11 जून 2012

WHEN I MISS U

I eat T.V & watch the Food. I baked Book & studies cake. I switched off the bed
& slept on fan. This is the condition when .I MISS U
- मामा ये लङकी ...?
- shut up Mr Golu224 and listen मेरी किसी भी दोस्त के बारे में कोई नुक्ताचीनी की । तो बहुत गलत बात होगी..हाँऽऽऽ । यार ! अच्छे दोस्त कितनी मुश्किल से मिलते हैं । और आप एकदम से कह देते हो । ये मोटी है । ये छोटी है । इसकी शक्ल कार्टून जैसी है । ये बन्दरिया सी लगती है । इसका  फ़ोटो कितना बेकार सा है । ये पागल सी लगती है । What do you mean ? हैं । बोलिये ?
गोलू जी एकदम सिटपिटा गये । और खिङकी से बाहर देखने लगे । बेहद तेज तर्रार और हाजिर जबाब गोलु मेरे 10 वर्षीय भांजे हैं । और काम से थकान के बाद हल्की फ़ुल्की मनोरंजक बातचीत के अच्छे दोस्त के जैसे । मुझे लगा । मैंने कुछ ज्यादा बोल दिया । इसलिये मैंने प्यार से कहा - अच्छा ! बताओ । आपकी कितनी Girlfriend हैं ?
- 2 । उसने उँगलियाँ दिखाकर इशारे से बताया । फ़िर शब्दों में बोला - Two only
- तो उन 2 की नाक बाक बहती है कि नहीं ? वो कौन सी बार्बी डाल जैसी हैं ?
गोलू को बहुत बुरा लगा । और वो मुझसे कुट्टी करके बाहर चले गये ।
अजीव है जिन्दगी भी । कुछ समझ में नहीं आता । इसे कौन से एंगल से व्यवस्थित किया जाये । जो सब कुछ ठीक ठाक चलता रहे । मैं अक्सर यही सोचता हूँ । कहाँ गलती हो जाती है हमसे । जो जिन्दगी का तारतम्य ही बिगङ जाता है । हम कितना ही सही चलें । समझदारी का परिचय दें । तो भी जिन्दगी अपने विलक्षण खेल दिखायेगी ही । कभी खुशी कभी गम । कभी संयोग । कभी वियोग । कभी स्वस्थ । कभी रोग । सब कुछ तो द्विपक्षीय है ।
और सभी इतने सहनशील नहीं होते कि जिन्दगी के इन कुठाराघातों को झेल सकें । अक्सर ही लोग जिन्दगी से हार मानकर टूट जाते हैं । जब उन्हें अत्यन्त भावनात्मक सहारे की जरूरत होती है । जिन्दगी किसी भयानक दैत्य की तरह निर्मम अट्टाहास कर रही होती है । द्रौपदी चीरहरण जैसे सभी महारथी विवस हो जाते हैं । वह लगभग सभी रास्ते बन्द कर देती है । अंधेरा ही अंधेरा । चारों तरफ़ काला गहन अंधकार । उम्मीद की कोई भी किरण नहीं ।
प्रेम सम्बन्ध हों । मैत्री सम्बन्ध हों । रक्त सम्बन्ध हों । मैं कभी कभी खुद को बङा वेवश महसूस करता हूँ । अपने लिये नहीं । दूसरों के लिये । दरअसल हमारी आंतरिक भावनायें कुछ और चाह रही होती हैं । जबकि हमारा शरीर रूपी पंक्षी किस्मत के तूफ़ानी बंवडर रूपी पिंजरें में कैद मचल कर रह जाता है । कहीं कुछ गङबङ है ? कुछ छूट सा गया है । मैं कुछ MISS जैसा Feel
करता हूँ । एक रिक्तता सी व्याप्त है ।
I want to hug you soon ,Take tuk accompanied my steps .
But not right to me . And would I force it . You're still not mine .
Not yet a beloved .And I have not become part of your life .
Not to be the one who always fill your heart .Although I felt tired last .I will continue to hold . All the longing .And the unspoken desire .
You're like a month .Glow lit the dark night .Seen by my eyes without a barrier .
But you're tough unattainable .But I must endure .
Because you've given me hope . Would love an almost impossible unattainable .
Although I know it's not as easy as reaching tuk mu .
Because what you want is not just me .Thou daughter of the king who yearn .
Many princes and knights who tried to reach you .
While I'm just a nameless soldier for you .
Yes ! I do not soldier named . Not as strong as the warrior .
No semenawan prince .Only a dreamer with a piece of poetry alone .
But I'm definitely waiting for you . Waiting for an answer from my love .
एक खौफ़नाक सन्नाटा सा फ़ैला हुआ है । रात काली है । दिन वीराने हैं । तब कुछ समझ में नहीं आता । कोई आध्यात्म । कोई भगवान । कोई ज्ञान काम नहीं आता । सब बेकार है ।
एक प्रसंग याद आता है । बुद्ध का 1 शिष्य 1 बेहद कमजोर से आदमी को उनके पास लाता है । और कहता है - भगवन ! देखिये कितना पागल इंसान है । मैं इसको आत्म ज्ञान बता रहा हूँ । उद्धार का मार्ग दिखा रहा हूँ । और ये कान तक नहीं देता । बुद्ध उसे गौर से देखते हैं । वह सब समझ जाते हैं । और शिष्य से कहते हैं - ये बेहद भूखा है । इसे ज्ञान की नहीं । भोजन की जरूरत है । वे उसे भरपेट भोजन कराने का आदेश देते हैं । वह भोजन के बाद सन्तुष्ट हुआ उन्हें प्रणाम कर चला जाता है ।
*******
सारी ! व्यवधान आ गया । अभी और जुङेगा ।...conti

Better to be alone than to be in bad company
जिन्दगी है तो ख्वाव है । ख्वाव है तो मंजिलें हैं । मंजिलें हैं तो फ़ासले हैं । फ़ासले हैं तो रास्ते हैं ।

रास्ते हैं तो मुश्किलें हैं । मुश्किलें हैं तो हौसला है । हौसला है तो विश्वास है । विश्वास है तो पैसा है ।
पैसा है तो शोहरत है । शोहरत है तो इज्जत है । इज्जत है तो लङकी है । लङकी है तो Tension है ।
Tension है तो Concern है । Concern है तो ये ख्याल है  । ख्याल है तो ख्वाव है । ख्वाव है तो Growth है । Growth है तो जिन्दगी है । जिन्दगी है तो ख्वाव है । मतलब दुनियां गोल गोल है । बस घूमने वाला चाहिये ।
Are we that stupid that we are ignoring what climate change is telling us, or maybe we will start to pay attention when the Earth stops provideing for us.

एक टिप्पणी भेजें

Follow by Email