31 अगस्त 2013

और जानिये - र का चमत्कार

- प्यारे बच्चो ! र को हिन्दी वर्णमाला में क्या कहते हैं ? 
- मास्टर जी र को र ही कहते हैं । और उर्दू में रे और अंग्रेजी में आर कहते हैं ।.. और पंजाबी उङिया बंगाली सिंधी मराठी पश्तो फ़ारसी में क्या कहते हैं । हमें नहीं पता । और हमें इसलिये नहीं पता । क्योंकि आपने कभी बताया ही नहीं । और आपने इसलिये नहीं बताया कि खुद आपको ही कौन सा पता है ? ही ही ही
- शाबास सत्यकीखोज पढ पढकर वो भी बुद्धिमान हो गये । जिन्हें क से कौआ और ल से लोमङी तक का पता नहीं था ।
...आज प्रश्नों के उत्तर देने का मन नहीं था । क्योंकि प्रश्नों का स्तर अधिकतर बहुत साधारण सा ही होता है । और मैं आपको अपने बहुत थोङे से शेष बचे जीवन में बहुत कुछ रहस्य बता देना चाहता हूँ । वो जो मैं जानता हूँ ?
क्या आपने कभी सोचा है कि - हम किसी भी वस्तु आदि को किसी  विशेष शब्द या नाम से क्यों पुकारते हैं ? जैसे जल, वायु, चित्र, वर्ण, व्याघ्र , मृग आदि आदि वे तमाम शब्द या नाम जिनके द्वारा हम जीवन की समस्त गतिविधियों को सुचारु रूप से क्रियान्वित कर पाते हैं । उदाहरण के लिये " दूध " शब्द को ले लीजिये । अब सोचें कि दूध को दूध ही क्यों कहा जाता है ? तो जब आप इसका शब्द शोधन करोगे । तो आपको पता चलेगा कि दूध को दुग्ध या पय आदि भी कहा जाता है । जैसे ये भी पता चल सकता है कि बहुप्रचलित दही शब्द वास्तव में कोई शब्द ही नहीं है । बल्कि दधि

से बिगङकर दही हुआ है । इस तरह खोजते खोजते जब आप किसी वस्तु के यथार्थ नाम ( शब्द मूल ) तक पहुँच जाते हैं । यानी वास्तव में जो उसका शुद्ध और मूल ( जङ या उत्पत्ति ) नाम रहा है । तब आपके सामने फ़िर एक समस्या उत्पन्न हो जाती है । जैसे ठीक है कि दूध का शुद्ध और मूल दुग्ध ही है । मगर दुग्ध भी क्यों है ? तब जाहिर सी बात है कि आप दुग्ध की ही चीरफ़ाङ ( सन्धि विच्छेद । पोस्टमार्टम या आंतरिक तकनीक जानना ) करोगे । और जब आपने दुग्ध को भी विच्छेद किया । तो द + उ + ग + ध ये बना । ध्यान रहे । मैं अभी ये सब मोटे तौर पर ही कह रहा हूँ । क्योंकि जब आप द या ध को भी विच्छेद करोगे । तो वो आधा द‌‍ ( मतलब हलन्त लगा ) + अ होगा । और ध + अ होगा । अब दुग्ध के रासायनिक परीक्षण ( रस या धातु ) में आपको द + उ + ग + ध घटक कृमशः मिले हुये प्राप्त हुये । ( ध्यान दें । आप इनको किसी और कृम जैसे ग + ध + उ + द में नहीं जोङ सकते । नहीं तो दुग्ध की जगह कोई और ही पदार्थ बन जायेगा । )

फ़िर आपको पता चला कि दुग्ध में तो - लोहा कैल्शियम प्रोटीन वसा आदि तमाम रस धातु मिली हुयी हैं । तब जाकर इस एक तरल पदार्थ का निर्माण हुआ । अब आप दुग्ध और दधि को तो भूल गये । और द + उ + ग + ध के चक्कर ( घनचक्कर ) में उलझ गये । आपने सोचा कि द उ ग ध अक्षरों में ऐसा क्या और क्यों है ? जो दुग्ध बन जाता है । तब आप द उ आदि अक्षरों का मूल खोजोगे कि ये क्या हैं ? और इनकी उत्पत्ति कहाँ से हो रही है । तब आप पाओगे । किसी अज्ञात चेतना से उसी के ( या किसी के ) शाश्वत नियम अनुसार । एक संकुचन द्वारा । ( इच्छा ) वायु उत्पन्न होकर । कंपन के द्वारा तरंग में । और तरंग से गति में रूपान्तरित होकर जब विभिन्न अवयवों से संयोग कर इच्छानुसार क्रिया करती है । तब उसी से सृष्टि के तमाम पदार्थों की उत्पत्ति हो रही है । नहीं समझे । जैसे आपने क अक्षर का स्पष्ट दोष रहित उच्चारण किया । तो चेतना की इच्छा । फ़िर वायु । फ़िर कंपन । फ़िर तरंग और फ़िर इसका निश्चित तंत्र से गुजरकर यंत्र में बदलना । पूरी अखिल सृष्टि मौटे तौर पर इसी चेतना > ऊर्जा > गति > आकर्षण के सिद्धांत पर कार्य करती है । लेकिन अभी मैं इसके सूक्ष्म कारणों सिद्धांत आदि में नहीं जाऊँगा । क्योंकि इससे पहले स्थूल रूप से आपको अक्षर ( पदार्थ या दूसरे भाव में स्थिति ) के बारे में जानना होगा । 

मैंने कई बार आपको कहा है कि र अक्षर और गति एक ही बात है । क्योंकि इसमें दौङना धातु ( या क्रिया ) निहित है । सबसे पहले ये देखिये कि हिन्दी लेखन में सिर्फ़ र ही वह अक्षर है । जो प्रत्येक अक्षर के आगे पीछे ऊपर नीचे दायें बायें सर्वत्र गति कर सकता है । देखें - सूर्य । पत्र । चक्र । ट्रक । श्रम । वृत । और इसके बाद बिन्दी है । बिन्दी या बिन्दु कंपन है । क्योंकि इसमें न की ध्वनि होती है । जैसे टन्न की ध्वनि का हम किसी मशीन द्वारा ग्राफ़ देखें । तो इसमें स्फ़ोट के घात अनुसार पहले दूर दूर और फ़िर कृमशः पास होते ( गतिज ) बिन्दु नजर आयेंगे । र स्थूल गति का सिद्धांत है । और बिन्दी ( ध्वनि से उत्पन्न कंपन ) सूक्ष्म ( मन की गति ) गति का सिद्धांत है । इसके बाद सिर्फ़ प्रकाश ( मन से भी तेज । चेतना की स्थिति अनुसार इच्छित लक्ष्य पर लगभग तुरन्त ही ) की गति का सिद्धांत है । लेकिन अभी हम र यानी स्थूल गति के रहस्य की ही बात करेंगे । अक्सर आपने सुना पढा होगा कि - चिङिया फ़ुर्र से उङ गयी । गाङी सर्र से निकल गयी । ऐसा इसलिये कहते हैं । क्योंकि इनकी गति में ऐसी ही ध्वनि होती है । अब आप फ़िर वही बात देखें कि र का मुख उच्चारण पूरी वर्णमाला में सबसे अलग गतिमान तरीके से होता है । किसी भी अन्य अक्षर के उच्चारण में ऐसी क्रिया नहीं होती । सिर्फ़ ल का इससे मिलता मगर तकनीकी भिन्नता लिये होता है । अब आप हुर्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्रऽऽऽऽऽऽऽऽ ( हुर्र या भुर्र ) शब्द का उसी तरह उच्चारण करें । जैसे ग्रामीण बच्चे प्रायः कल्पित गाङी चलाने की कल्पना करते हुये भागते समय करते हैं । आप पायेंगे कि आपके मुँह के अन्दर कोई चक्र या पंखा सा तेजी से घूमने लगा । लेकिन यदि आप हुल्ल्ल शब्द का उच्चारण करेंगे । तो ऐसा नहीं होगा । मेरी जानकारी में हिन्दी वर्णमाला को छोङकर आपको विश्व की किसी वर्णमाला में यह चमत्कार या शाश्वत सिद्धांत नहीं मिलेगा । और हिन्दी वर्णमाला के किसी भी अन्य अक्षर या द्वि त्रय आदि अक्षर संयोजन से भी ऐसी गतिज क्रिया नहीं बनेगी । सिवाय छुक छुक अक्षर संयोजन के । ध्यान रहे । यदि आप पुक पुक या फ़ुक फ़ुक या हुप हुप जैसा संयोजन करेंगे । तो गति तो होगी । मगर वैसी ही । जैसे कोई वस्तु एक निश्चित और बहुत सीमित दायरे में ऊपर नीचे गतिमान है । और छुक छुक में भी एक निश्चित बंधी हुयी गति ही है ।
अब आप विशेष गौर करें कि यदि आप सिर्फ़ र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र का उच्चारण करते हैं । तो यह संभव नहीं । इससे पहले आपको इसे किसी माध्यम ( यन्त्र ) जैसे हु या भु या कोई भी अन्य अक्षर आधार के साथ जोङना ही होगा । अन्यथा गति कहाँ से और कितनी उत्पन्न हुयी । और किस चेतना स्रोत से जुङी है । क्या उपयोग होगा । ये सभी समीकरण गङबङा जायेंगे । क्योंकि मैंने र को स्थूल गति कहा है । रमने वाला ।
तो अब आप समझे कि आपके शरीर में र अक्षर जिस स्थान से उत्पन्न होकर और जिस क्रिया ( तंत्र ) से गुजरकर एक गतिमान प्रवाह या यांत्रिक ऊर्जा जैसी स्थितियों में परिवर्तित होता है । ठीक यही स्थूल गति का सिद्धांत किसी वाहन वायुयान या जीवधारियों आदि में होता है । अतः सिर्फ़ हिन्दी वर्णमाला ही ऐसी है । जिसमें चेतना > ऊर्जा > गति > आकर्षण = पदार्थ ( और इनको मिलाकर बनती है सृष्टि ) इन सभी का मूल रहस्य समाहित है । और आपको हैरानी होगी । इस सबको जानना एकदम सरल है । बस आपको चाहिये होगा - एक छोटी सी हिन्दी व्याकरण की किताब । संस्कृत हिन्दी शब्दकोष । और फ़िर स्वयं अक्षरों के विभिन्न उच्चारण आदि प्रयोग द्वारा उसके मूल को जानना । और सबसे जरूरी - राजीव बाबा । इन चार का संयोजन होते ही आप सृष्टि रहस्य और फ़िर स्वयं के रहस्य को जानने की सरल सहज यात्रा पर जा सकते हैं । 
फ़िलहाल गृहकार्य में आप अ आ से क्ष त्र ज्ञ तक का सही तरीके से बारबार उच्चारण करें । और देखें कि उच्चारण में क्या और किस तरह से क्रिया होती है । और उसका परिणाम ( पदार्थ ) क्या होता है ?
और ये भी देखिये - य र ल व ये चार अंतःस्थ व्यंजन होते हैं । इनके उच्चारण में वायु मुख के किसी भाग को पूरी तरह स्पर्श नहीं करती । 
- श ष स ह ये चार ऊष्म व्यंजन होते हैं । इनके उच्चारण में वायु मुख के विभिन्न भागों से टकराकर ऊष्मा ( गर्मी या ताप ) पैदा करती है ।
- ङ और ढ ये दो अतिरिक्त व्यंजन हैं । इनके उच्चारण में वायु जीभ से टकराकर चापस आती है । और फ़िर बाहर निकलती है । इनसे कोई शब्द शुरू नहीं होता ।
विशेष - समय का अभाव और बीच बीच में व्यवधान । ये अक्सर मुझे वह नहीं कहने देते । जो मैं कहना चाहता हूँ ।
आप सबके अंतर में विराजमान सर्वात्म प्रभु आत्मदेव को मेरा सादर प्रणाम ।
एक टिप्पणी भेजें

Follow by Email