02 नवंबर 2011

Junko Furuta की दर्दनाक दास्तान - राजू मल्होत्रा

हैल्लो ! राजीव भाई जी ! आज थोडी फ़ुर्सत में मेल लिख रहा हूँ । मेरी तरफ़ से राजीव परिवार उर्फ़ ब्लागवासियों एवं पाठकों को स्नेह-पूर्वक बीलेटेड हैप्पी दीवाली । सभी के जीवन में दीवाली नये उत्साह और खुशियां लेकर आए । ऐसी हमारी कामना है ।
राजीव जी ! सबसे पहले तो मेरी बात पर आता हूँ । पिछले दिनों मैने "अंधेरा" कहानी पढने की शुरूआत की । जैसे - तैसे भाग- 9 पर पहुंचे । तो मेरी हिम्मत जवाब दे गई । लगा भई कहाँ आ फ़ँसे । रोमांच । सस्पेंस । भूतहा दृश्य आदि कहानी से गायब लगे । फ़िर आगे कहानी नहीं पढी । इस कहानी में आपने तो प्रसुनजी को भी नहीं बख्शा ।
खैर ! ये थी मेरी बात । जैसा मुझे लगा । वैसा मैने कहा । मुझे आपकी लिखी कहानी "डायन" सबसे ज्यादा पसंद आई थी । मैं चाहता था कि उस कहानी में आप मेरे भेजे फ़ोटो को लगाए । दृश्यों के अनुरूप फ़ोटो मैं आपको जल्द ही भेजूंगा । अभी के लिये मैं आपको कुछ विषय सामग्री इस मेल के साथ भेज रहा हूं । और कबीर साहब जी के ग्रंथ संग्रह की एक लिस्ट है । जैसा कि मुझसे कई लोगों ने पूछा कि इनमें से किन पुस्तकों को पढना चाहिए । तो वही प्रश्न मैं आपसे पूछ रहा हूं । अनुराग सागर मैं दो बार पड चुका हूं । पर अन्य पुस्तकों को अभी तक नहीं पडा । 
अगला मेल जल्द ही भेजूंगा । कुछ प्रश्न भी होंगे । पुनर्जन्म की यात्रा और आत्मा विषय पर आपसे चर्चा करेंगे । राजू मल्होत्रा ।

 आज जिस विषय पर मैंने ये मेल लिखा है । वो हैं मिस "Junko Furuta" की नरक यात्रा । दरसल ये असलजिंदगी की घटना है । और सच भी । किसी भी इन्सान के लिये ऐसी दर्दनाक जिंदगी जीना जीते जी नरक की यात्रा करने से कम नहीं है । और जब वो यात्रा मौत के गुमनाम अंधेरों की ओर ले जाय । ये घटना है । जापान के "टोकयो" शहर की । वैसे घटना का पूरा विवरण English में था । पर पाठकों की सुविधानुसार और सभी के लिए इसका पढा जाना जरूरी था । तो मैं इसे हिन्दी में अनुवाद कर रहा हूं ।
 एक उच्च विद्यालय की लड़की junko furuta जिसको चार किशोर आयु वर्ग के गुंडों द्वारा अपहरण कर लिया गया था । जब वह अपने रास्ते किसी काम से जा रही थी । वे उसे एक दोस्त के घर ले गए । उसे अपने बेडरूम में छिपाकर रखा गया । और अगले पैंतालीस दिनों तक उसके साथ जो कुछ भी हुआ ( ऐसा कुछ आप कल्पना में भी नहीं सोचेंगें ) उसकी

आप कल्पना भी नहीं कर सकते । उन लडकों ने उसके साथ सामूहिक बलात्कार किया । यातनाएं दी । आग से जलाया गया । पीटा गया इत्यादि ।
DAY 1: November 22, 1988: जिन 4 लडको ने Junko Furuta का अपहरण किया । वे उसी के हम उम्र के थे । यानी की 16-17 वर्ष के बीच । और उन्हीं में से किसी एक के घर ले गये । यह कहकर कि - ये उसकी गर्लफ़्रैंड है । और कुछ दिन यही रहेगी । उन लडकों ने 400 से अधिक बार उसका बलात्कार किया । लडकी से जबरदस्ती फ़ोन से अपने मां-बाप को यह कहलवाया कि वह घर छोडकर चली गई है । उसकी चिंता न करे । वह अपने किसी दोस्त के साथ है । और सही हालत में है । उसे भूखा रखा । और कुपोषित किया गया । खाने को तिलचट्टे Cockroach दिये गये । और पीने को मूत्र दिया । जबरदस्ती हस्तमैथुन करवाया गया । न

मानने पर सिगरेट लाइटर से जला दिया । विदेशी वस्तुओं को उसकी योनि/गुदा में डाला ।
DAY 11: December 1, 1988:  गंभीर रूप से अनगिनत बार मारा । ठोस सीमेंट की जमीन पर चेहरे को रखकर । ऊपर से कुदवाया । हाथों को छत से बांध दिया । और शरीर को पंचिंग बैग के रूप में इस्तेमाल किया । उसके नाक में इतना खून भर गया । जिस कारण उसे मुंह से सांस लेना पडता था । Dumbbells ( कसरत करने का सामान ) उसके पेट पर गिराये गए । जब भी उसने पानी पीने की कोशिश की । उसने उल्टी कर दी ( उसका पेट इसे स्वीकार नहीं कर सकता ) जब भागने की कोशिश की । उसने तो सिगरेट से जलाकर दंडित किया गया । ज्वलनशील तरल उसके हाथ और पैरों पर डाला । और आग से जलाया गया । बार-बार बोतल को उसके गुदा में डाला । जिस कारण उसे भयंकर चोट हुई ।
DAY 20: December10, 1989: गंभीर रूप से पैर के जलने के कारण । ठीक से चलने में असमर्थ थी । बांस की छड़ें के साथ मारा । आतिशबाज़ी को गुदा में

डाला । और जलाया । वजनदार वस्तु से हाथ पर हमला । जिससे नाखून उखड गये । गोल्फ क्लब के साथ पीटा । योनि में जलती हुई सिगरेट डाली । लोहे की छड़ के साथ बार बार पीटा । सर्दी की रात मे बाहर बालकनी मे सोने को मजबूर किया गया । ग्रील्ड चिकन के Skewers को उसकी योनि और गुदा में डाला । जिस कारण खून बहा ।
DAY 30: गर्म मोम से उसका चेहरा जलाया गया । सिगरेट के लाइटर से उसकी आंखो की पलकों को जला दिया जाता है । छाती पर सुई द्वारा घोंपा जाता था । Left nipple को संडसी से काट दिया जाता । उसकी योनि में गर्म जलता हुआ बल्ब डाला गया । योनि में कैंची घुसाये जाने के कारण उसे अत्यधिक खून बहा । ठीक से पेशाब करने में असमर्थ थी । चोट लगने की घटनाएं इतनी गंभीर है कि यह एक घंटे से अधिक समय लिया गया है । उसके लिए नीचे क्रॉल करने के लिए और बाथरूम का उपयोग किया गया । दिमाग ने ठीक से काम करना बंद कर दिया । हमेशा बदहवासी की हालत में रहती थी ।
DAY 40: उसने दया की भीख मांगी कि उसे मौत दे । जिससे यह सारा खेल खत्म हो ।

January 1, 1989: Junko ने अत्यन्त पीडा के बावजूद नए साल का स्वागत किया । वहां कोई नहीं था । जिसे वो अपने दर्द का हाले-दिल बयान कर सकें । उसका शरीर जगह-जगह से कट-फ़ट छिल गया है । वह जमीन से उठ भी नहीं पा रही थी ।DAY 44: January 4, 1989: उन चार लड़कों ने उसके कटे-फ़टे शरीर को लोहे के छ्ड से पीटा । जिस कारण उसके मुंह और नाक से खून बह रहा था । उन्होंने उसके चेहरे और आंखों पर जलती हुई मोमबत्ती की लौ डाली । उन्होंने बहाने से कहा कि Mah-jongg के खेल में एक मिली हार कि वजह से उन्होने ऐसा किया । उन्होने उस लडकी के हाथ, पैर, पेट पर ज्वलनशील पदार्थ डाला । और आग से जलाया । यह अंतिम यातना दो घंटे तक चली । Junko Furuta का दूसरे दिन दर्द में और अकेले में निधन हो गया । उस लडकी ने 44 दिन तक जो पीडा और दर्द सहा है । उसकी तुलना किसी से नहीं की जा सकती । उसकी मौत के बाद । उन्होंने उसके हाथ-पैर बांध कर । एक 55 गैलन ड्रम में डाल दिया । जो सीमेंट से भरा था । और उस ड्रम को किसी खाली जगह में फ़ेंक दिया । शरीर को लगभग एक साल बाद तक बरामद नहीं किया गया था । इस पूरी घटना के सरगना को सिर्फ़ आठ साल की जेल की सजा हुई । और अब वह एक आजाद आदमी है ।
वह लडकी ने खुद को बचाने की दो बार कोशिश की । पहली कोशिश में वह फ़ोन मिलाने की प्रक्रिया में पकडी गयी । दूसरी बार । वह लडका जो वहां रहता था । उसके माता पिता के सामने उसने सारी बात जाहिर कर दी । उसने मदद के लिये उन लोगों से विनती की । पर अफ़सोस वे लोग उसकी कोई मदद नहीं कर सकें । क्योकि उस लडके के दोस्तों का सम्बन्ध अपराधियों के साथ था । और वे किसी भी तरह की मुसीबत में नहीं पडना चाहते थे । इस लडकी को 44 दिन तक उत्पीडित किया गया ।
जब उसकी माँ ने यह खबर सुनी । और जो उसके साथ हुआ । उसका विवरण सुना । तो वह बेहोश हो गई । उन्हे एक मनोरोग आउट पेशेंट उपचार से गुजरना पडा । आप उसके अंतहीन दर्द की कल्पना करो । उसके हत्यारों अब भी स्वतंत्र हैं ।  20 साल बाद भी उसे न्याय नहीं मिल पाया । उस मासूम लडकी को इतनी पीडा और यातना देने

के लिये उन लडको को उससे भी कठोर दण्ड दिया जाना चाहिए ।
Junko Furuta के साथ हुई इस भयानक घटना के मामले की जानकारी जापानी अदालत परीक्षण, और 1989 से ब्लॉग के माध्यम से एकत्र की गयी थी । उन्होने Junko Furuta के दर्द को बताया । जो उसे अंतिम समय तक सहना पडा । और जिस कारण उसकी मौत हुई । 1989 की यह कहानी सच है । हर किसी को Junko Furuta के अकल्पनीय और अबोध्य दुख के अस्तित्व के बारे में पता होना चाहिए । कभी उसकी कहानी को भुलाया नहीं जा सकता । यदि इस कहानी से कम से कम एक व्यक्ति के जीवन में परिवर्तन होता है । तो इस कहानी को लिखने का मेरा उद्देश्य पूरा होगा ।
राजीव जी ! इस घटना ने मुझे सोचने पर मजबूर कर दिया कि आखिर ये ऊपर वाले का कैसा इन्साफ़ है ? आखिर क्यों उस मासूम लडकी को इतना दुख और यातना सहनी पडी ? जबकि  उसका कोई कसूर नहीं था ।
************************
धन्यवाद राजू जी ! मैं आपसे एकदम सहमत हूँ । अँधेरा कहानी 9 पार्ट तक मेरी नजर में भी टोटली बकबास है । और कतई मेरी प्रकृति की नहीं है । और पूरी तरह से मेरी लिखी भी नहीं है । यही बात ब्लाग में लगे इस तरह के ग्लेमरस फ़ोटो पर लागू होती है । ये सभी लोगों द्वारा भेजे गये हैं । और वास्तव में मुझे भी डायन और प्रसून का इंसाफ़ जैसी ही उद्देश्यपरक कहानियाँ पसन्द आती हैं । पर ऐसी एक कहानी लगभग सभी पाठकों की माँग थी । इसलिये निसंदेह अँधेरा जैसी कहानी मेरी पहली और आखिरी कहानी थी । पर इत्तफ़ाक की बात है कि आपने पार्ट 9 तक कहानी पढने के बाद छोङ दी । वास्तव में 10वें पार्ट से ही कहानी शुरू होती है । और वही मेरी लिखी कहानी है । फ़िर वह एकदम अलग है ।
वैसे भी प्रेत कहानियाँ लिखना मुझे एकदम बेकार और उद्देश्यहीन लगता है । मैंने कुछेक प्रेत कहानियाँ सिर्फ़ जानकारी देने के उद्देश्य से लिखकर बन्द कर दिया था । और लम्बे समय तक नहीं लिखा । तब सभी पाठकों ने एक स्वर में माँग की । फ़िर भी मैंने सामाजिक जागरूकता हेतु - अब तू औरत नहीं चुङैल है । पिशाच का बदला । डायन । अंगिया वेताल जैसी जानकारी वाली कहानियाँ लिखी । जो अधिकतर को पसन्द नहीं आयी । और अँधेरा सबको बेहद पसन्द आयी । जो भी हो । मैंने पहले ही तय कर लिया था । सेक्स के मामले में अँधेरा मेरी सिर्फ़ इकलौती कहानी होगी । आप 10वें पार्ट से अँधेरा पढें । वह आपको मेरी लिखी कहानी ही नजर आयेगी ।
कबीर साहब की सभी वाणी अनोखी और दिव्य है । और उनके अलग अलग उद्देश्य है । बाबन अक्षरी में उनकी लीला और जीवन परिचय का अच्छा विवरण मिलता है । बीजक सबसे अधिक ज्ञान वाली किताब है । अनुराग सागर आप पढ ही चुके हो । वह हरेक को चौंकाने वाली जानकारी देती है । और  बहुत कुछ अलग बात कहती है । बाकी अभी कुछ लोग आये हुये हैं । और सर्दी की वजह से अभी काम नहीं हो पाता । इसलिये शेष चर्चा समय मिलते ही होगी ।
आप सभी के अंतर में विराजमान सर्वात्मा प्रभु आत्मदेव को मेरा सादर प्रणाम ।

4 टिप्‍पणियां:

Unknown ने कहा…

😟🙏🙏

Unknown ने कहा…

😢😢😢yehi hota aa rha h hmare desh m ....
Agr kisi bhi mujrim ko sajjja dii jaaye tb hi india m rehne wale log aisa krne se darreng....warna to nirbhaya nile case m 12 saal ke baad nyay milna ...ye koi solution nhi tha ..

Unknown ने कहा…

This is not fair ye to bilkul glt h aisa nhi hona chaiye isliye hmara india abhi tk itna piche h aur koi ladki freedom nhi feel kr pati h

Unknown ने कहा…

But ye japan, Tokyo ka incident hai

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
सत्यसाहिब जी सहजसमाधि, राजयोग की प्रतिष्ठित संस्था सहज समाधि आश्रम बसेरा कालोनी, छटीकरा, वृन्दावन (उ. प्र) वाटस एप्प 82185 31326