23 सितंबर 2017

सावधान ! Alert

Please Be Alert..
कृपया सावधान रहें.. 
According to Kaalsutrabhishekam,
कालसूत्राभिषेकम के अनुसार
Instantly worst earthquake could (99.9%) hit in Himalayan region with areas mentioned in my book and earlier posts.
बहुत जल्द हिमालय क्षेत्र एवं अन्य क्षेत्रों में (जिनका वर्णन मैंने पिछले पोस्ट में किया था) भयावह भूकंप आने वाला है ।
जिसकी संभावना 99.9% है
It will cover more than 1000 km, which can destroy everything’s.
यह भूकंप अपने केन्द्र से 1000 किमी तक सब कुछ समाप्त कर देगा ।
Before worst earthquake in Earth there will be three big earthquakes will hit in triangle area and world will suffer by fire or volcano.
इस भयावह भूकंप के पूर्व त्रिकोण क्षेत्र में बड़े भूकंप आयेंगे ।
तथा उस विनाशकारी भूकंप के पूर्व विश्व के लोगों को भयावह आग अथवा ज्वालामुखी विस्फ़ोट का सामना करना पड़ेगा ।
As I wrote in a previous post that a big earthquake will hit like 8.5 to 9.5 mag, when Jupiter transit in virgo.
(11 August 2016 to 12th September 2017)
पिछले पोस्टों में मैंने लिखा था कि जब कन्या राशि में वृहस्पति रहेंगे ।
तो 8.5 से 9.5 रिक्टर का भूकंप आएगा ।
यह समय 11 अगस्त 2016 से 12 सितम्बर 2017 के मध्य का था ।
(8.5 से ऊपर का भूकंप 25 से 50 वर्ष में एक-दो बार आता है)
As predicted, 8.4 mag Earthquake hits in Mexico Sea on 8th September 2017, thereafter constant earthquake occurred in maxico.
अतः गणना के अनुसार 08 सितम्बर 2017 को मेक्सिको में 8.4 रिक्टर का भूकंप आया ।
उसके बाद मेक्सिको में लगातार भूकंप आता गया ।
(पिछले 15 दिनों में मेक्सिको में 4 रिक्टर से ऊपर करीब 100 से ज्यादा भूकंप आ चुका है)

Because transit of era with we are destroying mountain, rainforests, nature; So Now Nature is taking revenge on its own way like earthquake, tsunami, floods, and eruptions of volcano.
यह समय चक्र ही है जिसे आप महायुग का अन्त-काल कह सकते हैं ।
तथा वो विनाश जो स्वयं मानव ने किया है ।
जिसका बदला प्रकृति भूकंप, सुनामी, बाढ़, ज्वालामुखी विस्फ़ोट द्वारा ले रही है ।
(आज से 15-20 वर्ष पूर्व इतना भूकंप नहीं आता था 7 रिक्टर से ऊपर का ।
जितना अब प्रत्येक सप्ताह आ रहा है)
In previous post, I wrote before election of USA that Mr. Donald trump will last President of United states.
अमेरिकी चुनाव के पूर्व मैंने लिखा था कि श्री डोनाल्ड ट्रम्प संयुक्त राष्ट्र के अंतिम राष्ट्रपति होंगे । (वह समय अब आ ही गया है ।
(वर्तमान में दुनिया दो भागों में बँट गयी है ।
कई देशों में तो प्रतिदिन विनाश हो रहा है ।
वहाँ इंसान तो दूर पशु-पक्षी की जिन्दगी नरक बन चुकी है, हजारों बच्चों को मारा जा रहा है)
Now we are facing Third World War,
विश्व आज तृतीय विश्वयुद्ध को झेल रहा है ।
we all are going to be gone within few months by war and natural disasters.
सभी देशों के पास परमाणु हथियार होने के कारण खुलकर युद्ध नहीं हो पा रहा है ।
----------------
किन्तु मेरे अनुसार मार्च 2018 तक विश्व की अधिकांश जनसंख्या समाप्त हो जायेगी ।
कारण विश्वयुद्ध एवं प्राकृतिक आपदा होगी ।
12 अक्तूबर तक तो मेरे गणित का पूर्ण प्रमाण मिल जाएगा ।
बहुत जल्द हमारा देश भारत सहित पड़ोसी में भी विनाशकारी घटनाएँ घटेंगी ।
प्राकृतिक आपदा, युद्ध, गृह-युद्ध के कारण जीवों का महाविनाश होगा ।
-----------------
एक सन्देश भारतीय योग गुरु एवं धार्मिक गुरु के नाम !
आपकी कुण्डली के अनुसार अत्यन्त अशुभ समय आरम्भ हो चुका है ।
कृपया प्रत्येक क्षेत्र में विशेष सावधानी बरतें ।
विशेष अशुभ प्रभाव 17 सितम्बर 2017 से ही आरम्भ हो चुका है ।
---------------
एक भारतीय नेता (पुरुष/स्त्री) को बहुत जल्द सत्ता से हाथ धोना पड़ेगा ।
------------------
Important points from Kaalsutrabhishekam, that published on 8th October 2015, (ISBN 9781329589070).
इन समस्त घटनाओं का जिक्र मैंने अपनी पुस्तक में किया था ।
जो 08 अक्तूबर 2015 को प्रकाशित हुई थी ।
(जिसे आप मेरे वेबसाइट ‘कालसूत्राभिषेकम डॉट कॉम’ से डाउनलोड कर सकते हैं)

As per “Kaalsutrabhishekam” calculations we are in the second phase of Kaliyuga. ‘कालसूत्रभिषेकम’ की गणना के अनुसार हम कलियुग के दूसरे चरण में हैं ।
As per the calculations, 5795 years are remaining for the completion of Kalyuga. गणना के अनुसार, कलयुग के पूरा होने के लिए 579 5 साल शेष हैं ।
By March 21st, 2018, when the earth will re-incline itself at 23.27 degrees,
21 मार्च, 2018 तक, जब पृथ्वी 23.27 डिग्री पर खुद को फिर से बढ़ेगी ।
the situation for Pralaya/Mahapralaya will arise.
प्रलय/महाप्रलय की स्थिति पैदा हो जाएगी।
This condition will prevail till the very end of this particular cycle of Mahayuga.
महायोग के इस विशेष चक्र के अंत तक इस स्थिति का अस्तित्व होगा।
It is predicated that in the mere time interval of three years, there will be massive destruction on planet earth. यह अनुमान लगाया जाता है कि तीन वर्षों के अंतराल में ग्रह पृथ्वी पर बड़े पैमाने पर विनाश होगा।
In the year 2015, geographical changes in the position of earth will start taking place. वर्ष 2015 में, पृथ्वी की स्थिति में भौगोलिक परिवर्तन होने लगेगा।
Natural disasters, earthquakes will be an everyday occurrence.
प्राकृतिक आपदाओं, भूकंप एक हर रोज़ घटना होगी।
The situation will worsen all the more in the year 2016.
स्थिति वर्ष 2016 में और अधिक खराब हो जाएगी
A highly significant change in the geographic position of earth will occur by March 21st 2018.
पृथ्वी की भौगोलिक स्थिति में एक महत्वपूर्ण परिवर्तन 21 मार्च 2018 तक होगा
As the earth proceeds to the inclination position of 23.27 degrees, vibrations in the crust of the earth will increase accordingly. जैसा कि पृथ्वी 23.27 डिग्री के झुकाव की स्थिति से आय करता है, पृथ्वी की परत में कंपन तदनुसार बढ़ेगी।
At 23.27 degrees the possibility of a highly destructive Pralaya will arise.
23.27 डिग्री पर एक उच्च विनाशकारी प्रलय की संभावना पैदा होगी।
Every passing day will see changes in the weather condition, rivers will change their course and rampant changes in the position of North Pole and South Pole will occur in the course of these three years.
हर गुजरते दिन मौसम की स्थिति में परिवर्तन देखेंगे, नदियां अपने पाठ्यक्रम को बदल देगी और उत्तर ध्रुव और दक्षिण ध्रुव की स्थिति में इन तीन वर्षों के दौरान बड़े पैमाने पर परिवर्तन आ जाएगा।
The temperature on the surface of the earth will increase highly by the year 2018.
पृथ्वी की सतह पर तापमान वर्ष 2018 तक अत्यधिक बढ़ जाएगा
This will cause melting of the glaciers/Himalayas.
इससे ग्लेशियर/हिमालय के पिघलने का कारण होगा
This in turn will increase the water level of the Oceans.
इसके बदले में महासागरों के जल स्तर में वृद्धि होगी
The temperature of the Ocean will rise subsequently.
महासागर का तापमान बाद में बढ़ेगा।
Eventually, the outer surface of the earth will heat up and the temperature in the already burning inner crust of the earth will increase all the more.
अंततः, पृथ्वी की बाहरी सतह गर्मी होगी और पृथ्वी के पहले से ही जलने वाले आंतरिक परत में तापमान अधिक बढ़ेगा।
In face of all these climatic and environmental changes, by the year 2018, all the life on Earth will be destroyed owing to Flood/earthquakes/high temperature.
इन सभी जलवायु और पर्यावरणीय परिवर्तनों के चेहरे में वर्ष 2018 तक, धरती पर रहने वाले सभी जीवन में बाढ़/भूकंप/उच्च तापमान के कारण नष्ट हो जाएगा
The geographical changes on the planet earth will affect changes on the moon as well. ग्रह पृथ्वी पर भौगोलिक परिवर्तन के रूप में अच्छी तरह से चंद्रमा पर परिवर्तन को प्रभावित करेगा।
At 23.27 degrees, the vibrations produces on the surface of the earth will affect the gravitational force. 23.27 डिग्री पर, पृथ्वी की सतह पर उत्पन्न कंपन कंपनियां गुरुत्वाकर्षण बल को प्रभावित करेगी।
Because of this distortion in the gravitational force of the Earth, the possibility of collision with smaller planets will increase.
पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण बल में इस विकृति के कारण छोटे ग्रहों के साथ टक्कर होने की संभावना बढ़ जाएगी।
This in turn will cause the production of energy greater than hundreds of atom bomb. यह बदले में परमाणु बम के सैकड़ों से ज्यादा उर्जा का उत्पादन होगा।
This will cause complete destruction of the environment.
इससे पर्यावरण के पूर्ण विनाश का कारण होगा
The energy thus produced will further cause the meltdown of the glaciers and will cause the extinction of life on earth.
इस तरह से उत्पन्न उर्जा में ग्लेशियरों के मंदी का कारण होगा और पृथ्वी पर जीवन के विलुप्त होने का कारण होगा।
The energy produced will cause the glaciers to melt which will cause the glaciers to melt, which in turn will destroy life.
उत्पादित उर्जा से ग्लेशियर पिघल आएगा जिससे ग्लेशियर पिघल आएगा, जो बदले में जीवन को नष्ट कर देगा।
2015- 2016, beginning; 2017-2018- Middle; 2019-2020- End- this situation will prevail.
2015- 2016, शुरुआत; 2017-2018- मध्य; 2019-2020- अंत- यह स्थिति प्रबल होगी
From 2015 to 2020, Earth will be in complete imbalance.
2015 से 2020 तक, धरती पूरी तरह असंतुलन में होगी।

Earthquakes and high Temperatures will keep increasing in frequency.
भूकंप और उच्च तापमान आवृत्ति में बढ़ते रहेंगे।
From the year 2021, Mid 2017-2018 will be highly destructive.
वर्ष 2021 से, 2017-2018 के मध्य में अत्यधिक विनाशकारी होगा
Such a destructive outcome occurs because of the vibrations produced on earth when it is inclined at 23.27 degrees.
इस तरह के एक विनाशकारी परिणाम पृथ्वी पर निर्मित कंपनों की वजह से होता है, जब यह 23.27 डिग्री पर झुका है।
Events of massive destruction will begin occurring by March 2016.
मार्च 2016 तक बड़े पैमाने पर विनाश होने की घटनाएं शुरू हो जाएंगी।
Undoubtedly, February- March 2016 will witness a high frequency of occurrences of natural disasters.
निस्संदेह, फरवरी-मार्च 2016 में प्राकृतिक आपदाओं की घटनाओं की एक उच्च आवृत्ति देखी जाएगी।
Due to the distortion in the gravitational force of the earth, the possibility of collision of earth with smaller planets in solar system will be unduly high between 2016 and 2018.
पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण बल में विरूपण के कारण, सौरमंडल में छोटे ग्रहों के साथ पृथ्वी के टकराव की संभावना 2016 से 2018 के बीच अनावृत रूप से उच्च होगी

By the year 2016, only 5.366% will be remaining for the present cycle of Mahayuga and Kalyuga to end.
वर्ष 2016 तक, महायुग और कलयुग के वर्तमान चक्र को समाप्त करने के लिए केवल 5.366% शेष रहेंगे।
The time period of one Mahayuga is 108000 years and at the end of this time period Mahapralaya occurs.
एक महायुग की समय अवधि 108000 साल है और इस अवधि के अंत में महाप्रलय होता है।
The time period of Mahapralaya has already begun from March 21st 2015.
महाप्रलय का समय 21 मार्च 2015 से पहले ही शुरू हो चुका है।
In the mere time span of coming three years, life forms from the surface of earth will perish, but not completely.
आने वाले तीन सालों में केवल पृथ्वी की सतह से जीवन ही नष्ट हो जाएगा ।
लेकिन पूरी तरह से नहीं।
One message for Famous yoga and religious teacher in India.
You have to take precaution in coming Days.
भारत में प्रसिद्ध योग और धार्मिक शिक्षक के लिए एक संदेश
आने वाले दिनों में आपको सावधानी बरतनी होगी।

Follow by Email