत्रों, गुह्य सूत्रों के रूप में आत्मज्ञान के जिज्ञासुओं तक पहुँचाना मेरा भाव है । इनका अर्थ और व्याख्या इसलिये नही करता । क्योंकि फ़िर उससे आपको न के बराबर लाभ होगा ।
क्योंकि -
जिन खोजा तिन पाईया, गहरे पानी पैठि । 
----------------
यह 10 सोऽहंग हैं । जिसका गुरु जहाँ की सूचना देगा । वह उसी स्थान को पहुँचेगा । समस्त जीवों में सोऽहंग

प्रवेशित हो रहा है और समस्त शरीर से यही शब्द निकल रहा है और समस्त का सार, सिद्धांत यह है कि इसके ध्यान से ज्ञान है और उससे ही शान्ति है ।
10 सोऽहंग - 1 सत्यपुरुष सोऽहंग 2 सहज सोऽहंग 3 अंकुर सोऽहंग 4 इच्छा सोऽहंग 5 सोऽहंग सोऽहंग 6 अचिन्त्य सोऽहंग 7 अक्षर सोऽहंग 8 निरंजन और माया सोऽहंग 9 ब्रह्मा, विष्णु, शंकर सोऽहंग 10 समस्त जीव सोऽहंग ।
-----------------
सोऽहंग शब्द है अगम अपारा । तुमसों धर्मनि कहौ विचारा ।
पेङ सोऽहंग और सब डारा । साखा सोऽहं कीन्ह प्रकारा ।
प्रथम ‘सहज सोऽहंग’ की वानी । दूसरि ‘इच्छा सोइ’ उपतानी ।
तीसरे ‘मूल सोऽहं’ है भाई । चौथे ‘सोऽहं सोऽहं’ निर्माई ।
सोऽहंग ते भये सोइ अतीता । जाको नाम जो कहो ‘अंचिता’ ।
अचिंतहि ते अक्षर सोऽहंगा । अक्षर सोऽहंग ते ‘कैल सोऽहंगा’ ।
कैल सोऽहंग ते ‘त्रिगुण सोऽहंगा’ । सोऽहंग ते सकल सृष्टि को रंगा ।
अमृत वस्तु ते नौ पकारा । सोऽहंग शब्द के सुमिरन सारा ।
सो सोऽहं अचीन्हि जो पावै । सोऽहं डोर गहि लोक सिधावै ।
जा घट होइ सोऽहं मतसारा । सोइ आवहु लोक हमारा ।
सुरति सोऽहं ह्रदय महँ राखो । परचे ज्ञान तुम जग में भाषो ।
एती सिद्धि सोऽहं की भाई । धर्मदास तुम गहौ बनाई ।
-----------
अजावन वीरा आवै हाथा । तब हंसा चले हमरे साथा ।
ताकैं पुनि चहि आवै डोरी । टूटे घाट अठासी करोरी ।
सोऽहं करनी सोऽहं विचारा । सोऽहं शब्द है जिव उजियारा ।
------------------
अक्षर
अक्षर अक्षर अतीत की बानी । निःअक्षर कोई बिरले जानी ।
निःअक्षर की अक्षर स्वांसा । नहि धरनी नहि गगन प्रकासा ।
अक्षर तीन लोक विस्तारा । ता में उरझो सब संसारा ।
तीन सुत तेज अंडमों आई । आप आप इन्हें आप दृढ़ाई ।
चार वेद कहें तिन की साखी । अक्षर अतीत थाप उन्ह राखी ।
-----------
सुरति के स्थान 
अब भिन्न भिन्न कहूँ अर्थाई । सात सुरति के स्थान बताई ।
अक्षर अतीत माया सों कहिये । सोई सुरति निरंजन लहिये ।
अक्षर सुरति दुतिय है स्थाना । जिनके चार वेद परवाना ।
शब्दातीत अनहद रहता । प्रेमधाम अक्षर की चहता ।
चार सुरति का भेद नियारा । तीन सुरति का देउ विचारा ।
पांचे सुरति अंकुर की बानी । पांचे स्थान तेहि ठहरानी ।
छठे स्थान अंकुर की है आपा । जेहि ते सात करी उततापा ।
सातवीं सुरति सहज की रही । उहि समरथ को देखा सही ।
सात सुरति सात हैं स्थाना । मूल सुरति है समर्थ प्रमाना ।
सहज सुरत सब सुर्त उपजाई । मूल सुरति लै हंस समाई ।
मूल सुरति है सबको मूला । सात सुरति को एक स्थूला ।
सात सुरति मूल सिध सब माहीं । धर्मदास लखि राखौ ताहीं ।
शब्द पांजी इतना परमाना । अब कहूँ काया की बंधाना ।
सातों सुरति काया में रहें । औ काया धरि बातें कहें ।
------------
सुरति स्थान
प्रथमहि दीप अमर मनियारा । तहँ वा मूल सुरति बैठारा ।
दूसरा अजर दीप तहाँ कीन्हा । सहज सुरति को बैठक दीन्हा ।
तीसर दीप हिरण्मय सोई । सुरति अंकुर की बैठक होई ।
चौथे दीप सुरंग निर्मावा । ओऽहं सोऽहं तहाँ बैठावा ।
पाँचवे अधर दीप रहे वासा । तहाँ है अचिंत सुरति को वासा ।
छठये पच्छ दीप जो कीन्हा । तहँ अक्षर सुरति को बैठक दीन्हा ।
सातवीं सुरति कलदीप बिलमाना । काम क्रोध मोह तहाँ समाना ।
सातवीं सुरति सातहूँ स्थाना । तीन सुरति निरंजन काल प्रमाना ।
पुहुप दीप है सब ते नियारा । तहाँ समर्थ से जीव विस्तारा ।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Follow by Email