30 अगस्त 2016

सबका बाप ?


फ़िर से आदिसृष्टि से पूर्व तथा आदिसृष्टि के समय और तत्पश्चात सुरति>शब्द से सृष्टि की रचना । बहुत ही सरल ढंग से ।
------------
नोट - सभी दोहे निश्चित कृम में हैं । बस समझ समझ कर गहराई से ग्रहण करना है ।
--------------
                                       साहब सब का बाप है । बेटा किसी का नाहिं । 
                                          जो बेटा बन आवता । वह तो साहब नांहि ।
                             मादर पिदर न जननी जाया । गर्भवास में कबहू न आया ।

                                    धर्मदास की कबीर साहेब से जिज्ञासा
                         निरंकार निरंजन नाऊ । जोत स्वरूप सुमरत सब ठाऊ ।
                     गावहि विद्या वेद अनूपा । जग रचना कियो ज्योति स्वरूपा ।
                                         कबीर साहब का उत्तर
                    तुमसो कहौ जो नाम विचारी । ज्योति नही वह पुरुष न नारी ।
                        तीन लोक ते भिन्न पसारा । जगमग जोत जहाँ उजियारा ।
                                           कबीर साहब बोले -
                                 सतपुरष समर्थ के । उठी मौज हिये मांहि ।
                                सोई मौज मम रूप है । नौतम सुर्त कहाय ।
                                      पुनि नौतम प्रगटी । मूल सुर्ती करतार ।
                                      मूल सुर्त से प्रकटे । तेरह सुत एक नार ।
                                                 (ग्रंथ अनुराग सागर)
                             पुष्प मांहि रहे पुरष विदेहा । सम्पुट कमल गुप्त सों नेहा ।
                                       इच्छ कीन अंश उपजाये । हंसन देख हर्ष बहु पाये ।
                                    प्रथमै पुरष शब्द प्रकाशा । लोक द्वीप रच कीन निवासा ।
                                     प्रथम समर्थ आप रहा । दूजा रहा न कोय ।
                                    दूजा केहि विधि उपजा । पूंछत हूं गुरू सोय ।
                                   प्रथम सुरति समर्थ कियो । घट में सहज उचार ।
                                         ताते जामन दीनियां । सात करी विस्तार । (दीनियां = दुनियां)
                            प्रथम सतपुरष जो कहिया । ताकी ध्यान समाध जो रहिया । 
                               खुली दृष्टि जब पुरुष प्रवीना । नौतम सुर्त ताहि को चीन्हा ।
                                       नौतम सुर्त पुरुष को भाई । नौतम सुर्त कबीर बन आई ।
                                                 तब समर्थ के श्रवण ते । मूल सुर्त भयो सार ।
                                                शब्द कला ताते भई । पांच ब्रह्म अनुसार । 
                                      नौतम सुर्त जब सुर्त सम्हारी । मूल सुर्त बैठी टकसारी ।
                                      मूल सुर्त सत्यहि को जानो । जासे सब कुछ भयो उत्पानों ।
                                                मूल सुर्त नौतम से आई । जिन यह बाजी खेल रचाई ।
                                             बाजी कीनी अनन्त अपारा । कहां लग बरनूं वार न पारा ।
                                                मूल सुर्त निज लखे जो कोई । सत लोक पहुंचेगा सोई ।



                                      सात सुर्त का सकल पसारा । सात सुर्त ते कोई न न्यारा । 7
                                            सात सुर्त का भेद बताऊं । तामें ज्ञान सकल समझाऊं ।
                                                उतपत्ति परले वाके माही । गत सों कोई न्यारा नाहीं ।
                                         प्रथम अमी सुर्त निज ठौरा । तहां निरन्जन कीना दौरा । 1
                                               वहां जाय अमी ले आवे । तासों अजर बीज उपजावे ।
                                      सोई बीज रक्त में धरही । यही विधि सों सब उत्पति करही ।
                                         बीजहि जल कि रंग कहाया । तासों रची सकल की काया ।
                                                दूजा मूल सुर्त तेहि संगा । घट घट माहि बनाव रंगा । 2
                                                  तीजो चमक सुर्त अवारा । नौ नाड़ी में कीन पसारा । 3
                                             कोठा तहां बहत्तर करही । रोम रोम युक्ति सब धरही ।
                                                   चौथी शून्य सुर्त है भाई । धर्मदास मैं तुम्है लखाई । 4
                                            पांचवी सुर्त सबन के ठांई । शुभ अरू अशुभ सुनावे दोई । 5
                                                छठी सुर्त ठिकाना भाखे । ठांव ठांव स्वाद तेहि चाखे । 6
                                                      सो तो रहे कण्ठ के धारा । बानी भाख करे उचारा ।
                                                  सतई सुर्त रहे तन मांही । हिरदे सो कहूँ न्यारी नांही । 7
                                      ब्रह्म स्वरूप धर तहां वह बैठा । गुप्त पसार सकल घट पैठा ।
                                                कोई न जाने ताका मरम । ज्ञानी ध्यानी सबही भरम ।
                                               सात सुर्त का कहां विचारा । धर्मदास कछु वार न पारा ।

                                               सुर्त से पुरुष शब्द निर्माया । यही भेद विरले जन पावा ।
                                          जो नहिं पावै शब्द सहिदानी । सो कस करहु लोक पहिचानी ।
                  In the beginning was Word.  Word was with God and Word was God. बाइबल

                                        सारशब्द से लोक बनाया । वही सार जीवन मुक्ताया ।

                                            शब्दै धरती शब्दै आकाश । शब्दे शब्द भया प्रकाश ।
                                         सगली सृष्टि शब्द के पीछे । नानक शब्द घटों घट आछै ।
                                          संतमत का यही उपदेशा । पकड़ शब्द जाओ उस देशा ।

                                            अनन्त कोटि ब्रह्मण्ड रच । सबसे रहा न्यार ।
                                              जिन्द कहे धर्मदास सों । ताका करो विचार ।

                                                 एक ते अनंत । अनंत एक होय आया । 
                                      परिचय भई जब एक सों । अनंतो एकै माँहि समाया ।
                                  आस वास दुविधा सब खोई । सुरति एक कमल दल होई ।
                                     -----------------
                                           और फ़िर सबके बाद, बात यह भी है ?
                                     बटक बीज जैसा आकार । पसर्यौ तीनि लोक बिस्तार । (बटक बीज = गूलर का बीज)
                                  जहाँ का उपज्या तहाँ समाइ । सहज सुन्य में रह्यौ लुकाइ ।
                                             बूंद जो परा समुन्द्र में । सो जानत सब कोइ ।
                                            समुन्द्र समाना बूंद में । जानत बिरला कोइ ?
                                              सकल साज एक बूंद में ? जानत नाहीं कोय ?
                                          कहें कबीर जिन जिव भूले । परमपरे भर्म सोय ।
                                             समुद्र समाना बूंद में ? बूंद मध्य विस्तार ?
                                          कहें कबीर भेद करता का । बूझो यह टकसार ?
                                            रामनगर गुरुवा बसा ? माया नगर संसार ।
                                       कहं कबीर यहि दो नगर ते ? बिरले बचे विचार ।
                                           लोकालोक अकास नहिं । झूठे लोका लोक ।
                                       कहें कबीर आस जिन बांधो । छांडो जी का सोक ।
एक टिप्पणी भेजें

Follow by Email