31 अगस्त 2012

I really shame to be an Indian - stupid statement


अभी किन्हीं पंकज जी ने मुझे फ़ेसबुक पर संदेश किया - राजीव जी  ! secular india पूर्णतः भारत विरोधी पाकिस्तान का पेज है । फ़िर आपने इसे like क्यों किया हुआ है ?  वास्तव में मैंने इस बात पर गौर भी नहीं किया था । क्योंकि कभी कभार मैं उसके चित्रमय समाचार और उन पर लिखी व्यंग्य लाइन्स पर ही निगाह डालता था । पंकज के ध्यान दिलाने के बाद मैंने उसे विशेष तौर पर देखा । और पाया कि इस पेज का मूर्ख संचालक किस तरह भारत और खास हिन्दू धर्म के प्रति विष वमन करता रहता है । जैसे इसने सलमान खान का दो डाग्स के साथ  चित्र पर जोङा - एक था कुत्ता । मैंने - एक था टाइगर देखी नहीं । शायद उसी से उसे जलन हुयी हो । इसने गंगा पर स्नान करती कुछ अधेङ और वृद्ध अर्धनग्न औरतों का चित्र जोङा । और उस पर लिखा - एंजाय इण्डिया । इसने किसी वैश्या गली का चित्र जोङा । और उस पर अंग्रेजी में लिखा -  वैश्यावृति भारत का एक बङा उधोग ।
दरअसल अब ये मेरा धर्म और कर्म नहीं है कि - मैं ऐसे मूर्खों से उलझूँ । वरना मुसलमान ( आचार विचार 

सभ्यता संस्कृति ) और पाकिस्तान की धज्जियाँ उङाने में मुझे मामूली समय लगेगा । मुझे अच्छी तरह मालूम है । ऐसे सभी देश राष्ट्र और अधर्मी मलेच्छ माँसाहारियों का प्रभु सत्ता द्वारा समूल नाश होने वाला है । दरअसल अनजाने में ही वे अपने पाप का घङा तेजी से खुद भर रहे हैं । और ये मुँह तक पहुँच रहा है । ऐसा नहीं कि भारत और हिन्दू धर्म में बुराईयाँ नहीं हैं । पर आज भी तुलनात्मक रूप से - मुसलमान । सिख । ईसाई और विश्व के किसी भी अन्य धर्म से हिन्दू धर्म सर्वश्रेष्ठ है । क्योंकि इसका मूल ( जङें ) सनातन धर्म है । जबकि बाकी सारे धर्म उधार का सौदा है । मूल रहित । भानमती का कुनबा है । आज विश्व के जैसे हालात हैं । उसमें अपने मुख्य उद्देश्य से थोङा अलग हटकर मुझे ऐसे विषयों पर भी सक्रिय होना पङ  रहा है । मैंने कई बार इन्हीं ब्लाग्स में चैलेंज किया है कि यदि कोई समझता है कि - उसका धर्म । 

सभ्यता । संस्कृति । धर्म पुस्तक । और लोग.. हिन्दू धर्म ( जिसे आज कहने लगे । वास्तव में सनातन धर्म ) से 1% भी अच्छे हैं । तो वो अपने सबसे धुरंधर ज्ञानियों को बुलाकर सिर्फ़ अकेले मुझसे मुकाबला कर ले । और सबसे बङी बात । इससे पहले -  5 रुपये की श्रीमदभगवत गीता और सिर्फ़ 5 रुपये में ही फ़ुटपाथ पर सहज उपलब्ध किसी भी - कबीर वाणी पुस्तक की टक्कर के उपदेश और ज्ञान दिखाये । मैं सिखों से भी कहता हूँ । गुरु ग्रन्थ साहिब में से कबीर की वाणी निकाल दो । फ़िर उसमें ज्यादा कुछ नहीं बचेगा । और ग्रन्थ साहिब के एकमात्र ( असली ) ज्ञानी सिक्ख नानक कबीर के ही शिष्य थे ।
खैर..अब आप secular india नामक इस पेज पर प्रकाशित ताजा पोस्ट देखें । इसका हिन्दी अनुवाद भी जल्द उपलब्ध होगा ।
In my life in daily news I am hearing about bomb blast, train blast, attack ,fire on innocent people and many more incidents about terrorism.
Why it is happening ? The big question mark ? Why they don’t have any kind fear ?
Now you please check by urself that in last 10-15 yrs how many arrested terrorist has been hanged . I think maximum 4 or 5 but how many terrorist attack happen and how many has been arrested is really

difficult to count.
The main reason behind this is our country law, and our politicians as they don’t want to change it. They think if they changed it once then they will loose their vote bank and opposition will start questioning.
There is no more difference between ruling party and opposition both are together they are attending parties together and very soft to each other. But only on tv screen they are showing that they are totally different from each other.
So these bloody politician are not willing to change law of country against terrorism, now question is this how long we will keep on 

dying like dot and cat. Generally what use to happen terrorist are being arrested and case start in court.
Date per date more than 10 yrs then when decision comes , then again case has been filed in high court again 2 yrs, then same case use to go in supreme court again 2 -3 yrs, suppose if still the decision is negative from court then it use to go to the president of India and there it use to be pending pending and pending . see afzal khan case its big example for this.
Now the other political parties either ruling or opposition use to make pressure upon president as everybody knows president is only for name sake with no rights.
Every party want that president should forgive the terrorist so that they can gain the vote bank from his community.

What the hell this system is ? How come few people decide that what country wants ? How come this bloody corrupted politician can be bigger than supreme court ? I really shame to be an Indian . Don’t YOU ?
http://www.facebook.com/photo.php?fbid=278850535562564&set=a.129700907144195.25389.129565433824409&type=1&theater ( क्लिक करें )
एक टिप्पणी भेजें

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Follow by Email