30 अगस्त 2016

सबका बाप ?


फ़िर से आदिसृष्टि से पूर्व तथा आदिसृष्टि के समय और तत्पश्चात सुरति>शब्द से सृष्टि की रचना । बहुत ही सरल ढंग से ।
------------
नोट - सभी दोहे निश्चित कृम में हैं । बस समझ समझ कर गहराई से ग्रहण करना है ।
--------------
                                       साहब सब का बाप है । बेटा किसी का नाहिं । 
                                          जो बेटा बन आवता । वह तो साहब नांहि ।
                             मादर पिदर न जननी जाया । गर्भवास में कबहू न आया ।

                                    धर्मदास की कबीर साहेब से जिज्ञासा
                         निरंकार निरंजन नाऊ । जोत स्वरूप सुमरत सब ठाऊ ।
                     गावहि विद्या वेद अनूपा । जग रचना कियो ज्योति स्वरूपा ।
                                         कबीर साहब का उत्तर
                    तुमसो कहौ जो नाम विचारी । ज्योति नही वह पुरुष न नारी ।
                        तीन लोक ते भिन्न पसारा । जगमग जोत जहाँ उजियारा ।
                                           कबीर साहब बोले -
                                 सतपुरष समर्थ के । उठी मौज हिये मांहि ।
                                सोई मौज मम रूप है । नौतम सुर्त कहाय ।
                                      पुनि नौतम प्रगटी । मूल सुर्ती करतार ।
                                      मूल सुर्त से प्रकटे । तेरह सुत एक नार ।
                                                 (ग्रंथ अनुराग सागर)
                             पुष्प मांहि रहे पुरष विदेहा । सम्पुट कमल गुप्त सों नेहा ।
                                       इच्छ कीन अंश उपजाये । हंसन देख हर्ष बहु पाये ।
                                    प्रथमै पुरष शब्द प्रकाशा । लोक द्वीप रच कीन निवासा ।
                                     प्रथम समर्थ आप रहा । दूजा रहा न कोय ।
                                    दूजा केहि विधि उपजा । पूंछत हूं गुरू सोय ।
                                   प्रथम सुरति समर्थ कियो । घट में सहज उचार ।
                                         ताते जामन दीनियां । सात करी विस्तार । (दीनियां = दुनियां)
                            प्रथम सतपुरष जो कहिया । ताकी ध्यान समाध जो रहिया । 
                               खुली दृष्टि जब पुरुष प्रवीना । नौतम सुर्त ताहि को चीन्हा ।
                                       नौतम सुर्त पुरुष को भाई । नौतम सुर्त कबीर बन आई ।
                                                 तब समर्थ के श्रवण ते । मूल सुर्त भयो सार ।
                                                शब्द कला ताते भई । पांच ब्रह्म अनुसार । 
                                      नौतम सुर्त जब सुर्त सम्हारी । मूल सुर्त बैठी टकसारी ।
                                      मूल सुर्त सत्यहि को जानो । जासे सब कुछ भयो उत्पानों ।
                                                मूल सुर्त नौतम से आई । जिन यह बाजी खेल रचाई ।
                                             बाजी कीनी अनन्त अपारा । कहां लग बरनूं वार न पारा ।
                                                मूल सुर्त निज लखे जो कोई । सत लोक पहुंचेगा सोई ।



                                      सात सुर्त का सकल पसारा । सात सुर्त ते कोई न न्यारा । 7
                                            सात सुर्त का भेद बताऊं । तामें ज्ञान सकल समझाऊं ।
                                                उतपत्ति परले वाके माही । गत सों कोई न्यारा नाहीं ।
                                         प्रथम अमी सुर्त निज ठौरा । तहां निरन्जन कीना दौरा । 1
                                               वहां जाय अमी ले आवे । तासों अजर बीज उपजावे ।
                                      सोई बीज रक्त में धरही । यही विधि सों सब उत्पति करही ।
                                         बीजहि जल कि रंग कहाया । तासों रची सकल की काया ।
                                                दूजा मूल सुर्त तेहि संगा । घट घट माहि बनाव रंगा । 2
                                                  तीजो चमक सुर्त अवारा । नौ नाड़ी में कीन पसारा । 3
                                             कोठा तहां बहत्तर करही । रोम रोम युक्ति सब धरही ।
                                                   चौथी शून्य सुर्त है भाई । धर्मदास मैं तुम्है लखाई । 4
                                            पांचवी सुर्त सबन के ठांई । शुभ अरू अशुभ सुनावे दोई । 5
                                                छठी सुर्त ठिकाना भाखे । ठांव ठांव स्वाद तेहि चाखे । 6
                                                      सो तो रहे कण्ठ के धारा । बानी भाख करे उचारा ।
                                                  सतई सुर्त रहे तन मांही । हिरदे सो कहूँ न्यारी नांही । 7
                                      ब्रह्म स्वरूप धर तहां वह बैठा । गुप्त पसार सकल घट पैठा ।
                                                कोई न जाने ताका मरम । ज्ञानी ध्यानी सबही भरम ।
                                               सात सुर्त का कहां विचारा । धर्मदास कछु वार न पारा ।

                                               सुर्त से पुरुष शब्द निर्माया । यही भेद विरले जन पावा ।
                                          जो नहिं पावै शब्द सहिदानी । सो कस करहु लोक पहिचानी ।
                  In the beginning was Word.  Word was with God and Word was God. बाइबल

                                        सारशब्द से लोक बनाया । वही सार जीवन मुक्ताया ।

                                            शब्दै धरती शब्दै आकाश । शब्दे शब्द भया प्रकाश ।
                                         सगली सृष्टि शब्द के पीछे । नानक शब्द घटों घट आछै ।
                                          संतमत का यही उपदेशा । पकड़ शब्द जाओ उस देशा ।

                                            अनन्त कोटि ब्रह्मण्ड रच । सबसे रहा न्यार ।
                                              जिन्द कहे धर्मदास सों । ताका करो विचार ।

                                                 एक ते अनंत । अनंत एक होय आया । 
                                      परिचय भई जब एक सों । अनंतो एकै माँहि समाया ।
                                  आस वास दुविधा सब खोई । सुरति एक कमल दल होई ।
                                     -----------------
                                           और फ़िर सबके बाद, बात यह भी है ?
                                     बटक बीज जैसा आकार । पसर्यौ तीनि लोक बिस्तार । (बटक बीज = गूलर का बीज)
                                  जहाँ का उपज्या तहाँ समाइ । सहज सुन्य में रह्यौ लुकाइ ।
                                             बूंद जो परा समुन्द्र में । सो जानत सब कोइ ।
                                            समुन्द्र समाना बूंद में । जानत बिरला कोइ ?
                                              सकल साज एक बूंद में ? जानत नाहीं कोय ?
                                          कहें कबीर जिन जिव भूले । परमपरे भर्म सोय ।
                                             समुद्र समाना बूंद में ? बूंद मध्य विस्तार ?
                                          कहें कबीर भेद करता का । बूझो यह टकसार ?
                                            रामनगर गुरुवा बसा ? माया नगर संसार ।
                                       कहं कबीर यहि दो नगर ते ? बिरले बचे विचार ।
                                           लोकालोक अकास नहिं । झूठे लोका लोक ।
                                       कहें कबीर आस जिन बांधो । छांडो जी का सोक ।

28 अगस्त 2016

बूझे बिरला कोय


                                    अब मेरी रांम कहैगी बलईया । जामंण मरंण दोउ डर गईया ? 
                                    ज्यौं उधरी कूं दे सरवांनां । राम भगति मेरा मन मांनां ।
                                    मै बपवा राम पूत हमारा । मैं बहनेउ रांम मोरा सारा ।
                                    कहै कबीर सकल जग मूठा । राम कहै सोई जन झूठा ?


                                                    रांम मोहि तारि कहां लै जैहौ ?
                                           सो बैकुंठ कहौ है कैसा ? करि पसाव मोहि देहौ । 
                                      जे मेरे जिय दोइ जांणत हौ ? तौ मोहि मुंक्ति बतावो ।
                                        एकमेक रमि रह्या सबनि मैं । तौ काहे भरमावो ।
                                      तारंण तिरंण जबै लग कहिये । तब लग तत न जांणां ?
                                         ऐक रांम देष्या सबहिन मैं । कहि कबीर मन मांना ।


                                                  अब में पाइबो रे पाइबो ब्रंह्म गियान ।
                                            सहज समाधें सुष में रहिबो । कोटि कलप बिश्रांम । 
                                            गुरु क्रंपाल क्रपा जब कींनी । हिरदे कवल बिगासा । (बिगासा = विकसित)
                                         भागा तिमर दसों दिसि सूझया । परम जोति परकासा ।
                                           म्रितक उठ्या धनक कर लीये ? काल अहेरी भागा । (अहेरी = शिकारी)
                                         उदया सूर निसि किया पयानां । सोवत ते जब जागा ।
                                       अबिगति अकल अनूपम देष्या । कहतां कह्या न जाइ ।
                                              सेंन करे मनहीं मन हसै । गुंगे जांनि मिठाइ ।
                                         पहुप बिनां येक तरवर फलिया । बिन कर तूर बजाया ।
                                              नारी बिनां नीर घट भरिया ? सहज रुप सों पाया ।
                                             देषत काच भया तन कंचन । बिन बांनी मन माना ?
                                           उड्या बिहंगम षोज न पाया ? ज्यूं जल जलहि समानां ।
                                             पूज्या देव बहुरि नहि पूजो । न्हाये उदिक न न्हावुं ।
                                              भागा भरम येक ही कहतां । आये बहुरि न आवुं ।
                                           आपा में जब आपा निरष्या । आपन पें आपा सूझया ।
                                          आपे कहत सुनत पुनि आपन । आपन पें आपा बुझया ।
                                              अपने परचे लागी तारी । आपन पें आप समानां ।
                                            कहै कबीर आप बिचारे । मिटि गया आवन जानां ।

27 अगस्त 2016

इनकी मृत्यु का रहस्य ?

सिर्फ़ अच्छे कर्म में आस्था रखने वालों को मेरे कुछ दिनों पूर्व प्रकाशित इस चित्र से बेहद कष्ट हुआ । उनके अनुसार यह गलत है । जबकि यह मेरी बात न होकर ऋषि मुनि और सन्तों के अनुभव का मिश्रित निचोङ थी ।
अच्छे कर्म आधारित यह दो प्रसंग पढ़कर चिन्तन करें ।
- हे अर्जुन ! मुक्ति ज्ञान से होती है । कर्म से नहीं । 
---------------------
हुजूर परमदयाल जी महाराज ने भी अपनी चिट्ठी दिनांक 6 अगस्त 1981 जो मानव जाति के नाम लिखी । उसमें भी यही भाव है कि - कर्म की फिलासफी बहुत गहरी है । इससे बचना बहुत मुश्किल है । उन्होंने मानवता का साधन किया । मानव जाति के लिए सारी आयु काम किया । इससे उनको क्या मिला ? मालिक के चरणों में

समाना आ गया । उनकी चिट्ठी नीचे दी जाती है ।
- रात के दस बजे हैं । पिटसबर्ग के बड़े अस्पताल में एक 2015 नम्बर के कमरे में पड़ा हूँ । अपनी 95 वर्ष की सारी आयु मेरे सामने घूमती है । साधन किया । अभ्यास किया । इनसे क्या समझा ? कि मैं वास्तव में एक चेतन का बुलबुला हूँ । मैं चाहता था और चाहता हूँ कि जब मेरा अन्तिम समय आए । तो मैं कैसे शरीर व मन इत्यादि को छोड़ कर ऊपर जाऊँगा । तो यह बता जाऊँगा । मगर अनुभव कुछ उलटा हो रहा है । मैं चाहता हूँ कि शरीर और मन से अलग हो जाऊँ । मगर जब शारीरिक कष्ट होता है । सिर चकराता है । तो यह असंभव हो जाता है । क्योंकि चार दिन से दिन रात निरन्तर ग्लूकोज़ दिया जा रहा है । अत: अब थक गया हूँ । और ऐसा करना असंभव हो गया है । अब रात के 12 बजे हैं । पेशाब के बारबार आने और सख्त जलन होने के कारण चार दिन से कुछ खाया नहीं जाता । जो ज्ञान ध्यान था । वो कहाँ गया ? काश! बड़े बड़े महात्मा यह हाल बताते कि उनके साथ क्या क्या बीती ? सांसारिक जीव इससे लाभ उठाते ।
खेद..मुझे सिवाए इसके कि पाँच दिन से चारपाई से बँधा हुआ हूँ । या पेशाब के समय जलन होती है । कोई विशेष कष्ट नहीं । मगर मालिक मुझे एक दुख है । मैंने जहाँ तक हो सका । जीवन में किसी सत्संगी का नहीं खाया । केवल मूलचंद रिज्जूमल कटनी वाले, दुर्गादास व मेरा लड़का रुपया भेजते हैं । जिससे मेरा निर्वाह होता है । अब यहाँ का खर्च परमात्मा ही जाने क्या होगा ? 150 डालर तो मकान का प्रतिदिन का किराया है ।
डाक्टर राव कहता है कि - चिन्ता मत करें । वह सब सहन करेगा । और यदि मैं अमेरिका में मरा । तो 2000

डालर और खर्च होगा । कर्म की फिलासफी को देखकर आँखों में आँसू आ रहे हैं । तो क्या मुझे फिर दूसरे जन्म में जो यह रुपया खर्च करेंगे । देने पड़ेंगे ? मस्तिष्क सोचने योग्य नहीं ।
(राधास्वामी मत के नामचीन सन्त)
------------------------
युधिष्ठर के नर्क जाने का कारण उनका मोह विचलित होकर ‘अश्वत्थामा हतो नरो वा कुंजरो वा’ बोलना बना । सिर्फ़ क्षणिक असत्य बोलने से उन्हें केवल नर्क देखने जाना पङा ।
जब युधिष्ठिर इस देह के साथ स्वर्ग में गया । तो वहाँ उसके सगे संबंधी पांडव और द्रौपदी नहीं थे ।
युधिष्ठिर ने पूछा - वे कहाँ हैं ?
उन्होंने बताया कि - वे तो नरक में है ।
युधिष्ठिर ने पूछा - वे नरक में क्यों गए ? 
जवाब मिला कि - अपने खोटे कर्मों को भोगने के लिए नरक मिला है ।
युधिष्ठिर ने कहा कि - मैं भी वहाँ जाऊँगा । जहाँ मेरे सगे संबंधी हैं ।
युधिष्ठिर को वहाँ पहुँचा दिया गया । वहाँ उसने नरक के दृश्य देखे । वे बहुत दुखदाई थे । वहाँ उसको पांडव और 

द्रौपदी नज़र नहीं आते थे । मगर उनकी आवाजें सुनाई देती थीं ।
युधिष्ठर ने पूछा - तुम कौन हो ? 
उन्होंने अपने नाम भीम, अर्जुन, नकुल, सहदेव और द्रौपदी बताए ।
उन्होंने युधिष्ठिर से कहा कि - जब से तुम आए हो । हम हर तरह से सुख महसूस कर रहे हैं ।
पांडवों और द्रौपदी को नरक में किस चीज़ ने सुख पहुँचाया ? युधिष्ठिर के अन्दर जो दया और धर्म आया हुआ था । उसके फलस्वरूप वे नरक में भी सुख महसूस करने लगे । यानी नरक का प्रभाव ख़त्म हो गया । यह दया और धर्म का अभिप्राय है । (महाभारत से)
----------------

असली रहस्य ये है -
द्वार न रूँधे पवन न रोके । नहीं अनहद अरुझावै ?
यह मन जाय जहां लग जबहीं । परमातम दरसावै ।
कर्म करै निहकरम रहै जो । ऐसी जुगत लखावै ।
सदा बिलास त्रास नहीं मन में । भोग में जोग जगावै ।
धरती त्यागि अकासहुँ त्यागै ? अधर मड़इया छावै ?
सुन्न सिखर के सार सिला पर । आसन अचल जमावै ।

15 अगस्त 2016

परमात्मा - आखिर कहाँ है ?

साधो एक आपु जग माहीं ।
दूजा करम भरम है किर्तम । ज्यों दर्पन में छाई ।
जल तरंग जिमि जल में उपजै ? फिर जल माहिं रहाई ?
काया झाईं पाँच तत्व की । बिनसे कहाँ समाई ।
या बिधि सदा देह गति सबकी ? या विधि मनहिं विचारो ।
आपा होय न्याव करि न्यारो ? परम तत्व निरवारो ।
सहजै रहै समाय सहज में । ना कुछ आय न जावै ।
धरै न ध्यान करै नहिं जप तप ? राम रहीम न भावै ।
तीरथ बर्त सकल परित्यागै । सुन्न डोरि नहिं लावै ?
यह धोखा जब समुझि परै ? तब पूजै काहि पुजावै ।

जोग जुगत ते भरम न छूटै ? जब लग आप न सूझै ?
कहैं कबीर सोइ सतगुरु पूरो ? जो कोई समझै बूझै ?

सब का साखी मेरा साईं । साखी = साक्षी
ब्रह्मा बिस्नु रुद्र ईसुर लौं । और अब्याकृत नाहीं ।
पांच पचीस से सुमती करि ले ? ये सब जग भरमाया ।
अकार उकार मकार मात्रा । इनके परे बताया । ॐ = शरीर
जागृत सुपन सुषोपति तुरिया ? इनतें न्यारा होई ।
राजस तामस सातिक निर्गुन ? इनतें आगे सोई । 3 गुण, निर्गुण
स्थूल सूक्ष्म कारन महाकारन । इन मिलि भोग बखाना । 4 शरीर
बिस्व तेजस पराग आत्मा । इनमें सार न जाना ।
परा पसंती मधमा बैखरि । चौ बानी नहिं मानी । 4 वाणी
पांच कोष नीचे करि देखो । इनमें सार न जानी ।
पांच ज्ञान और पांच कर्म हैं । ये दस इन्द्री जानो ।
चित सोइ अंतःकरन बखानी । इनमें सार न मानो ।
कुरम सेस किरकिला धनंजय । देवदत्त कंह देखो । 5 वायु
चौदह इन्द्री चौदह इन्द्रा ? इनमें अलख न पेखो ?
तत पद त्वं पद और असी पद । बाच लच्छ पहिचाने ।
जहद लच्छना अजहद कहते । अजहद जहद बखाने ।
सतगुरु मिलै सत सबद लखावै । सार सबद बिलगावै ।
कहै कबीर सोई जन पूरा । जो न्यारा करि गावै ।

14 अगस्त 2016

कायागढ़ की खोज

इसी पेज में अन्तिम रहस्य ‘परमात्मा’ छिपा है । खोज सको तो खोज लो ।
-------------
सुन्न के परे पुरुष को धामा ? तहँ साहब है आदि अनामा ।
ताहि धाम सब जीव का दाता । मैं सबसों कहता निज बाता ?
रहत अगोचर सब के पारा । आदि अनादि पुरुष है न्यारा ।
आदि ब्रह्म इक पुरुष अकेला । ताके संग नहीं कोई चेला ।
------------
तेरा साहब है घर माँहीं ? बाहर नैना क्यों खोलै ।
कहै कबीर सुनो भई साधो । साहब मिल गए तिल ओलै ?
है तिल के तिल के तिल भीतर ? बिरले साधु पाया है ।
चतुदल कमल त्रिकुटी राजे । ॐकार दर्शाया है ?
ररंकार पद श्वेत सुन्न मध्य ? षट दल कवल बताया है ।
पारब्रह्म महासुन्न मझारा । जहां नि:अक्षर रहाया है ?
भंवर गुफा में सौंह राजे ? मुरली अधिक बजाया हैं ।
सतलोक सतपुरुष विराजे । अलख अगम दोउ भाया है ।
पुरुष अनामी सब पर स्वामी । ब्रह्मण्ड पार जो गाया है ।
-----------
ये सब बातें काया माहीं ? प्रतिबिम्ब अण्ड का पाया है ?
ताकि नकल देख माया ने । काया माहि दिखाया है ?
ये सब काल जाल का फंदा । सकल जीव उरझाया है ।
कहे कबीर सतलोक सार है । सतगुरु न्यारा कर दिखलाया है ?
-----------------
नोट - ध्यान की कृमवद्ध स्थिति जानने हेतु सुन्न 1 से सुन्न 7 तक प्रष्ठ पक्तियों को नीचे से ऊपर की ओर पढें ।
-------------------
अष्ट प्रमान = भौंह से 8 अंगुल ऊपर, अंड = मन
--------------------------------
- अकह लोक - अनामी पुरुष - शुद्ध ब्रह्म ( ब्रह्मांड के पार) (अब वह उसमें समा गयी । जो बेअन्त है)
-----------------------
सुन्न 7, अगम लोक - अगम पुरुष  - महाकाल । हंसो का अदभुत स्वरूप ।  
---------------------------
सुन्न 6, अलख लोक - अलख पुरुष - निर्गुण काल । विस्तार असंख्य महापालिंग । अरब खरब सूर्यों का प्रकाश
-------------------------
सुन्न 5, सत्यलोक - सतपुरुष - निरंजन + माया (पहली कला)
एक ‘पद्मपालिंग’ का विस्तार । 3 लोक का ‘1 पालिंग’ । वीणा’ की आवाज । अमृत का भोजन ।
- इन सब दृश्यों को देखती हुयी सुरति ‘सतलोक’ पहुँची । और ‘सतपुरुष’ का दर्शन पाया ।
---------------
इस मैदान के आगे पहुँची । तो उसे ‘सतलोक’ की सीमा दिखाई दी । वहाँ पर ‘तत्सत’ की आवाज भी सुनाई देती है । अनेक नहरें और सुन्दर दृश्य । करोङ योजन ऊँचाई वाले वृक्षों के बाग । उन वृक्षों पर करोङों सूर्य चन्द्रमा और अनेकानेक फ़ल फ़ूल ।
सुन्न 4, निर्वाण पद - सतगुरु - सोऽहं पद
------------------
- आसमानी झूला की सैर के बाद सुरति और आगे की तरफ़ चली । तो दूर से चन्दन की
अति मनमोहक खुशबू अनन्त सुगन्ध उसे महसूस हुयी । इस स्थान पर ‘बाँसुरी’ की अनन्त धुन भी हो रही है ।
(2 पर्वतों की संधि - भंवर गुफ़ा) (गुरु दरबार) (चेतन सहस अठासी दीप) दयाल देश नामक निजधाम का पहला लोक । अगोचरी मुद्रा/शुकदेव
यहाँ चक्र (झूला) है । सुरति झूलती है । दीपों से ‘सोऽहंग’ की आवाज उठ रही है ।
---------------------------
महासुन्न का मैदान - - सुरति और आगे चली तो ‘महासुन्न का मैदान’ आया । इस जगह पर 4 शब्द और 4 (5) अति गुप्त स्थान - बन्दीवान पुरुष !
(परन्तु फ़िर भी उसके हाथ कुछ न लगा । तब वह फ़िर और ऊपर को चङी । और जो चिह्न ? सदगुरुदेव ने बताया था । उसकी सीध लेकर सुरति उस मार्ग पर चली ।
- फ़िर लगभग खरब योजन का सफ़र तय करके सुरति नीचे उतरी ।
(यहाँ 10 योजन तक घना काला घोर अंधकार है । इस अत्यन्त तिमिर अंधकार को गहराई से वर्णित करना बेहद कठिन है ।) विषम घाटी 
- अब ‘महासुन्न’ का नाका तोङकर वह आगे बङी ।
- सुरति चलते चलते 5 अरब 75 करोङ योजन और ऊपर की ओर चली गयी ।
------- सुन्न 3 के 2 भाग हैं । (यहाँ तक 5 ब्रह्म, 5 अंड)------------  
सुन्न 3 का पहला भाग
ब्रह्म 5 - महासुन्न - (7वीं सुन्न) महाकाल की कला - (अचिंत) पारब्रह्म (सहज) - निःअच्छर ।
------------------
(महासुन्न - में 7 लोक आते हैं । जहां कोई तत्व नहीं है । लेकिन शून्य, महाशून्य़ दोनों महाप्रलय के अधीन हैं)
----------------
सुन्न 3 का दूसरा भाग
ब्रह्म 4 - (6वीं सुन्न) निर्गुण काल की कला (10वां द्वार) सेत (श्वेत) सुन्न (मानसरोवर)-अच्छर ब्रह्म-ररंकार-हंस । निर्मल चैतन्य देश (या) दयाल देश का द्वार । खेचरी मुद्रा/ब्रह्मा, विष्णु, महेश ।
त्रिकुटी स्थान से 12 गुणा अधिक प्रकाश । बहुत सी अप्सराओं द्वारा स्थान स्थान पर नृत्य । स्वादिष्ट सूक्ष्म भोजन । अनेको तरह के राग रंग नाना खेल । झरने । हीरे के चबूतरे, पन्ने की क्यारियाँ, जवाहरात के वृक्ष । अनन्त शीशमहल । स्थूल तथा जङता नहीं है । सर्वत्र चेतन ही चेतन है ।
लगभग करोङ योजन ऊपर चङकर तीसरा परदा तोङकर वह ‘सुन्न’ में पहुँची ।
----------------------
त्रिकुटी महल (अलग से) ब्रह्म सरोवर में स्नान/ मन, वाणी, शरीर से परे । सत शिष्य ।
---------------
ब्रह्म 3 -ॐकार (4 दल कमल) (त्रिकुटी देश में) मन, बुद्धि, चित्त, अहं (सुरति) की गति यहाँ तक
लगभग लाख योजन लम्बा और चौङा । अनेक तरह के विचित्र तमाशे और लीलाएं । हजारों सूर्य चन्द्रमा से अधिक प्रकाश । हमेशा ॐ और बादल की गरज । भूचरी मुद्रा/व्यास
- इस बंकनाल से पार होकर सुरति ‘दूसरे आकाश’ पहुँची । यहाँ ‘त्रिकुटी स्थान’ है । 
-------------------
बंकनाल - इसके आगे ‘बंकनाल’ याने टेङा मार्ग है ।
(जो कुछ दूर तक सीधा जाकर नीचे की ओर आता है । फ़िर ऊपर की ओर चला जाता है ।)
---------------------
(अनहद शब्द अजपा जाप से घट में प्रकट होता है । सबसे पहले यह शब्द ‘दिल’ में सुनाई देता है ।
निरंतर अभ्यास करने से ‘दाहिनी आँख’ के ऊपर भवों के पास सुनाई देता है)
इसके ऊपर यानी यहाँ से ‘ब्रह्माण्ड देश’ की सीमा शुरु होती है । यहाँ से 2 आवाजें आसमानी निकलती हैं । अर्थात यहीं से ‘शब्द’ प्रकट होता है ।
- इस प्रकाश के ऊपर एक ‘बारीक और झीना दरबाजा’ है ।
(अभ्यासी को चाहिये कि इस छिद्र में से सुरति को ऊपर प्रविष्ट करे)
ब्रह्म 2 (सहस्रार-हजार दल कमल) करतार (निरंजन) 3 लोक का मालिक । यहाँ का प्रकाश देखकर सुरति त्रप्त हो जाती है । स्वांसो की गिनती 21600 । बृह्माण्ड देश का पहला लोक ।
-------------
- तब आकाश दिखाई देगा । जिसमें ‘सहस्त्रदल’ कमल दिखाई देगा ।
******************************
- जब आँख भीतर बिलकुल उलट जायेगी । तब सुरति शरीर में ऊपर की ओर चङेगी ।
- इसके बाद आसमान पर तारों जैसी चमक, दीपमाला जैसी झिलमिल, चाँद जैसा प्रकाश, सूर्य जैसी किरणें दिखाई देंगी ।
(इससे वृति अभ्यास में लीन होने लगती है ।)
- 5 तत्वों के रंग लाल, पीला, नीला, हरा, सफ़ेद दिखते हैं । 
- बिजली जैसी चमक और दीपक जैसी ज्योति दिखाई देती है ।
- तो सबसे पहले अन्धकार में प्रकाश की कुछ किरणें दिखायी देती हैं । फ़िर अलोप हो जाती हैं । 
- जब समाधि द्वारा आँखों की दोनों पुतलियाँ अन्दर की और उलटने लगती है ।
****************** 
--------------- यहाँ से नीचे - पिंड (भौंहों से नीचे)--------------
सुन्न 2, निरंजन + माया - की दूसरी कला - पुरुष + प्रकृति (शुद्ध सगुण काल) ज्योति निरंजन
--------------
आज्ञाचक्र - स्वांस 1000 ।
- ब्रह्म 1 (मन) आँखों के पीछे (2 दल कंज कमल - बग, भौंरा) चाचरी मुद्रा/गोरखनाथ
-------------------
सुन्न 1 (कंठ) अविद्या, माया, अष्टांगी > ने उत्पन्न किये > ब्रह्मा, विष्णु, शंकर > सावित्री, लक्ष्मी, गौरी । (विराट और सागर बनाया)
--------------
(सुन्न - में 14 लोक (निम्न) आते हैं । जहां तत्व हैं)
-----------------------------
7वां आकाश, कंठ (विशुद्ध) (16 दल कमल) शरिंग (श्रीं) ध्वनि । स्वांस 1000 ।
 ब्रह्मा विष्णु को समाधि, अष्टांगी ने पुत्र पुत्रियों का आपस में विवाह कर दिया ।
--------------------
6वां आकाश, ह्रदय (अनाहत) (12 दल कमल) सोऽहं ध्वनि ।  शंकर, गौरी - गण - कैलाश पर्वत । स्वांस 6000 । रंग - सफ़ेद ।
--------------------
5वां आकाश, नाभि (मणिपूर) (8 दल कमल) हिरिंग (ह्रीं) ध्वनि । विष्णु, लक्ष्मी - भक्त - बैकुंठ । स्वांस 6000 । रंग - नीला ।
-----------------------
4था आकाश, स्वाधिष्ठान (इन्द्रियचक्र) (6 दल कमल) ॐकार ध्वनि । ब्रह्मा, सावित्री - संसार रचना । स्वांस गिनती 6000 । रंग - सुनहला ।
---------------------
3सरा आकाश, धर्मराज - स्वर्ग, नर्क - अदल पसारा (कर्म और फ़ल का)
-----------------
2सरा आकाश, मूलाधार (4 दल कमल) कलिंग (क्लीं) ध्वनि । गणेश, इन्द्र - देवता , मुनि - रंभा का सदा नृत्य । रंग-लाल । स्वांस गिनती 1600
------------------
1हला आकाश, मृत्युलोक - जन्म मरण - माया के धोखे में फ़ंसा जीव !
-------------------
यहाँ तक - 14 तबक (खंड या लोक, तल)
इसके नीचे - 7 तबक और (कुल 21 सुन्न) 
------------------
(पाताल) 
1 पाताल - शेषनाग
2 रसातल - धौल 
3 महातल - (वाराह) सुअर
4 तलातल - (मीन) मच्छ
5 सुतल - कच्छ
6 वितल - कूर्म (कछुआ)  
7 अतल - कूर्म
(यहाँ का - जलरंग, पुरुष है)
---------------------
कर नैनों दीदार । पिंड से न्यारा है ।
तू हिरदे सोच विचार । यह अंड मंझारा है
चोरी जारी निन्दा चारों । मिथ्या तज सतगुरु सिर धारो ।
सतसंग कर सत नाम उचारो । तब सनमुख लहो दीदारा है ।
जे जन ऐसी करी कमाई । तिनकी फैली जग रोसनाई ।
अष्ट प्रमान जगह सुख पाई ? तिन देखा अंड मंझारा है ? 
सोई अंड को अवगत राई । अमर कोट अकह नकल बनाई ।  
सुद्ध ब्रह्म पर तहं ठहराई । सो नाम अनामी धारा है ।      
सतवीं सुन्न अंड के माहीं । झिलमिलहट की नकल बनाई । 7
महाकाल तहं आन रहाई । सो अगम पुरुष उच्चारा है ।
छठवीं सुन्न जो अंड मंझारा । अगम महल की नकल सुधारा । 6
निरगुन काल तहां पग धारा । सो अलख पुरुष कहु न्यारा है ।
पंचम सुन्न जो अंड के माहीं । सत्तलोक की नकल बनाई । 5
माया सहित निरंजन राई । सो सत्त पुरुष दीदारा है ।
चौथी सुन्न अंड के माहीं । पद निर्बान की नकल बनाई । 4
अविगत कला ह्वै सतगुरु आई । सो सोऽहं पद सारा है ।
तीजी सुन्न की सुनो बड़ाई । एक सुन्न के दोय बनाई । 3
ऊपर महासुन्न अधिकाई । नीचे सुन्न पसारा है ।
सतवीं सुन्न महाकाल रहाई । तासु कला महासुन्न समाई ।
पारब्रह्म कर थाप्यो ताही । सो निःअच्छर सारा है ।
छठवीं सुन्न जो निरगुन राई । तासु कला आ सुन्न समाई ।
अच्छर ब्रह्म कहैं पुनि ताही । सोई सब्द ररंकारा है ।
पंचम सुन्न निरंजन आई । तासु कला दूजी सुन छाई । 2
पुरुष प्रकिरती पदवी पाई । सुद्ध सरगुन रचन पसारा है ।
पुरुष प्रकति दूजी सुन माहीं । तासु कला पिरथम सुन आई ।
जोत निरंजन नाम धराई । सरगुन स्थूल पसारा है ।
पिरथम सुन्न जो जोत रहाई । ताकी कला अबिद्या बाई । 1
पुत्रन संग पुत्री उपजाई । यह सिंध बैराट पसारा है ।
सतवें अकास उतर पुनि आई । ब्रह्मा बिस्नु समाध जगाई । 7
पुत्रन संग पुत्री परनाई । यहं स्रिंग नाम उचारा है ।
छठे अकास सिव अवगति भौंरा । जंग गौर रिधि करती चौरा । 6
गिरि कैलाश गन करते सोरा । तहं सोहं सिर मौरा है ।
पंचम अकास में बिस्नु बिराजे । लछमी सहित सिंघासन गाजे । 5
हिरिंग बैकुंठ भक्त समाजे । जिन भक्तन कारज सारा है ।
चौथे अकास ब्रह्मा बिस्तारा । सावित्री संग करत बिहारा । 4
ब्रह्म ऋद्धि ओंग पद सारा । यह जग सिरजनहारा है ।
तीजे अकास रहे धर्म राई । नर्क सुर्ग जिन लीन्ह बनाई  । 3
करमन फल जीवन भुगताई । ऐसा अदल पसारा है ।
दूजे अकास में इन्द्र रहाई । देव मुनी बासा तहं पाइ । 2
रंभा करती निरत सदाई । कलिंग सब्द उच्चारा है ।
प्रथम अकास मृत्तु है लोका । मरन जनम का नित जहं धोखा । 1
सो हंसा पहुंचे सत लोका । जिन सत्तगुरु नाम उचारा है ।
चौदह तबक किया निरवारा । अब नीचे का सुनो बिचारा । 14
सात तबक में छः रखबारा । भिन भिन सुनो पसारा है । 7
सेस धौल बाराह कहाई । मीन कच्छ और कुरम रहाई ।
सो छः रहे सात के माहीं । यह पाताल पसारा है ।
----------------
संतो अचरज एक भौ भारी । कहौं तो को पतियाई ।
एकै पुरुष एक है नारी ? ताकर करहु विचारा । 
एकै अंड सकल चौरासी ? भरम भुला संसारा ।
एकै नारी जाल पसारा ? जग में भया अंदेशा ।
खोजत खोजत काहु अंत न पाया । ब्रह्मा विष्णु महेशा ।
नाग फांस लिये घट भीतर ? मूसेनि सब जग झारी ।
ग्यान खडग बिनु सब जग जूझे ? पकरि न काहू पाई ।
आपै मूल फूल फुलवारी । आपुहि चुनि चुनि खाई ?
कहहिं कबीर तेई जन उबरे । जेहि गुरू लियो जगाई ।

12 अगस्त 2016

आत्मज्ञान के गूढ़ सूत्र

है प्रगट पर दीसत नाहीं ? सतगुरु सैन सहारा हो ।
कहे कबीर सर्ब ही साहब ? परखो परखनहारा हो ।
सुरत निरत ले राखै जहवाँ । पहुँचै अजर अमर घर तहवाँ ।
सब जग झूठ नाम इक साँचा । श्वास श्वास में साचा राचा ?
कहँ कबीर सुन धर्मनि नागर । सत्यनाम है जगत उजागर ?
एकहि ज्योति सकल घट व्यापक ? दूजा तत्व न होई ?
जो गुन पावे तत्त को । तत्ते जाये समाय ।
कहं कबीर अमर तब होवे । कहीं न आवे जाय ?

आदि अंत दो मत हैं । तिन में मत्ता अनंत ।
कहें कबीर दोनों के मध्य में ? देखो हमारा तंत ?
पांच तत्व का धड़ नहीं मेरा ? जानूं ज्ञान अपारा ।
सत्य स्वरूपी नाम साहिब का । सो है नाम हमारा ।
अधर दीप गगन गुफा में ? तहां निज वस्तु सारा ?
गर्भवास मे भक्ति कबुल्यो ? सो सब सुधि बिसराई ?
छन इक ध्यान विदेह समाई ? ताकी महिमा वरणि न जायी ?

सूच्छम सहज पँथ है पूरा ? ता पर चढो रहे जन सूरा ।
नहिं वह शब्द न सुमरन जापा ? पूरन वस्तु काल दिखदापा ।
पदम अनंत पंखुरी जाने । अजपा जाप डोर सो ताने ।
सूच्छम द्वार तहाँ जब दरसे ? अगम अगोचर सतपद परसे ?
अंतर शून्य मंह होय परकासा ? तहवां आदि पुरुष का वासा ?
ताहि चीन्ह हँसा तंह जायी । आदि सुरति तहं लै पहुँचायी ?
आदि सुरति पुरुष को आही ? जीव सोहंगम बोलिये ताही ?
मन पवन थिर कर शब्द निरखै ? करम मनमथ त्यागिये ।
शब्द सार विदेह निरखत ? अमरलोक सिधारिये ।
एक नाम है अगम गंभीरा ? तहवाँ अस्थिर दास कबीरा ?
सार शब्द नि:अक्षर आही ? गहै नाम तेही संशय नाहीं । 
सार नाम विदेह स्वरूपा ? नि:अक्षर वह रूप अनूपा ?
तत्व प्रकृति भाव सब देहा ? सार शब्द नि:तत्व विदेहा ?
गुरु बिन हिरदय ज्ञान न आवे । ज्यों कस्तूरी मिरग भुलावे । 
गुरु बिन मिटै न अपनों आपा । भरम जेवरी बांध्यो साँपा ।
गुरु बिन स्वान देखि बहु भेखा । मंदिर एक कांच को देखा ।
चहूँ दिसि दिखै अपनी छाया । भूंकत भूंकत प्राण गंवाया ।

भरम जेवरी गज बंध्यो । फिर जन्मे मर जाय ।
गगन बाज गरजै असमाना ? निःश्चै ध्वजा पुरुष फहराना ?
कबीरा इश्क का माता । दुई को दूर कर दिल से ।
जो चलना राह नाज़ुक है । हमन सिर बोझ भारी क्या ?
भारी कहौं त बहु डरौ । हलका कहूँ तो झूठ ।
मैं का जाँणौं राम कूं । नैनूं कबहुं न दीठ ।
दीठा है तो कस कहूँ । कह्या न को पतियाइ ।
हरि जैसा है तैसा रहौ । तूं हरिषि हरिषि गुण गाइ ।

छीर रूप सतनाम है । नीर रूप व्यवहार ।
हंस रूप कोई साधु है । सत का छाननहार ।
ओऽहं सोऽहं अर्ध उर्ध नहि । स्वासा लेखन को है । 
सोऽहंगम नाद नहि भाई । न बाजै संख सहनाई ।
तन थिर मन थिर । सुरति निरति थिर होइ ?
कहे कबीर वा पलक को । बिरला पावै कोइ ?
स्वांसा में साहिब मिले ? समझो ज्ञान सुजान ।
गंग जमुन उर अंतरै । सहज सुंनि ल्यौ घाट ?
तहाँ कबीरै मठ रच्या । मुनि जन जोवैं बाट ।
पिंड ब्रह्माण्ड के पार है ? सत्यपुरुष निजधाम । 
सार शब्द जो कोई गहै । लहै तहां विश्राम । 
उलटि समाना आप में । प्रगटी जोत अनंत ?
साहेब सेवक एक सँग ? खेलैं सदा बसन्त ।

जोग करे ते मर गये । दसो दिशा भई सुन्न ।
कहें कबीर जुगति चीन्ह ले ? जो छूटे वह धन्न ।
जहिया जन्म मुक्ता हता । तहिया हता न कोय ।
छठी तुम्हारी हौं जगा । तू कहां चला बिगोय ।

09 अगस्त 2016

वाह रे कबीरा

आजकल आजकल कबीरपंथी, रामपाल, मधु परमहंस, तोतापुरी परम्परा और राधास्वामी पंथ आदि आदि के प्रचार प्रसार के चलते ‘सारशब्द’ का बोलबाला और लोकप्रियता बुलन्दी पर है । इसके चलते ओऽहं, सोऽहं, ररंकार, निरंकार, निरंजन, शक्ति जैसी ‘झींगुरी आवाजों’ की मार्केट वैल्यू बहुत कम रह गयी । देवी देवता तो बस BPL गरीबों के लिये ही रह गये । शेयर मार्केट में सिर्फ़ सारशब्द के शेयर छलांग पर हैं । इससे नीचे बात करने को भी कोई राजी नहीं
लेकिन संभवतः इन सबके बीच मेरा अस्तित्व ही एक ऐसा है । जिसे न तो ( झूठे ) परमात्मा और न उसकी फ़ूंक और फ़ुंकनी सारशब्द में और न ही इस सबके ठेकेदार ‘सदगुरु’ में कोई दिलचस्पी है । मेरी दिलचस्पी महज ‘स्वयं’ में रहती है ।
साधुई जीवन में और नेट पर बहुत से लोगों से बातचीत में यह आभास सा लगता है कि सारशब्द उन्हें मिल गया है । जिसे उन्होंने बहुत हिफ़ाजत से बैंक लाकर में रखवा दिया है ।
सात हाथ यानी करीब दस फ़ुट का गढ्ढा खुदवा कर कबीर ने धर्मदास को यही फ़ूंक फ़ूंकते समय विद्या रानी, भगवान जी, मम्मी पापा आदि आदि की कई कसमें खिलाकर कहा था -
धर्मदास तोहे लाख दुहाई । सार शब्द न काहू बताई ।
और फ़ूंक मार दी ।
पहले जब मैं नया नया साधु हुआ था । बाबाओं के आश्रम के पास दस दस फ़ुट के गढ्ढे पर गढ्ढे देखकर काफ़ी हैरान होता था कि - ये इतने क्यों हैं । क्या बोरिंगे बहुत ज्यादा फ़ेल हुयी हैं ?
अब समझ आया कि वे सारशब्दी गढ्ढे थे ।
वैसे कई पंथ ये दावा करते हैं कि सारशब्द उनके ही पास है ? या कबीर ने ‘सिर्फ़ फ़लाने खानदान’ को ही इसके लिये अधिकृत किया है ?
लेकिन मेरी मोटी समझ में यह नही आता कि जब आप ‘इसी चीज’ के आधार पर ही अपना ‘पूरा व्यापार’ चला रहे हो । तो वह गोपनीय और व्यक्तिगत कैसे रह सकती है ? जबकि कहते हो कि ज्ञान ध्यान आदि देने के बदले कुछ लेते भी नहीं । हाँ दान दक्षिणा में बीसो गुना अधिक ले लेते हैं ।
मान लीजिये । कोई मेरे जैसा व्यवसायिक बुद्धि वाला उस समय तो उन बाबाओं की सब बात मान कर यह ‘सारशब्द’ ले आया । पर अब ये एग्जाम के ‘पेपर आउट’ या पेपर लीक होने जैसा हो गया । तो फ़िर गोपनीय या दुहाई वाला कैसे रहा ? देश विदेश में वालमार्ट पोलिसी पर सेल चेन खोली जा सकती है ।
खैर..आज सुबह ही नेट पर सारशब्द सम्बन्धी यह लेख देखा । अच्छा चिन्तन है । सो आपके लिये यहाँ प्रतिलिप चेपन कर दिया ।
---------------
सारशब्द - सारशब्द का विवरण कबीरवाणी में कितनी ही जगह आया है । लेकिन मुख्य रूप से इसका विस्तृत रूप से विवरण बीजक शब्द 114 में आया है । सारशब्द के बारे में अलग अलग लोगों की अलग अलग राय है । कबीर पंथ की एक शाखा मानती है कि सारशब्द ही एक मूलमंत्र है । जिससे जीव का कल्याण हो सकता है । और वह केवल उनकी शाखा के गुरू के पास है । कबीर ने उसे गुप्त रख कर केवल उनकी गद्दी के अधिकारियों को दिया है ।
अन्य लोग सारशब्द को ही सत्यज्ञान मानते हैं । और वह सच्चे गुरू की शरण में जाने पर ही मिल सकता है । आइये आज हम थोङा इस सारशब्द को जानने का प्रयास करते हैं कि वास्तव में यह क्या है ?
किसी भी एक वस्तु के ज्ञान के संबध में संभावित दो उत्तर हो सकते हैं ।
1 उस वस्तु के बारे में अज्ञान अथवा अनभिज्ञता ।
2 सत्यज्ञान ।
इसी प्रकार एक साथ दो वस्तुओं के ज्ञान के संबंध में संभावित चार उत्तर हो सकते हैं ।
1 दोनों वस्तुओं के बारे में अनभिज्ञता ।
2 दोनों वस्तुओं में से एक का ज्ञान एवं दूसरी के बारे में अनभिज्ञता ।
3 दोनों वस्तुओं को एक समान मानना अर्थात दोनों में कोई भेद न मानना ।

4 दोनों वस्तुओं का भिन्न भिन्न सत्यज्ञान ।
संसार में प्रत्यक्ष रूप से दो ही वस्तुओं का अस्तित्व नजर आता है - जङ, चेतन ।
इन दोनों के ज्ञान के बारे में मुख्यतया संसार में चार मत प्रचलित हैं ।
1 कर्म मार्ग - साधारण मानवों का ज्ञान जिन्हें अपने जीवनयापन से संबंधित षटकर्मों के अतिरिक्त कोई ज्ञान नहीं होता है । ऐसे मानव सिर्फ अपने जीवनयापन में ही विश्वास रखते हैं । उन्हें अन्य किसी प्रकार के भक्ति भाव या अन्य धार्मिक कृत्यों में कोई रुचि नहीं रहती है ।
इस मार्ग का अधिष्ठाता ब्रह्मा को माना जाता है । वेदों में ब्रह्मा ने विभिन्न कर्मकाण्डों का विवरण दिया है ।
2 उपासना मार्ग - इस मार्ग के अनुयायियों को जङ पदार्थों का ज्ञान रहता है । परन्तु चेतन सत्ता के संबंध में अनभिज्ञ रहते हैं । इस मार्ग के लोगों की दृष्टि में संसार की समस्त गतिविधियों का संचालक कोई परमपिता, ईश्वर या सतपुरुष है । जो किसी अन्य लोक में बैठ कर संसार की समस्त गतिविधियों का संचालन कर रहा है । और मानते हैं कि उसकी भक्ति करने पर ही जीव का कल्याण संभव है । इस मार्ग का अधिष्ठाता विष्णु है ।
3 योग मार्ग - इस मत के लोगों का मानना है कि जङ चेतन में कोई भेद नहीं है । दोनों एक ही परम तत्व से निर्मित हैं  । जिस प्रकार सोना और उससे निर्मित आभूषण दो नहीं । उसी प्रकार जङ और चेतन एक ही है । इसके अधिष्ठाता शिव माने जाते है ।
4 पारख मत या अन्विक्षकी मत - इस मत के अन्तर्गत जङ एवं चेतन दोनों भिन्न भिन्न सत्ताऐं हैं । एवं दोनों का अस्तित्व भी भिन्न भिन्न है । चेतन की जङ में आसक्ति ही जीव देह धारण करता है । एवं अपने कर्मानुसार ही जीव दुख सुख भोगता है । संसार का निर्माता कोई ईश्वर या परमात्मा नहीं है । संसार की समस्त क्रियायें प्रकृति की स्वाभाविक गुण धर्म के अनुरूप होती हैं । इस मत से संबंधित वाणी ही सारवाणी या सारशब्द कहलाती है ।
सार शब्द से बांचिहो । मानहु इतबारा हो ।1।
आदि पुरूष एक वृक्ष है । निरंजन डारा हो ।2।
तिरदेवा शाखा भये । पत्र संसारा हो ।3।
ब्रह्मा वेद सही कियो । शिव योग पसारा हो ।4।
विष्णु माया उत्पत्ति कियो । ई उरले व्यवहारा हो ।5।
तीन लोक दशहु दिशा । यम रोकिन द्वारा हो ।6।
कीर भये सब जीयरा । लिये विष कि चारा हो ।7।
ज्योति स्वरूपी हाकिमा । जिन्ह अमल पसारा हो ।8।
कर्म की बंशी लाय के । पकरो जग सारा हो ।9।
अमल मिटाओ तासु का । पठवो भव पाया हो ।10।
कहहिं कबीर तोहि निर्भय करो । परखो टकसारा हो ।11।
कबीर बीजक शब्द संख्या 114 
कबीर कहते हैं कि - हे मानवो, तुम्हारा कल्याण केवल सारशब्द से ही संभव है । अन्य भर्मित शब्दों से नहीं ।1।
इस संसाररुपी वृक्ष का मूल यह चेतन सत्ता जीव ही है । और इस जीव का मनरूपी निरंजन ही इसकी डाली है । इस मन की सत्ता से ही तीन गुणों की उत्पति होती है । और इन तीन गुणों से ही पत्रों रूपी संसार की उत्पत्ति होती है । अर्थात मानव मन में इच्छा उत्पन्न होती है कि मैं अपना विस्तार करूं । तो वह संसार में लिप्त होता है । और अपने नये संसार रुपी संतान उत्पत्ति करके परिवार बनाता है । और उसे ही अपना संसार मानता है । अगर मानव संसार में लिप्त न हो । तो न उसका कोई संसार नहीं बनेगा । त्यागी बैरागी भी शिष्यों एवं आश्रमों रूपी संसार बनाता है ।2 &3।
तीन गुणों में रजोगुण के अधिष्ठाता ब्रह्मा ने संसार में वेदों के द्वारा कर्म मार्ग प्रशस्त किया । और शिव ने योग मार्ग । विष्णु ने उपासना मार्ग चलाया । लेकिन ये तीनों ही मार्ग मनकल्पित एवं अनिर्णय युक्त होने के कारण जीवों के लिय बंधनप्रद ही रहे ।4&5।
इन तीनों मार्गों में जीवों के लिप्त रहने के कारण सारे जीव विषय वासनाओं फंस कर ज्योति स्वरूप निरंजन ( काल ) के शिकार बने । तीनों मार्ग में लिप्त जीव विभिन्न कर्मकाण्डों में फंसे रह कर काल का शिकार बने ।6से9।
कबीर कहते हैं कि - हे मानवो, इन तीनों मार्गों के अमल को मिटाकर मेरी चतुर्थ पारख वाणी सारशब्द को परखो । और ग्रहण करो । तो तुम इस संसार सागर से पार हो सकते हो ।10&11।
साभार - ताराचन्द जी ।
----------
गोविन्द दास - वास्तव में सारशब्द अति गम्भीर विषय है । अनेक विद्वानों ने इसके विषय में अपनी अपनी अनेक धारणाएं बना ली हैं । कई महानुभावों ने सतगुरु के चिन्तन अथवा सत्यपुरुष के ध्यान में तल्लीन होने अथवा अपने तन मन की सुधि को भूल जाने को सारशब्द कहा है । कईयों ने ज्ञान के रूप को सारशब्द माना है । क्योंकि सारशब्द के बिना जीव का मुक्त होना असम्भव है । इसलिए बिना ज्ञान के जीव का आवागमन बना रहेगा । ज्ञान को सारशब्द का होना बहुत से महानुभाव मानते हैं ।
लेकिन वो है नही । क्योंकि बीजक में तो कबीर ने खोलकर बता दिया है ।
एक नाम है अगम गंभीरा । तहवाँ अस्थिर दास कबीरा ।
बीजक 34 वीं रमैनी 
नाम निःअक्षर अर्थात अक्षरों से रहित, अजपा, अबोल और किसी प्रकार से अंकित करके न दर्शाया जाने वाला एक शब्द है ।
शब्द शब्द सब कोई कहै । वो शब्द विदेह ।
जिभ्या पर आबे नही । निरखि परखि करि लेह ।
( बीजक साखी - 35 )
इसमें संदेह नहीं कि सारशब्द एक अति सूक्ष्म तथा अनुभवों से परे गूढ़ रहस्य होते हुए भी बिना कबीर के मिलना अति दुर्लभ है । या कोई पूर्ण संत, महात्मा, या खुद सदगुरु उसका मेल करा सकते हैं ।
पाँच तत्व के भीतरे । गुप्त वस्तु अस्थान ।
बिरले मर्म कोई पाई है । गुरु के शब्द प्रमाण ।
( बीजक साखी - 27 )
एक शब्द गुरुदेव का ताका अनन्त विचार ।
थाके मुनिजन पंडिता वेद न पावै पार ।
ताराचन्द - सारशब्द को एक नाम की संज्ञा देकर दो उदाहरण दिये हैं । एक रमैणी संख्या 34 से और दूसरा साखी द्वारा । कबीर ने रमैणी संख्या 30 में 
औ भूले षटदर्शन भाई । पाखंड भेष रहा लपटाई
कहकर षटदर्शनों का ।
रमैणी संख्या 31 में
समृति आहि गुणन को चिन्हा
कहकर सुमृतियों का । रमैणी संख्या 32में
अन्ध सो दर्पण वेद पुराणा
कहकर वेद पुराणों का
और रमैणी संख्या 33 में
वेद की पुत्री सुमृति भाई 
कहकर सुमृतियों के सिद्धान्तों का खंडन किया । और फिर रमैणी संख्या 34 में पंडितों को फटकारते है कि -
पढी पढि पंडित करु चतुराई । निज मुक्ति मोहि कहो समुझाई ।
कहां बसे पुरुष कौन सा गांऊ । सो पंडित मोहि सुनावहु भाई ।
चारि वेद ब्रह्मा निज ठाना । मुक्ति का मर्म उनहु नहीं जाना ।
दान पुन्य उन बहुत बखाना । अपने मरण की खबरि न जाना ।
एक नाम है अगम गंभीरा । तहंवा अस्थिर दास कबीरा ।
चिउंटी जहां न चढि सके । राई ना ठहराय ।
आवागमन की गम नहीं । यहां सकलो जग जाय ।34।
उपरोक्त रमैणी में कबीर ने पंडितो को बुरी तरह फटकारा है । या यूं कहे कि पंडितों के कपङे उतार दिये हैं । ऐसे में आप क्या समझते है कि कपङे उतारते उतारते बीच में ही एक नामरूपी अनमोल मोती चुपके से पंडितों को दे दिया । कबीर इतने भोले तो थे नहीं । जो अपने विरोधियों को ही अनमोल हीरा दे देते ।
यह पंक्ति तो उन लोगों को व्यंग की भाषा में है । जो किसी कल्पित ब्रह्म के नाम का आधार लेकर बैठे है । और देखिये इस साखी में कितना बडा व्यंग है कि आम लोग उस जगह जाना चाहते हैं । जहाँ न तो चीटीं चढ़ सकती है । और न ही वहाँ राई का दाना ठहर सकता है ।
साखी - शब्द शब्द सब कोई कहे, में स्पष्ट संकेत नहीं है कि यहाँ कौन सी वस्तु के लिय कह रहे है । लेकिन वे एक संकेत देते है कि - निरख परख कर लेव, इसका मतलब है कि कबीर जिस वस्तु के बारे में कह रहे हैं । वह कहीं अपने ही आसपास है । तभी तो उसे निरखने एवं परखने की बात कह रहे हैं । दूर की वस्तु को कैसे निरखा और परखा जायेगा ? अब अपने आसपास तो यह संसार है । जो नामधारी है । अत: यह तो हो नहीं सकता । अब बचा है अपना निज चेतन । जो आँखों से भले अदृश्य हो । लेकिन जानने और परखने में आ रहा है । अत: यहाँ संकेत निज आत्मतत्व का है न कि किसी नाम अथवा सारशब्द का ।
बात चली थी सारशब्द पर जो कि आपने आत्मा कहा, उस सारशब्द को । लेकिन सदगुरु तो उसको नाम कहते हैं । 
राम नाम जिन चिन्हिया । झीना पिंजर तासु ।
नैन न आवै निंदरी । अंग न जामै मासु ।
बीजक साखी - 54
सुमिरन करहु राम का । काल गहे है केस ।
ना जानों कब मारि है । क्या घर क्या परदेश ।
( बीजक रमैनी साखी - 19 )
जस कथनी तस करनी । जस चुम्बक तस नाम ?
कहहि कबीर चुंम्बक बिना ? क्यों जीतें संग्राम ।
( बीजक साखी-314 )
चुम्बक लोहे प्रीत है ? लोहे लेत उठाय ?
ऐसा शब्द कबीर का ? काल सों लेत छुड़ाय ।
( बीजक साखी-318 )
शब्द हमारा आदि का ? पल पल करहु याद ?
अंत फलेगी माहली । ऊपर की सब बाद ।
( बीजक साखी - 7 )
शब्द हमारा आदि का ? शब्दे पैठा जीव ?
फूल रहनि की टोकरी । घोरे खाया घीव ।
( बीजक साखी - 3 )
साँचा शब्द कबीर का । ह्रदय देखु विचार ।
चित दै समुझे नही ? मोहि कहत भैल युग चार ।
( बीजक साखी - 64 )
आपने जो साखियां यहां प्रस्तुत की हैं । उनका संबंध सिर्फ शब्द से है । सारशब्द से नहीं । नाम संज्ञा है । जो किसी व्यक्ति, वस्तु या जगह का होता है । जबकि सारशब्द शब्दों का वह समूह है । जो किसी विशेष स्थिति को परिभाषित करता है ।
जाके मुनिवर तप करें । वेद थके गुण गाय ।
सोई देऊँ सिखापना । कोई नहि पतियाय ।
( बीजक साखी -123 )
संसार में जितने धर्मग्रंथ हैं । और जितने महापुरुष हुए । उन्होंने शब्द की महिमा गाई है । क्या वेद, क्या शास्त्र, क्या पुराण, क्या कुरआन । सबने ‘शब्द’ की महिमा गाई । ईश्वर ही ‘शब्द’ है । ऐसा सबने कहा । पिण्ड, ब्रह्माण्ड और अण्ड स्थित हैं । इस नाम की धारायें कुल ब्रह्माण्डों में व्याप्त है । इसलिए यह सर्वव्यापक है । सब सन्तों ने इससे सम्पर्क प्राप्त करके उस अनामी को जाना । जो सबमें होते हुए भी सबसे अलग थलग है ।
इस ‘नाम’ को शब्द, नाद, आकाशवाणी, कलमा, इसमे आजम या Word आादि से पुकारा है । मालिक ए कुल ने अनेक सृष्टियों का निर्माण किया ।
एक ते अनंत । अनंत एक होय आया । 
परिचय भई जब एक सों । अनंतो एकै माँहि समाया । 
( बीजक साखी - 124 )
तिल समान तो गाय है । बछडा नौ नौ हाथ ।
भरि भरि मटकी दूध ले । पूंछ अठारह हाथ ।
-------------
और ये रहे, मेरे कुछ संकेत -
क्षर मकार को कहत हैं । अक्षर है आकार ।
रं निःअक्षर ब्रह्म है ? राम निःअक्षर पार ?
डोरी एक अनूप है । अधरे दर्शन होय ?
काया से बाहर लखै ? हंस कहावै सोय ।
स्वत: सहज वह शब्द है ? सार शब्द कह सोय ।
सब शब्दों में शब्द है । सबका कारण सोय ?
प्रकृति पार वह शब्द है ? आगम अचिंत अपार ।
अनुभव सहज समाधि में ? आज गुरु चरण अधार ।
झंडा रोपा गैब का ? दो पर्वत के संध ।
साधु छिपाने शब्द को । दृष्टि कमल के अंत ?

05 अगस्त 2016

सदगुरुओं का मदारीपन

बहुत से ग्रामीण टायप और लगभग अशिक्षित से ( स्वयंभू सदगुरु ) साधुओं के लिये धूप का यह छाया रूप या छाया पुरुष या छाया साधना ( जिसे वे वही विराट रूप कहते हैं । जो श्रीकृष्ण ने महाभारत युद्ध के समय अर्जुन को दिखाया था ) वरदान स्वरूप ही है । जिसके झांसे में अनपढ़ तो अनपढ़ शिक्षित लोग भी आ जाते हैं । क्योंकि उन्हें तन्त्र मन्त्र आदि के बारे में A B C D भी पता नहीं होती । ये सब मैंने खुद देखा है ।
अभी कुछ दिनों पूर्व लिखे लेख अगङम बगङम सगङम ( क्लिक ) में मैंने जिन भदौरिया जी और स्थानीय सदगुरु राजानन्द जी का जिक्र किया । उन्होंने भी इसका भरपूर लाभ उठाया । जबकि वास्तव में इसका आत्मज्ञान या तत्वज्ञान या परमात्मा से दूर दूर तक लेना नहीं है ।
कुछ ऐसे और लोग भी मेरी जानकारी में आये ।

वास्तव में इस छायोपासना में साधक योगी तत्व का पता लगाकर अपने भविष्य, शरीरगत तत्व आदि का पता लगा सकते हैं । और इससे वे अपनी मनोदशा और जिन्दगी के अन्य क्रियाकलापों को नियंत्रित कर जीवन को लाभान्वित कर सकते हैं । वैसे इसकी कई विधियाँ योगी बताते हैं । जो इस प्रकार हैं -
छायोपासना में तेज धूप में खङे होकर बनती परछाईं के कंठ प्रदेश ( गर्दन भाग ) पर मन को पूर्ण एकाग्र किया जाता है ।
फिर साधक अपनी स्थिति अनुसार 15-20 मिनट उसका एकटक अपलक देखता है । यह तरीका ठीक त्राटक करने जैसा ही होता है ।
इसके बाद शरीर को ज़रा भी न हिलाते हुए आकाश में देखता है । 
तब जमीन से लेकर आसमान तक जहाँ तक उसकी दृष्टि जाती है । उसे अपनी ही छाया की अनुकृति दिखती है ।
इसकी कुछ आवृत्तियों के पूर्ण हो जाने के बाद षण्मुखी मुद्रा के अभ्यास करने से चिदाकाश ( चित्त का आकाश ) में उत्पन्न होने वाले रंग को देखते हैं । तब जो भी रंग दिखाई देता है ।
उस पर रंग आदि के हिसाब से सम्बन्धित तत्व का पता चलता है । अतः रंग अगर पीला हो तो पृथ्वी तत्व और भूरा हो तो आकाश तत्व की प्रधानता मानी जाती है । ऐसा ही अन्य तत्वों के बारे में समझें ।
--------------
अब सही छाया पुरुष को जानें ।
सार शब्द जब आवै हाथा । तबही काल नवावै माथा ।

1 आत्मा - जिसके पहचान के लिये इच्छा, द्वेष, सुख, दुख, ज्ञान और प्रयत्न लिंग हैं । यही भोगता है । यही निर्लेप भी है । इसी का सारा खेल है । ज्ञान दृष्टि होने पर बंध मोक्ष मन का धर्म है ।
2 शरीर - जो चेष्टा, इंद्रियों और अर्थों का आश्रय है । और भोग का स्थान है । बाह्य रूप में यह स्थूल है ।

3 इंद्रिय - आंख, नाक, कान, जीभ, त्वचा जिसके उपादान कारण प्रथ्वी, जल, अग्नि, वायु, आकाश हैं । ये भोग के साधन हैं । या ज्ञानेन्द्रियां हैं ।
4 अर्थ या विषय - रस, रूप, गंध, स्पर्श, और शब्द हैं । जो पाँचों इंद्रियों के भोगने के विषय और पाँच भूतों के यथायोग्य गुण भी हैं । मनुष्य में ये पाँचों होते हैं । अन्य जीवों में एक ही अधिक होता है ।
5 बुद्धि, ज्ञान,उपलब्धि - ये तीनों पर्याय शब्द हैं । विषयों को भोगना या अनुभव करना बुद्धि है ।
6 मन - जिसका लिंग एक से अधिक ज्ञानेन्द्रियों से एक समय में ज्ञान न होना है । जो सारी इन्द्रियों
का सहायक है । और सुख दुख आदि का अनुभव कराता है । पच्चीस प्रकृतियां, पाँच ज्ञानेन्द्रियां, पाँच कर्मेंन्द्रियां, पाँच तत्वों के शरीर का राजा ये मन है ।
7 प्रवृति - मन वाणी और शरीर से कार्य का आरम्भ होना प्रवृति है ।
8 दोष - प्रवृत करना । जिनका लक्षण होता है । ये मोह, राग, द्वेष तीन दोष हैं ।
9 प्रेतभाव - पुनर्जन्म अर्थात सूक्ष्म शरीर का एक शरीर को छोङकर दूसरे को धारण करना प्रेतभाव है । गीता में कृष्ण ने कहा था - हे अर्जुन सब भूतों में मैं ही स्थित हूँ ।
10 फ़ल - प्रवृत और दोष से जो अर्थ उत्पन्न हो । उसे फ़ल कहते हैं ।
फ़ल दो प्रकार का होता है ।
एक - मुख्य । दूसरा - गौण । मुख्य फ़ल में सुख दुख के अनुभव आते हैं । और गौण फ़ल में सुख दुख के साधन शरीर इन्द्रियां विषय आदि का समावेश होता है ।
11 दुख - जिसका लक्षण पीङा होता है । सुख भी दुख के अंतर्गत है । क्योंकि सुख बिना दुख के रह नहीं सकता । एक के बाद दूसरे का आना तय है । जैसे दिन के बाद रात और जीवन के मृत्यु निश्चित है ।
12 अपवर्ग - दुख की निवृति हो जाना । ब्रह्म की प्राप्ति हो जाना । ज्ञान की प्राप्ति या सृष्टि से अलग ज्ञान में प्रविष्ट को अपवर्ग कहते हैं ।

04 अगस्त 2016

मन राजा

बहुत पहले मेरे मन में एक प्रश्न आया कि 1 मन = 40 किलो ही क्यों माना गया ? बाद में इसका उत्तर मिला । दरअसल भारतीयों ने सभी जीवन व्यवहारिक शब्द, वास्तु, श्रंगार, मानक आदि आदि इस आधार पर रखे हैं कि उनसे हमें आत्मा, प्रकृति, सृष्टि, जीव और जीवन के 4 पुरुषार्थ धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष के बारे में बारबार स्मृति होती रहे ।
अतः उत्तर मिला -
पाँच तत्व प्रकृति पच्चीसा । दस इन्द्री मन भौ चालीसा ।
महर्षि कपिल के सांख्य दर्शन के अनुसार मूल आत्मा सहित कुल 25 तत्व मुख्य हैं । यद्यपि बाद में अन्य संवेगों को मिलाकर 70 से ऊपर तक तत्व खोज लिये गये । पर उनका प्रकरण भिन्न है । लेकिन जब बात मुख्य और सामान्य रूप से और प्रकट व्यवहार में आने वाले तत्वों की हो । तो सिर्फ़ 1 आत्मा सहित ये कुल 24 बनते हैं ।
आत्मा (पुरुष)
4 अंत:करण - मन, बुद्धि, चित्त, अहंकार ।
5 ज्ञानेन्द्रियाँ - नासिका, जिह्वा, नेत्र, त्वचा, कर्ण ।
5 कर्मेन्द्रियाँ - पाद, हस्त, उपस्थ, पायु, वाक ।
( पाद - पैर, हस्त - हाथ, उपस्थ - शिश्न, पायु - गुदा, वाक - मुख )
5 तन्मात्रायें - गन्ध, रस, रूप, स्पर्श, शब्द ।
5 महाभूत - पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु, आकाश ।

शाश्वत ( है ) परमात्मा में हुये ‘प्रथम बोध’ और उसके तुरन्त बाद हुये स्वतः स्फ़ूर्त संकुचन “हुं” से उठी मूलमाया से उत्पन्न इन पाँच महाभूतों में ही समस्त सृष्टि और समस्त जीव शरीरों की रचना हुयी । इन 5 महाभूतों की 5-5 = 25 प्रकृतियां भी इनके साथ ही उत्पन्न हो गयीं ।
आकाश की - काम, क्रोध, लोभ, मोह, भय ।
वायु की - चलन, बलन, धावन, प्रसारण, संकुचन ।
अग्नि की - क्षुधा, तृषा, आलस्य, निद्रा, मैथुन ।
जल की - लार, रक्त, पसीना, मूत्र, वीर्य ।
पृथ्वी - अस्थि, चर्म, मांस, नाङी, रोम ।
( इनमें आकाश तत्व की प्रकृतियों को लेकर मतभेद सा हो जाता है । क्योंकि शब्द, कुशब्द, गुण, व्यापन, आविर्भाव आदि कुछ प्रकृतियां ऐसी हो सकती हैं । जो आकाश से संभव है । फ़िर भी सभी मन की मनोवृतियां ही हैं । और विचार करने पर - काम, क्रोध, लोभ, मोह, भय..ही इनमें मुख्य हैं । )  
वायु तत्व से 10 प्रकार की वायु - प्राण, अपान, समान, उदान, व्यान, नाग, कर्म, कूकरत देवदत्त तथा धनंजय की उत्पत्ति हुयी । जिनमें प्रथम 5 - प्राण, अपान, समान, उदान, व्यान मुख्य हैं ।
तत्वों के बाद “हं” स्वर से अंतःकरण ( सोऽहं ) उत्पन्न हुआ । तथा तीन गुण - सत, रज, तम बने ।
इसके बाद बहत्तर नाङियों के साथ फ़िर 5 ज्ञानेन्द्रियाँ अपनी तन्मात्राओं के साथ प्रकट हुयीं । इसके बाद 5 कर्मेन्द्रियाँ भी उत्पन्न हुयीं । 
इसके बाद सात सूत ( सप्त धातुयें ) - रस, रक्त, माँस, वसा, मज्जा, अस्थि और शुक्र..भी बने ।

02 अगस्त 2016

मृत्यु के बाद जीवात्मा की गति

ग्यारहवें द्वार से जीव जब जाईं । अमरलोक तब वासा पाईं ।
दशम द्वार से जीव जो जावैं । स्वर्ग लोक में वासा पावैं ।
श्रवण द्वार जीव जो चाला । प्रेत देहि पावै तत्काला ।
नेत्र द्वारि जीव जों निकसें । माखी आदि कीट तन बिकसें ।
नासिका मारग जीव जो जाहीं । अण्डज खानी वासा पाहीं ।
मुख द्वारे से जीव जो जाया । अन्न खानी में वासा पाया ।
मूत्र द्वार जीव जब जाई । जलचर योनि गति उन पाई ।
गुदा द्वार जब जीव निकासी । बहुकालैं तक नरक कौ वासी ।

01 अगस्त 2016

आत्मा से जीव तक

निहतत से कैसे तत्त भया ? निरगुन ते गुणवंत ?
निहकर्म ते कैसे कर्म भया ? कहो समझ त्रितंत ।
सकल साज एक बूंद में ? जानत नाहीं कोय ।
कहें कबीर जिन जिव भूले । परमपरे भर्म सोय ।


यह चित्र बहुत लोगों को अधिक कठिन लगा । तो सरलता से समझने हेतु दूसरा सरल चित्रांकन किया ।



Follow by Email