28 मई 2016

सफल जीवन के सूत्र

1 जीवन - जब तुम पैदा हुए, तो तुम रोए थे जबकि पूरी दुनिया ने जश्न मनाया था । अपना जीवन ऐसे जियो कि तुम्हारी मौत पर पूरी दुनिया रोए और तुम जश्न मनाओ ।
2 कठिनाइयाँ - जब तक अपनी समस्याओं एवं कठिनाइयों की वजह दूसरों को मानते हैं । तब तक समस्याओं एवं कठिनाइयों को मिटा नहीं सकते ।
3 असंभव - इस दुनिया में असंभव कुछ भी नहीं । हम वो सब कर सकते हैं । जो हम सोच सकते हैं । और हम वो सब सोच सकते हैं । जो आज तक हमने नहीं सोचा ।
4 हार ना मानना - बीच रास्ते से लौटने का कोई फायदा नहीं । क्योंकि लौटने पर आपको उतनी ही दूरी तय करनी पड़ेगी । जितनी दूरी तय करने पर आप लक्ष्य तक पहुँच सकते हैं ।
5 हारजीत - सफलता हमारा परिचय दुनियाँ को करवाती है । और असफलता हमें दुनियाँ का परिचय करवाती है ।
6 आत्मविश्वास - अगर किसी चीज़ को दिल से चाहो तो पूरी कायनात उसे तुमसे मिलाने में लग जाती है ।
7 महानता - महानता कभी न गिरने में नहीं । बल्कि हर बार गिरकर उठ जाने में है ।
8 गलतियां - अगर आप समय पर अपनी गलतियों को स्वीकार नहीं करते हैं । तो आप एक और गलती कर बैठते हैं । आप अपनी गलतियों से तभी सीख सकते हैं । जब आप अपनी गलतियों को स्वीकार करते हैं ।
9 चिन्ता - अगर आप उन बातों एंव परिस्थितियों की वजह से चिंतित हो जाते हैं । जो आपके नियंत्रण में नहीं । तो इसका परिणाम समय की बर्बादी एवं भविष्य पछतावा है ।
10 शक्ति - ब्रह्माण्ड की सारी शक्तियां पहले से हमारी हैं । वो हम हैं । जो अपनी आँखों पर हाथ रख लेते हैं और फिर रोते हैं कि कितना अन्धकार है ।
11 मेहनत - हम चाहें तो अपने आत्मविश्वास और मेहनत के बल पर अपना भाग्य खुद लिख सकते हैं । और अगर हमको अपना भाग्य लिखना नहीं आता । तो परिस्थितियां हमारा भाग्य लिख देंगी ।
12 सपने - सपने वो नहीं हैं । जो हम नींद में देखते हैं । सपने वो हैं । जो हमको नींद नहीं आने देते ।
13 समय - यह नहीं कह सकते कि आपके पास समय नहीं है । क्योंकि आपको भी दिन में उतना ही समय ( 24 घंटे ) मिलता है । जितना समय महान एवं सफल लोगों को मिलता है ।
14 विश्वास - विश्वास में वो शक्ति है । जिससे उजड़ी हुई दुनिया में प्रकाश लाया जा सकता है । विश्वास पत्थर को भगवान बना सकता है । और अविश्वास भगवान के बनाए इंसान को भी पत्थर दिल बना सकता है ।
16 सफलता - दूर से हमें आगे के सभी रास्ते बंद नजर आते हैं । क्योंकि सफलता के रास्ते हमारे लिए तभी खुलते हैं । जब हम उसके बिलकुल करीब पहुँच जाते हैं ।
17 सोच - बारिश के दौरान सारे पक्षी आश्रय की तलाश करते हैं । लेकिन बाज़ बादलों के ऊपर उडकर बारिश को ही avoid कर देते है । समस्याएं common हैं । लेकिन आपका नजरिया इनमें difference पैदा करता है ।
18 प्रसन्नता - यह पहले से निर्मित कोई चीज नहीं है । ये आप ही के कर्मों से आती है ।
साभार - अज्ञात ( फ़ेसबुक पेज से )
एक टिप्पणी भेजें

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Follow by Email