29 जून 2012

आप सभी का 3 जुलाई को सप्रेम निमन्त्रण है

विश्व स्तर पर हम बहुत से दिवस मनाते हैं । इतने कि उन सभी का नाम बताना भी बेहद कठिन है । पर
अपने अब तक के अनुभवों से मैं समझता हूँ । इस प्रथ्वी पर गुरु पूर्णिमा से अधिक महत्वपूर्ण दिन कोई नहीं है । इसे व्यास पूर्णिमा या आषाङी पूर्णिमा भी कहा जाता है । हिन्दू तिथियों के अनुसार बस मुझे इसके जुलाई महीने में ही पङने से कुछ उलझन होती है । क्योंकि अभी नये नये स्कूल कालेज खुले होते हैं । और एडमीशन आदि चल रहे होते हैं । अबकी बार तो यह 3 जुलाई को पङ रही है । इससे थोङा पहले यह जून के महीने में पङती । तो सभी लोग बेफ़िक्र होकर इस महा दिवस पर सपरिवार गुरु आश्रमों में सम्मिलित होकर आध्यात्मिक लाभ उठाते । लेकिन मनुष्य जीवन के अनुसार इसके बे समय पङने से बहुत से इच्छुक लोग भी मजबूरी में वंचित रह जाते हैं ।
इस सबके बाबजूद भी इसका महत्व जानने वाले श्रद्धालु लोग हजारों किमी की यात्रा कर देश विदेश से गुरु के दर्शनों हेतु पहुँचते हैं क्योंकि - गु अंधियारा जानिये । रु कहिये प्रकाश । मिटि अज्ञाने ज्ञान दे । गुरु नाम है तास । गुरु पूर्णिमा का निमंत्रण हमारे शिष्यों श्रद्धालुओं को भेजते हुये मुझे इसी बात का अहसास हुआ । जब उन्होंने 3 जुलाई के कारण आने में बङी असमर्थता सी जताई । क्योंकि 1 दिन के कार्यकृम में भी दूर दूर से आने वालों को 3 दिन का समय चाहिये होता है । पर मैं

इसको एक दूसरे दृष्टिकोण से भी देखता हूँ कि शायद इसी को किस्मत भी कहते हैं । और दूसरे शब्दों में कोई पुण्य अर्जित करना भी हमारे हाथ में नहीं होता । इसके लिये सालों पहले से भावना भक्ति की धारा ह्रदय में संचरित हो । तभी ऐसे सुयोग बनते हैं । खैर..यदि आपके अन्दर भावना हो । तो गुरु कहीं दूर भी नहीं होते । बल्कि दीक्षा प्राप्त हंस ज्ञान में गुरु अंग संग होते हैं । इसलिये - लच्छ ( लाख ) कोस जो गुरु बसे । दीजे सुरति पठाय । शब्द तुरी असवार है ।  छिन ( पल में ) आवे छिन जाय । यानी आप अपनी भावना अनुसार घर पर ही गुरु चित्र के आगे भाव पूजन कर सकते हैं ।
ये विराट की अखिल बृह्माण्डी सत्ता - शब्द ( सबसे ऊपर के आसमान में धुर ( केन्द्र ) पर होती बहुत तेज घनघोर टंकार ) के वायव्रेशन से पल पल निर्मित और ध्वंस हो रही है । शब्द के वायव्रेशन से ही चुम्बकीय बल पैदा होता है । जिसे दूसरे शब्दों में गुरुत्व बल और अंग्रेजी में gravity force कहते हैं । अब आप इन्हीं 3 लाइनों में छिपे ( वास्तव में अलौकिक ) बिज्ञान के इस महा रहस्य को समझने की कोशिश करें । इस चुम्बकीय बल से ही ये सभी बृह्माण्ड निराधार टिके भी हुये हैं । और गति भी कर रहे हैं ।  किससे ? सिर्फ़ चुम्बकीय बल यानी gravity force से । और ये चुम्बकत्व किससे है - शब्द से । और शब्द ( स्वयं ) किससे है ? शाश्वत प्रकाश से । और गुरु का अर्थ

क्या है ? जीव को इसी गु ( अज्ञान के अंधकार ) से उसी  रू ( शाश्वत प्रकाश ) तक ले जाकर मिला दे । वही गुरु है । यानी हर चीज का अन्त होकर । शाश्वत सत्य से - गुरु बिन ज्ञान न उपजे ।  गुरु बिन मिले  न मोक्ष । गुरु बिन लखे न सत्य को ।  गुरु बिन मिटे न दोष ।
अब साइंस की बीन बजाने वाले एक और मजेदार चीज पर गौर करें । 500 साल पहले आये कबीर । जिन्हें दुनियाँ अंगूठा टेक कहती समझती है ( हालांकि ये बात अलग है कि कबीर का एक एक दोहा समझने में ही अच्छे अच्छे लम्ब लेट हो जाते हैं ) क्या कह रहे हैं - सतगुरु सम कोई नहीं । सात दीप नौ खण्ड । तीन लोक न पाइये ।  अरु इक्कीस बृह्मण्ड । तमाम बङी बङी दूरबीनें लगाये बैज्ञानिक और उनके पिछलग्गू आज भी मुझे इतना ही बता दें कि - 7 दीप 9 खण्ड  3 लोक  और 21 बृह्मण्ड का आखिर सही सही मतलब क्या है ? ये कहाँ हैं ? और अनपढ ? कबीर आखिर किस आधार पर ऐसा कह सके ? यहाँ कहा जा सकता है । कबीर कवित्त की कल्पनायें करने में माहिर थे । उन्होंने कल्पना के घोङे दौङाये होंगे । तो कबीर वाणी में जो धार्मिक साहित्य वेद पुराण और सबसे बङी बात कृमवद्ध ढंग से युगों युगों की बैज्ञानिक तरीके से जानकारी दी गयी है । वो एक बुनकर अनपढ जुलाहा दे सकता है ? तब जब उसे जीविका के लिये कङी मेहनत करनी होती हो ।
देखिये द्वैत के महा योगी और राम के ससुर राजा जनक के शिष्य शुकदेव के लिये उन्होंने क्या कहा - शुकदेव

सरीखा फेरिया । तो को पावे पार । बिनु गुरु निगुरा जो रहे । पड़े चौरासी धार । शुकदेव को विष्णु ने निगुरा होने के कारण स्वर्ग से लौटा दिया था । मुझे नहीं लगता । बैज्ञानिक आज भी 84 लाख योनियों के बारे में कुछ जानते हों । जबकि आत्म ज्ञानियों का सन्त मत इसका विस्त्रत बैज्ञानिक विवेचन करता है । और भी देखिये । द्वैत का कोई कथावाचक । साधु सन्त  ये कहने की हिम्मत रखता है - बिन सतगुरु उपदेश ।   सुर नर मुनि नहिं निस्तरे । बृह्मा   विष्णु  महेश । और सकल जीव को गिने ।
देवता । मुनि । बृह्मा   विष्णु  महेश जब इनका खुद का उद्धार मोक्ष बिना सतगुरु के नहीं हो सकता । तो फ़िर तुच्छ जीव ये मनुष्य किस गिनती में है ? मुझे एक बात याद आती है । कबीर सचखण्ड से जब मान सरोवर से जीवों को चेताने सतपुरुष के आदेश पर आ रहे थे । तो रास्ते में

विष्णु मिला । कबीर ने कहा - सतनाम को जानो । उसका सुमरन करो । तुम्हारा मोक्ष होगा । विष्णु चौंक गये । विष्णु ने कहा - मैं खुद जीवों को 4 प्रकार का मोक्ष देता हूँ । फ़िर मेरा कैसा मोक्ष ? कबीर ने कहा - तुम्हारा छोङो । तुम्हारे माता ( अष्टांगी या आदि शक्ति ) पिता ( काल पुरुष या निरंजन ) को भी मोक्ष प्राप्त नहीं है । वे भी अमर नहीं । वे भी समय आने पर मृत्यु को प्राप्त होते हैं । फ़िर तुम  क्या मोक्ष दोगे ? तुम्हारा मोक्ष ( मुक्त ) नहीं मुक्ति ( एक लम्बे समय तक दिव्य जीवन आदि मिलना ) है ।
खैर..घोर अहंकारी विष्णु को यह बात अच्छी नहीं लगी ( जबकि उसे ये सोचना चाहिये था - मुझसे आखिर ये बात कहने वाला कौन है ? ) ।  कबीर आगे आये । तब अष्टांगी और काल पुरुष के सबसे छोटे पुत्र शंकर ने उनकी बातों को समझा । गौर किया ।
इसी को आगे दोहे में कहा है -  गुरु सरनागति छाड़ि के ।  करे भरोसा और । सुख सम्पति की कह चली ।   

नहीं नरक में ठौर । यहाँ - करे भरोसा और..का मतलब यही है । जो मनुष्य इन देवी देवताओं के उलझाऊ कठिन और लगभग पाखण्डी ( क्योंकि इनके द्वारा प्रेरित शास्त्र गोलमाल शब्दों में जीव को उलझाकर मोक्ष के नाम पर सदा धोखा देते हैं ) ज्ञान ? में फ़ँस जाता है । उसे नरक में भी स्थान पाना मुश्किल हो जाता है । क्योंकि नरक से भी भयानक स्थितियाँ इन 5 - काल पुरुष इसकी पत्नी आदि शक्ति तीनों पुत्र बृह्मा   विष्णु  महेश ने निर्मित की हैं । एकमात्र उद्देश्य वही । जीव को सदा काल के जाल में फ़ँसाये रखना । जीव ! जो काल पुरुष का भोजन है । अष्टांगी अपने पति काल पुरुष से डरती है । और उसकी ( अष्टांगी की ) शक्ति के आगे बृह्मा   विष्णु  महेश सिर्फ़ बच्चे हैं । जाहिर है । ये चारों काल पुरुष की इच्छा अनुसार ये धूर्तता करने पर विवश हैं ।


और देखिये - सतगुरु मिले तो सब मिले ।   न तो मिला न कोय । मात  पिता सुत बांधवा । ये तो घर घर होय । माता पिता पुत्र भाई बहन पत्नी पति मित्र रिश्तेदार ये तो हर जन्म में मिलते रहे । और यही रोटी दाल कमाने का बखेङा फ़ैला रहा । पर सतगुरु लाखों करोंङो जन्मों के बाद पुण्य संचित होने पर ही मिलते हैं । इसलिये - गुरु को कीजे दण्डवत । कोटि  कोटि परनाम । कीट न जाने भृगं को ।   गुरु कर ले आप समान । एक मामूली तिनके के समान रेंगने वाले किसी भी ( यहाँ जीव मनुष्य ) कीङे को भृंग ( उङने वाला । पंखों वाला चींटा ) अपने ( शब्द की गुंजार हूँऽऽ हूँऽऽ  से ) समान शक्तिशाली बना देता है । सोचिये । कहाँ जमीन पर मुश्किल से घिसटते हुये रेंगना । और कहाँ मुक्त भाव से उङना । है अदभुत बिज्ञान ।
इसीलिये सन्तों की महिमा में कितना उचित ही कहा है - साधु बिरछ सत ज्ञान फल ।  शीतल शब्द विचार । जग में होते साधु नहिं ।  जर भरता संसार ।


लेकिन एक ही खास बात है । वो क्या - जो गुरु ते भृम न मिटे ।  भ्रान्ति न जिसका जाय । सो गुरु झूठा जानिये ।  त्यागत देर न लाय । जैसा कि कबीर वाणी अनुराग सागर इस काल पुरुष इसकी पत्नी तीनों पुत्र बृह्मा   विष्णु  महेश और काल द्वारा नियुक्त विभिन्न रूपा काल दूतों ( संसार में फ़ैले नकली साधुओं के रूप में ) की सटीक पोल खोल कर रख देती है । उसी प्रकार अन्य नकली पाखण्डी गुरुओं की भी संसार में भरमार है । खास अभी कबीर और आत्म ज्ञान के नाम पर तो झूठा ज्ञान देने वाले धूर्त बहुत मुखर हो गये हैं । इसलिये दीक्षा उपदेश के बाद तुरन्त से लेकर 3 महीने के अन्दर यदि आपके अंतर में प्रकाश नहीं हुआ । 3rd eye तीसरी आँख नहीं खुली । किसी प्रकार की अलौकिकता का अनुभव नहीं हुआ । तो गौर करिये । आपका गुरु वास्तव में ही गुरु है । या आप किसी काल दूत के चक्कर में फ़ँसे हुये हैं ?
गुरु पूर्णिमा के शुभ पावन अवसर पर आपको ठोस सच्चाईयों और गुरु महिमा से कुछ कुछ परिचित कराने की कोशिश करते हुये - आप सभी का 3 जुलाई को हमारे आश्रम में सादर सप्रेम निमन्त्रण है । भले ही आप हमारे मण्डल के शिष्य हैं । या नहीं है । आप हमारे पाठक हैं । मित्र हैं । या विश्व के नागरिक हैं । आप सभी का सप्रेम निमन्त्रण है । कार्यकृम की जानकारी स्थान आदि इसी लेख में छपे अंग्रेजी हिन्दी निमन्त्रण पत्र में देखें ।
- यह निमन्त्रण पत्र अमित ( गाजियाबाद ) द्वारा तैयार किया गया है ।
एक टिप्पणी भेजें

Follow by Email