01 सितंबर 2013

किस आधार पर तुम्हारा ज्ञान सर्वोच्च है ?

A ( ए ) अ B ( बी ) ब C ( सी ) क स D ( डी ) द E ( ई ) इ F ( एफ़ ) फ़ G ( जी ) ग H ( एच ) ह I ( आई ) ई J ( जे ) ज K ( के ) क L ( एल ) ल M ( एम ) म N ( एन ) न O ( ओ ) अ ओ P ( पी ) प Q ( क्यू ) क R ( आर ) र S ( एस ) स T ( टी ) त ट U ( यू ) उ V  ( वी ) व W ( डवल्यू ) व X ( एक्स ) क्ष Y ( वाइ )  य Z ( जेड ) ज
अंग्रेजी वर्णमाला में कुल 26 अक्षर हैं । जबकि हिन्दी में 52 अक्षर हैं । अब इनके उच्चारण पर गौर करिये । अंग्रेजी के अधिकतर अक्षर ई और ए का आधार लिये है । अंग्रेजी के पास मुख से निकलने वाली अन्य ध्वनियों जैसे - ख घ ङ छ झ ञ ठ ढ ण थ भ ध श ष ऊ ऋ औ आदि के लिये कोई मुक्त अक्षर ही नहीं है । अंग्रेजी विपन्नता का 

इतिहास तो यहीं से शुरू हो जाता है कि - नींव ही कमजोर है । फ़िर अंग्रेजी वर्णमाला का उच्चारण हीनता दोष देखिये । जो मनुष्य ( ध्यान रहे । विदेशी भाषा भाषी भी मनुष्य ही हैं ) के स्वर तंत्र । अक्षर धातुओं । और ( अलग अलग ) शरीरस्थ चक्रों से पूर्ण सम्बन्ध ही नहीं बना पाती ( शायद आप न जानते हों । ये सभी अक्षर शरीर स्थित अलग अलग कुण्डलिनी चक्रों से उत्पन्न होते हैं ) जबकि हिन्दी के सिर्फ़ स्वर अ आ से अं अः तक ही पूरा स्नायु हिला देते हैं । और इसके बाद सिर्फ़ अ को आधार लेकर क से ज्ञ तक व्यंजनों में कितनी अक्षर धातुयें निकलती हैं । जो शरीर स्थित सनातन ज्ञान की सम्पूर्णता का द्योतक हैं । मेरी जहाँ तक जानकारी है । विश्व की किसी भी वर्णमाला में यह विशेषता नहीं है । और आप खूब ताकत लगा लीजिये । इन 52 अक्षरों के अतिरिक्त आप कोई भी ध्वनि मुख से नहीं निकाल पायेंगे ।
चलिये । इसको सिद्ध करने के बाद मुख्य बात पर आते हैं । आज बहुत से धर्म , धार्मिक व्यक्ति , धर्म पुस्तक किसी न किसी तरह से खुद को बङा बताने ( बनाने ) में लगे हुये हैं । लेकिन क्या किसी के पास हर वस्तु या पदार्थ के लिये उचित शब्द ( या अक्षर ) भी हैं । और क्या मुस्लिम ईसाई और अन्य अहिन्दी भाषियों को ख ठ भ जैसे अक्षरों की आवश्यकता नहीं होती ? क्या एक ही प्रकार की सृष्टि में ये सम्भव है ? जब मनुष्य की मूल ध्वनियां अक्षर धातुओं की पूर्ण क्रिया प्रक्रिया तक तुम्हारे पास नहीं है । फ़िर किस आधार पर तुम्हारा ज्ञान सर्वोच्च है ? ध्यान रहे । अभी तो ज्ञान का क ख ग घ भी शुरू नहीं हुआ । अभी तो उपलब्ध ज्ञान वस्तु की ही बात हो रही है ।

पर फ़िलहाल मुझे उर्दू या अन्य किसी भी भाषा से कोई लेना देना नहीं है । क्योंकि इनका ज्ञान क्या है ? ये इनके अलावा और सभी को पता है ? मुझे सिर्फ़ अंग्रेजी की बात करनी है । जिसको कुछ मूर्ख भारतीय भी श्रेष्ठ या सर्वश्रेष्ठ भाषा मानते हैं । और सर्वश्रेष्ठ संस्कृत ( या हिन्दी ) की उपेक्षा कर ये लंगङी लूली कुरूप अंग्रेजी भाषा बोलकर गर्व महसूस करते हैं ।
मेरी हमारे शिष्य साहिल से एक बार विज्ञान पर चर्चा हो रही थी । जो अंग्रेजी का अच्छा जानकार है । तब मैंने कहा - कोई भी विदेशी खोजकर्ता अपने शोध को बहुत आगे तक या पदार्थ की सूक्ष्म गति तक साधारण तरीके से इसीलिये नहीं पहुँचा पाता । क्योंकि उन्हें हिन्दी शब्दों का ज्ञान नहीं है । और यदि थोङा बहुत सीख सुनकर है भी । तो वे उसका मूल भाव ग्रहण नहीं कर पाते ।

जैसे उदाहरण के लिये सबसे बङा सवाल - विदेशी वैज्ञानिक सृष्टि की उत्पत्ति किसी MATTER से मानते हैं । यानी कोई वस्तु , पिंड आदि कुछ भी कैसा भी । और लगभग मजबूरी में ही वे ये मानने को विवश हैं कि - कोई न कोई चीज ( MATTER  ) ऐसी है । जो उत्पन्न नहीं हुयी । बल्कि पहले से थी । मजबूरी में इसलिये क्योंकि उन्हें हर बात में क्यों ? लगाने की आदत पङी हुयी है । अब क्योंकि मुझे अंग्रेजी का बहुत ज्यादा ज्ञान नहीं है । अतः मैं MATTER शब्द से उनका क्या आशय है । क्या भाव आता है ? या उसका सन्धि विच्छेद क्या होगा ? मैं नहीं जानता । लेकिन मैं इतना अवश्य जानता हूँ कि अंग्रेजी का MATTER हिन्दी में मसाला , सामग्री या शुद्ध अन्दाज में " पदार्थ " होता है । अब सामग्री या कई वस्तुयें । या फ़िर पदार्थ को सुनकर किसी भी हिन्दी भाषी का क्या भाव बनेगा ? क्या भाव चित्र बनेगा । यह सहज ही जाना जा सकता है । और यदि कोई बुद्धिमान विद्वान व्यक्ति हुआ । तो वो पदार्थ को पद + अर्थ में विभक्त कर मामले की तह तक पहुँच जायेगा । पद + अर्थ । पद यानी कोई निर्धारित स्थिति और अर्थ यानी उस पद के मायने क्या हैं ? क्या गुण आदि उसमें सन्निहित हैं ? और जब पद  और अर्थ है । तो उसका निर्माता नियन्ता भी कोई होगा ?
इसी तरह इस सृष्टि के सबसे बङे प्रमुख और प्रभावशाली शब्द " गुरुत्वाकर्षण " को देखिये । जिसके बिना आधुनिक विज्ञान ताश के पत्तों से बने महल की तरह ढेर हो जायेगा । कोई भी ठीकठाक हिन्दी जानने  वाला इस शब्द के रहस्य - गुरु + तत्व + आकर्षण , को बङी आसानी से समझ लेगा । गुरु का अर्थ प्रकाश से है । तत्व 

सार है । और आकर्षण चुम्बकत्व है । अब बल का अर्थ बहुत सरल ही है । यानी इससे पैदा हुयी शक्ति । जबकि गुरुत्वाकर्षण Gravitation गुरुत्वाकर्षण बल Force of Gravitation  के लिये अंग्रेजी में इन शब्दों का प्रयोग होता है । खास Gravity के लिये इन अर्थों का प्रयोग किया जाता है - गुरुत्वाकर्षण (m)  भारीपन (m)  आकर्षण शक्ति । गंभीरता (f)  गुरुता (f) गुरुत्व (m) 
मेरा मतलब फ़िर वही है कि जब हम गुरुत्वाकर्षण की बात करते हैं । तो थोङा भी आध्यात्म ज्ञान होने पर हम सर्व मूल आत्मा पर बिना संदेह पहुँच जाते हैं । भाव चित्र । तो क्या ऐसा ही भाव चित्र अंग्रेजी  या अन्य अहिन्दी भाषियों को बनता है । इसका अभी मुझे कोई अनुभव नहीं है । और इसीलिये पश्चिमी सभ्यता का विज्ञान दोष युक्त है । जबकि भारतीय ज्ञान विज्ञान बेहद सूक्ष्म और सटीक है ।
अब एक सबसे बङा प्रश्न जो आपके दिमाग में उठ रहा होगा कि जब हमारा ज्ञान विज्ञान आदि इतना समृद्ध है । तो फ़िर हम पिछङे हुये क्यों हैं ? और क्यों नहीं चहुमुखी बहुमुखी प्रगति कर पाते हैं ? जबकि तमाम विदेशी थोङे ज्ञान विज्ञान से ही उँचाई पर विराजमान है । इसी पर चर्चा को आगे बढाने की कोशिश रहेगी । तब तक चिन्तन करें । और यदि कोई जानकारी या प्रश्न उभरता है । तो उसे साझा करें ।
देवनागरी की वर्णमाला में -
1अ 2 आ 3 इ 4 ई 5 उ 6 ऊ 7 ऋ 8 ऋ 9 लृ 10 लृ् 11 ए 12 ऐ 13 ओ 14 औ 15 अं 16 अः  
1 क  2 ख  3ग  4 घ  5 ङ । 6च  7 छ  8 ज  9झ  10ञ । 11ट  12 ठ  13  ड  14  ढ  15 ण । 16  त  17 थ  18  द  19 ध  20 न । 21 प  22 फ  23 ब  24  भ  25 म । 26 य  27  र  28 ल  29 व । 30 श  31  ष  32  स  33  ह 34  क्ष 35 त्र 36 ज्ञ 
- आप सभी के अंतर में विराजमान सर्वात्मा प्रभु आत्मदेव को मेरा सादर प्रणाम । 
एक टिप्पणी भेजें

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Follow by Email