11 अक्तूबर 2013

लिख गयी है महाविनाश की रूपरेखा

ऊपर के इन सभी तथ्यों का स्रोत मेरे द्वारा है । मेरे ख्याल से यह अधिक विश्वसनीय है ।
- चंद्रमा अपनी कक्षा से दूर चला गया है । 63 अंश । 1 मील ।
- पापुआ, निकरागुआ में जल वृष्टि होगी ।
- निकरागुआ में निकोलस का गढ़ है ।  - चिली और जर्मनी में तबाही । 
- सूरज का 1 हिस्सा टूटेगा । जैसे कोई सेब या तरबूज का 1 हिस्सा नोच लेता है । 
- चन्द्रमा लगातार दूर जा रहा है ।- 2 चंद्रमा पृथ्वी की तरफ आ रहे हैं ।
- परामंडल में 2 अज्ञात ग्रहों की कङी टक्कर होगी ।  ग्रहों की टक्कर से भीषण मात्र में विकिरण फैलेगा ।
- ISON धूमकेतु के अगल बगल घूमने वाले 2 हिस्से उस महादैत्य की टुकड़ी ( सेना ) है । http://truthfrequencyradio.com/video-chinese-space-radar-shows-ison-with-two-objects-incoming/
- प्रलय के अंतिम 3 दिनों के शेष होने पर होगा विस्फोट ।
- सूर्य आधा पूर्ववत स्थिति में ( गर्म ) है । और आधा ठंडा हो गया है ।

- सिलीगुड़ी में बारूद का फैलाव ।  - अमेज़न में बढेगा जलस्तर ।
- लिख गयी है महाविनाश की रूपरेखा । काल ने 3 पन्ने लिख लिए हैं । 5 पन्ने कुल लिखने हैं । चौथा भी लगभग पूर्ण ।  
- सूर्य छिन्न भिन्न हो गया है । - सूर्य में 2 दल काम करते थे । जिनमें से केवल 1 अस्थायी रूप से कार्य कर रहा है । वह भी चला जाएगा ।
- अगले कुछ महीनों में नए सूर्य की नियुक्ति होगी ।
- एटलांटा में भूमिगत प्रस्तर ( पत्थर ) खंड आंदोलित होंगे ।
- न्यूगिनी में जल भराव । - वेनेजुएला में आतंरिक भूकंप । राष्ट्रीय आपदा । - न्यू मेक्सिको की खाङी में जल भराव । 
- .399 की रिक्टर स्केल पर सूक्ष्म जहरीली गैस फैलकर वातावरण को विषाक्त करेगी ।
विशेष - इसका क्या मतलब है । मैं इस पर आपकी जानकारी चाहता हूँ । क्योंकि यही सबसे खास और अहम है । मैं इस पर विस्त्रत खुलासा शीघ्र करूँगा ।
- 10 करोड़ नरक में । - 10 लाख स्वर्ग में । - 70 लाख धरती पर मनुष्य रूप में । - बचे हुए शेष जीव जंतु रूप में ।

- 10 अरब होगी नयी दुनियां में ( मनुष्य नहीं । सिर्फ़ पशु पक्षी आदि ) जीव जन्तुओं की कुल आबादी ।
- 10 करोङ नयी वनस्पतियां देखने को मिलेंगी ।
- पूरे विश्व में 10 नयी मुद्राओं का चलन होगा ।
- अग्निमांध ज्वर । हड्डी तोङ ज्वर का कहर होगा । इसमें हड्डियों के सिरे फट ( चटक ) जाते हैं । और शरीर के अन्दर खून रिसकर फैलता है । यह अकल्पनीय महामारी होगी । यह हर तीसरे व्यक्ति को होगी ।
- ऐल्प्स पर्वत श्रंखला ध्वस्त ।
- सेन डिएगो में भीषण बर्फ़बारी । सेन डियेगो का जमीनी ( आंतरिक हिस्सा ढह जायेगा । या कहिये ढह गया ।
- सूर्य अपनी धुरी से पलटकर 300 डिग्री नीचे आ जाएगा । इसमें नीचे का हिस्सा गर्म । और ऊपर का हिस्सा ठंडा होगा ।
*************
यहाँ से सभी विवरण नेट का है । जिसका मुझसे कोई सम्बन्ध नहीं ।
- और अब खोजिये उस निकोलस को । जो इस खेल का असली नायक  सारी खलनायक है । इस बारे में मैं स्पष्ट करने की कोशिश कर रहा हूँ ।
http://en.wikipedia.org/wiki/Nicolaus_of_Damascus
दमस्कस का निकोलस 1 ग्रीक इतिहासकार और दार्शनिक था । जो कि ऑगस्टस के समय मे रोम साम्राज्य मे हुआ । उसका यह नाम उसके जन्म स्थली दमस्कस के नाम पर पड़ा । निकोलस का जन्म लगभग 64 ई॰पू॰ मे हुआ । यह हेरोद महान का करीबी मित्र था । जिसके साथ वह लम्बे समय तक रहा । यह एंटनी और महारानी क्लेओपात्रा के बच्चों का अध्यापक भी रहा । सोफ्रोनियस के अनुसार । निकोलस, हेरोद अरचेलौस के साथ रोम गया । इसने बहुत से लोगों की जीवनी, और इतिहास पर बहुत सी पुस्तकें लिखीं । जिसमें वैश्विक इतिहास की 144 पुस्तकें भी हैं ।
http://en.wikipedia.org/wiki/Saint_Nicholas
संत निकोलस ( जन्म 15 मार्च 270 मृत्यु 6 दिसम्बर 343) को मायरा के निकोलस भी कहा जाता है । ये एक चौथी शताब्दी के एतिहासिक संत और लूसिया में मायरा ( डेमरे, आधुनिक समय का तुर्की ) के पादरी थे । क्योंकि इनके साथ बहुत से चमत्कार जुड़े हुये हैं । इसलिए इन्हे निकोलस द वंडर वर्कर ( Nicholas the wonder-worker ) के नाम से जाना जाता है । ये लोगों को गुप्त रूप से तोहफे भेंट करने के  लिए प्रतिष्ठित थे । जैसे कि अगर कोई इनके लिए जूते छोड़कर जाता । तो ये उनके अंदर सिक्के डाल देते । इस प्रकार से ये आधुनिक समय के सांता क्लाउस के लिए आदर्श रहे ।
http://en.wikipedia.org/wiki/Adolfo_Nicol%C3%A1s
http://www.vaticancrimes.us/2013/03/francis-first-jesuit-pope-facts-you.html
http://warningilluminati.wordpress.com/the-most-powerful-man-in-the-world-the-black-pope/
एडोल्फो निकोलस । जिसे " द ब्लैक पोप " के नाम से जाना जाता है । वर्तमान समय का सर्व शक्तिशाली व्यक्ति है । जिसके नीचे आधुनिक समय की सभी सर्वोच्च संस्थाएं कार्य करती हैं । चाहे वह सयुंक्त राष्ट्र हो । अरब राष्ट्र हो । कोई गुप्त सरकारी संस्था हो । अमेरिका की कोई भी सुरक्षा रक्षा आदि से संबन्धित संस्था हो । ईसाई धार्मिक संस्था हो । या ईसाई पोप ही क्यों न हो । सभी संस्थान इसी ब्लैक पोप के आदेश से ही कार्य करते हैं । इसी ब्लैक पोप को ही सभी प्रकार के षडयंत्रो का सूत्रधार माना जाता है । और इल्लुमिनाटी, जेसूइट्स ऑर्डर आदि षड्यंत्र कारी समूह इसी के आदेश से काम करते हैं ।
**********
इसी संभावित प्रलय को लेकर कुछ लोगों के द्वारा देखे गए स्वप्न ।
http://www.godlikeproductions.com/forum1/message2356682/pg1
मेरे पिता की मृत्यु 5 माह पूर्व हो गयी थी । पिछली 2 रातों से वह 1 चेतावनी के साथ मेरे सपनो में आते है ।  पहला सपना - मेरे पिता मुझे और मेरे भाई को 1 गाँव के ढाबे पर ले गए । हम वहाँ 1 बूथ में बैठे थे । तभी मेरे पिता आगे की ओर झुक कर बोले - देखो ! मैं तुम दोनों को यह बताना चाहता हूँ कि मैं तुम दोनों पर अपनी नजर रखे हूँ । इसके अलावा अमुक महीने ( महीना अस्पष्ट ) की 24 तारीख को विश्वव्यापी विनाश और युद्ध होगा । तो तुम दोनों अपने परिवार के साथ ही रहना । क्योंकि तुम लोग उस घटना में बच जाओगे ।  
इसके अगली रात सोने से पूर्व मैंने अपने पिता को याद किया । और कहा कि कल आपने जो महीना और घटनाएं मुझे बताई थी । मैं उसे भूल गया हूँ । क्या आज आप दोबारा मेरे सपनों में आकर अपना सन्देश दोहराएंगे ? इसके बाद मैं सोने चला गया । उस रात मुझे फिर से 1 सपना आया । इस बार मैं अपने पिता और माता दोनों के साथ कार से जा रहा था । कार को मेरी माँ चला रहीं थी । और मैं उनके बगल में बैठा हुआ था । 

मेरे पिता पिछली सीट पर बैठे थे । मैंने पीछे मुड़कर अपने पिता से पूछा - तो आप अपना सन्देश दोहराएंगे ? वह मौन रहे । मेरी सिफारिश बेकार रही । ऐसा सोचकर मैं आगे देखने लगा । और तभी मैंने देखा कि समुद्र में किसी लहर की तरह जमीन उठकर हमारी ओर बढ़ी चली आ रही है । जैसे ही वह लहर हमारी कार के पास पहुँची । तो वह हमारी कार को नीचे से उठाती हुई पीछे निकल गई । ठीक वैसे ही जैसे कि कोई समुद्री लहर छोटी नाव के साथ करती है । ऐसी लहरें 1 के बाद 1 आती रहीं । तब मैंने अपने पिता से कहा - यह ज्यादा खतरनाक नहीं लगता । इन छोटी लहरों से कोई बड़ा नुकसान नहीं होगा कि तभी 1 बड़ी लहर उठी । न्यूयार्क की सबसे बड़ी इमारत जितनी बड़ी । या फिर उससे भी बड़ी । वह किसी बड़ी दीवार की तरह हमारे सामने थी । और उसके साथ था मलबा । भीषण मलबा । जिसमे कई गाड़ियाँ और दूसरी छोटी इमारतें और कई लोग थे । वह लहर सीधा हमारी ओर बढ़ी आ रही थी । और तभी मेरे पिता ने आसपास देखा । और यह सुनिश्चित किया कि कोई सुन तो नहीं रहा है । जैसे वह मुझसे कोई निषिद्ध बात बोलने जा रहे हो । फिर मेरे कान के पास आकर के बोले - इस साल क्रिसमस नहीं होगा । यह कहकर वह अपनी सीट पर चले गए ।
*************
इसी के नीचे 1 अन्य व्यक्ति की टिप्पणी - 3 रात पहले मुझे भी कुछ ऐसा ही सपना आया था । और यह घटना अमेरिका में हुई थी । ( मैं ऑस्ट्रेलिया का निवासी हूँ । ऐसे में मुझे अमेरिका से सम्बंधित स्वप्न आना काफी अस्वाभाविक हो जाता है । ) इस घटना की जानकारी मुझे मेरी माँ ने दी थी । जो कि 10 साल पहले मर चुकी हैं । मुझे कल रात 1 सपना आया था कि 1 विशालकाय परग्रही द्वारा धरती नष्ट हो रही थी । जो कि शुरुआत में सोता हुआ सा प्रतीत हो रहा था । परन्तु जैसे ही वह हिलता । तो धरती पर भीषण भूकंप आते । मुझे ऐसा आभास भी हुआ कि जल्द ही यह परग्रही में विस्फोट हो जाएगा । इस सपने से मुझे " पसिफ़िक रिम " पिक्चर की याद आ गयी ।
******************
1 अन्य दूरदृष्टा द्वारा अनुभव की गयी कुछ भविष्य की घटनायें ।
USA के East Coast का सुनामी से विनाश
http://www.godlikeproductions.com/forum1/message2327543/pg1
तारीख 21 अक्टूबर 2013 । 7 करोड़ लोगों की मृत्यु । 2.7 करोड़ घायल या विस्थापित । 2.75 लाख लोग घटना के फलस्वरूप खाना पानी के अभाव में, लूट और दंगों में मारे जायेंगे ।
प्रभावित क्षेत्र - न्यूयार्क । वाशिंगटन डी.सी । बोस्टन । फ़िलेडैल्फ़िया । नोरफ्लोक । विल्मिंगटन । चार्ल्सटन । जैक्सनविल । ऑर्लैंडो । मियामी । 1.5 मील ऊँची सुनामी टेकटोनिक प्लेट्स के पुनः व्यवस्थित होने के कारण धरती पर 35-70 मील तक अन्दर आ जायेंगी ।
नदियाँ बाढ़ के निशान से 20 फ़ुट ऊपर ।
मिसिसिप्पी नदी अपने स्टार से 30 फ़ुट ऊपर ।
अटलांटिक महासागर के तल का 1 हिस्सा उभर कर ऊपर आ जायेगा । जिसके कारण जहाजों के मलबे और नए जमीनी टुकड़े का पटाक्षेप होगा ।
सरकारी और जलसेना के कई 100 जहाज़ अटलांटिक महासागर में पलट जायेंगे । और उनके दल खो जायेंगे ।
नयी तटरेखा और नए भूभागों के कारण अटलांटिक महासागर को नक़्शे पर फिर से चित्रित करना होगा ।
इस सभी की शुरुआत अमेरिका के पूर्वी तट पर 9.6 तीव्रता के 1 भूकंप से होगी । जिससे कि भू-स्खलन प्रारंभ हो जाएगा ।
परिवर्तन से 6 मिनट पूर्व लहरें तटों की तरफ बढेंगी । और 6 मिनट बाद जा टकराएंगी ।
21 मिनट बाद जब लहरों का अन्त होगा । तो अमेरिका का अधिकांश पूर्वी तट और कोई भी तटीय इलाका जो कि समुद्र स्तर से 50 या कम फीट की ऊंचाई पर है । पूर्ण रूप से जलमग्न हो जायेंगे ।
शहरों की इमारतें तिनकों की भांति टूट जायेंगी ।
ठीक 36 घंटों बाद नदियों में बाढ़ अपने शिखर पर होगी ।
सुरक्षित इलाका - मिसिसिप्पी नदी से 100 मील पश्चिम की ओर ।
क्यूबा, बहमास और केरेबियाई टापुओं की श्रृंखला 10 मिनट के भीतर समाप्त हो जायेगी ।
मेक्सिको के हिस्से भी प्रभावित होंगे ।
कनाडा का पूर्वी तट भी भीषण रूप से प्रभावित ।
वर्तमान समय की ये बहुत बड़ी त्रासदी होगी । अटलांटिस की घटना के समतुल्य ।
मुझे अच्छे लोगों को बुरी खबर देने से घृणा है । 
सूर्य अपने चुंबकीय ध्रुव पलटेगा ।
http://www.space.com/22271-sun-magnetic-field-flip.html
सूर्य के ऊपर क्षेत्र ( उत्तरी ध्रुव ) पर भीमकाय छेद ( ठंडा स्थान देखा गया )
http://www.space.com/22059-sun-hole-photo-nasa-video.html
कुछ और जानकारी यहाँ भी है ।
https://www.facebook.com/groups/supremebliss/168520930010111/?notif_t=group_comment

तेजी से बढ़ रहा है चक्रवाती तूफान फैलिन, आंध्र-ओडिशा में अलर्ट जारी http://www.jagran.com/news/national-cyclone-phailin-andhra-pradesh-and-odisha-fears-about-supercyclone-10789289.html
इसी विषय पर तीनों लिंक्स -
अगले चार महीनों में क्या होने वाला है
http://searchoftruth-rajeev.blogspot.in/2013/10/blog-post_9.html
लिख गयी है महाविनाश की रूपरेखा
http://searchoftruth-rajeev.blogspot.in/2013/10/blog-post_11.html
महाविनाश की उलटी गिनती शुरू 
http://searchoftruth-rajeev.blogspot.in/2013/11/blog-post_22.html
ऐसा ही एक और संदर्भ -
एडगर केसी ने अपने जीवन में बहुत सी बातें कहीं । वो तंद्रा की अवस्था में यह सब बताते थे । इसलिए उन्हें sleeping prophet कहा जाता है । उन्होंने लगभग हर विषय पर बोला । उदाहरण के लिए बीमारी के इलाज बताए । लेकिन समस्या यह है कि उनके बताए उपायों में प्रयोग होने वाली वस्तुएं या तो धरती पर से समाप्त हो गईं । या आने वाले समय में खोजी जाएंगी । इस कारण कई मरीजों की इलाज पता लगने के बावजूद मृत्यु हो जाती थी । केसी द्वारा बोली गई बातें श्रृंखलाबद्ध रूप में संकलित हैं । और इन पर अध्ययन के लिए यह सोसाइटी कार्य कर रही है ।
http://www.edgarcayce.org/edgar-cayce1.html 

एडगर केसी " अनेक महल " 8
http://panchjanya.com/arch/2005/6/12/File16.htm

एक टिप्पणी भेजें

Follow by Email