30 अप्रैल 2012

राजीव जी ! आपको तो कोई याद ही नहीं करता

राजीव जी ! आपके श्रीराम शर्मा विवेकानन्द कबीर labels के दोनों  blogs पढे । मुझे तो इतनी बात पर सहमति है कि साधक की आस्था ही पदार्थों में जीवन्त प्राण रूपी करिश्मा पैदा करती है । रैदास कबीर रामकृष्ण जी ने अपनी साधना तपश्चर्या व कृतित्व से देश काल दिशा को हिला दिया । फ़िर गायत्री की उपासना से विश्वामित्र जी ने बृह्म ऋषित्व को प्राप्त किया । स्वामी दयानन्द जी ने पाखण्ड को समाप्त किया । गायत्री की साधना से वशिष्ठ जी राजकुल गुरु बन कर राम लक्ष्मण को बला अतिबला विध्या सिखायी । जिससे सीता स्वयवर में परुशराम जी का प्रखर कोप शान्त किया । सीताजी को वरन करने में सैकङों राजाओं को पीछे हटना पङा । रावण को ओज तेज वर्चस्व से जीता । ये सब त्रिपदा गायत्री की फ़लश्रुति है । आचार्य जी ने 24 yrs गायत्री पुरश्चरण करके आर्ष साहित्य का भास्य किया । देश की आजादी में दुर्धर संघर्ष किया । अध्यात्म व बिज्ञान को समन्वित किया । जिससे भारत के राष्ट्रपति शंकरदयाल जी ने अपनी पुस्तक देशमणि में  18 देश रत्नों में उनका उल्लेख किया । राजीव जी ! आपको तो कहीं याद करते नहीं देखा । नुक्ताचीनी करना सरल है । अपनी  personality से देश का लोक नेतृत्व करना कठिन है - राजीव दादा ।
***************
राजीव जी ! मेरे गुरु को तो आप छींटाकशी करोगे । क्योंकि आपको गुण ग्राहकता पसन्द नहीं । बल्कि छिद्रान्वेषण में माहिर हो । रही बात तोतापुरी जी की । मैंने जो कहा । वही आप कह रहे हो कि - वे वेदान्त गुरु रामकृष्ण जी के थे । प. श्रीराम जी के बारे में तो मेरे कहने से नहीं । बल्कि GOVT OF INDIA आज नारी उत्थान की बात व  PROGRAME चलाती है । वो उन्होंने 1939 से अखण्ड ज्योति में 21st century - नारी शताब्दी " घोषित ही नहीं किया । बल्कि नारी उत्थान के सूत्र व कार्यकृम भारत में चलाने शुरू किये । पायलट बाबा की पुस्तक - हिमालय  कह रहा है । में आचार्य श्रीराम जी के बारे में पढ लेना कि - वे क्या थे ? ज्ञान फ़ैलाना ही पुस्तक बेचना मान रहे हो । ये आपकी समझ । बाकी आज आस्था संकट तो सद विचारों के फ़ैलाव से ही दूर होगा । जिसमें doctors lawyers  judges engineers  professor level के लाखों प्रबुद्ध लोग समय दान दे रहे हैं । वे सब पागल हैं क्या ? आप ही एक समझदार हो । जो गायत्री को अर्थात सदबुद्धि से परहेज व अंग्रेजों की तरह देव संस्कृति से नफ़रत करते हो । आपको तो chhikago में जन्म लेना था । जो भारत की संस्कृति को भी ओछी मानते हो । आपकी  बौद्धिकता तो परले दर्जे की हो गयी । जिसे हम भारतीय नहीं समझ पायेंगे ।
**********
सबसे पहले तो आप शास्त्रों का झूठा झंझट छोङकर अगर
गायत्री का वास्तविक परिचय जानना चाहें । तो कवीर वाणी अनुराग सागर पढें । या फ़िर मेरे ब्लाग में ही लेख देखें । ये सही है कि श्रीराम शर्मा को गायत्री तक का पूर्ण ज्ञान था । वो भी आंतरिक स्तर पर । पर वह परमात्म ज्ञान या आत्म ज्ञान नहीं है । गायत्री.. आध्या ( काल निरंजन की पत्नी ) द्वारा उत्पन्न की गयी थी । ये बृह्मा की पत्नी हुयी । इसको आध्या ने शाप दिया है । बाकी आपने राम वशिष्ठ आदि का जो उदाहरण दिया । वह लगभग सफ़ेद झूठ है । पर उसको साबित करने में मुझे बहुत कुछ समझाना होगा । जो सम्भव नहीं है ।
अब आपके राष्ट्रपति शंकरदयाल जी के बिन्दु पर बात करते हैं । वर्तमान राष्ट्रपति प्रतिभा ( जी ) पाटिल बृह्मकुमारी को मानती हैं । अभी शायद आपको न मालूम हो । मशहूर हालीवुड एक्ट्रेस जूलिया राबर्टस सिर्फ़
बाबा नीम करोरी के फ़ोटो से इतना प्रभावित हुयी कि उसने हिन्दू धर्म अपना लिया । और भारत मेंं एक घर लेना चाहती है । चाहती क्या है । लेगी । अभी निर्मल बाबा के बारे में बात खुलने पर सैकङों पुलिस वकील आदि के ऐसे लोग सामने आये । जो दस बन्द आदा करते थे । सबके बाद भी । आज भी आशाराम को मानने वाले उच्च लोग भी बङी तादाद में हैं । ताजा ताजा बाबा रामदेव का मामला देखें । % कम हो गया । पर मानने वाले आज भी हैं । ओशो को देखें । उन्हें भगवान मानने वाले अभी भी लाखों में हैं । फ़्राड वाला साईं बाबा । जो अभी अभी मरा । इसके बाबजूद अभी भी उसके मानने वाले बहुत बङी संख्या में होंगे । अमिताभ बच्चन को देखें । सपरिवार घर से 15 km पैदल बिना चप्पल विनायक मन्दिर के दर्शन और 51 लाख का चैक चढाना । एकता कपूर को देखें । उसके बाथरूम में भी शायद गणपत की मूर्ति रखी हो । इस भेङ जनता में तमाम लोग तो ऐसे हैं । जो भागवत कथा वाचकों को गुरु मान लेते हैं । उन्हें गुरु शब्द का मतलब ही नहीं पता ? इसके अलावा सैकङों ऐसे जाने अनजाने बाबा हैं । जिनसे हजारों की संख्या में लोग जुङे हैं ।
लेकिन ? इन सबकी कहानी 1 ही है । अज्ञान । धर्मभीरुता । इसलिये सबसे बङा उदाहरण मैंने अमिताभ बच्चन । एकता कपूर और जूलिया राबर्ट का दिया । जब इनके स्तर के मनुष्य धर्म के मामले में एकदम अज्ञानी हो सकते हैं । तो फ़िर बाकी के बारे में क्या कहा जाये ? इसलिये कोई राष्ट्रपति । कोई प्रधानमन्त्री । कोई ऐसा अन्य । आवश्यक नहीं कि - धर्म के मामले में भी उच्चता को प्राप्त हो ।
चलिये । आपकी बात पर ही आते हैं । श्रीराम शर्मा ने 1939 से अखण्ड ज्योति में 21st century - नारी शताब्दी " घोषित ही नहीं किया । बल्कि नारी उत्थान के सूत्र व कार्यकृम भारत में चलाने शुरू किये ।.. मुझे बताईये । क्या उत्थान हुआ नारी का ? या इसी उत्थान ? की बात करते थे श्रीराम शर्मा ? सच तो ये है । नारी और नर छोङो । आज मनुष्य मात्र बेहद पतन की दशा में है । अगर आप गौर करें । तो आज के तुलनात्मक 1939 में नारी और मनुष्य की स्थिति आज से बहुत अच्छी थी । और जीवन बेहद सुखी था । निरोगता थी । श्रीराम को ये दिखाई नहीं दिया । श्रीराम शर्मा की शुरूआत दीवालों पर - हम बदलेगें । युग बदलेगा । नारे पोतने के साथ शुरू हुयी थी । आज कितना समय हो गया । न हम बदले । न युग बदला ।  सच तो ये है । उस समय गायत्री परिवार की जैसी हवा चली । उसके तुलना में आज 10% भी बात नहीं रही । मुझे मालूम है । अपनी शुरूआत में श्रीराम शर्मा मथुरा से अखण्ड ज्योति मासिक पत्रिका छापते थे । उनका पुराना वाला छापाखाना भी था । उन्होंने अपनी पत्नी से सभी जेवर लिये । और हरिद्वार के खादर में बेहद सस्ती भूमि खरीदी । बहुत छोटे स्तर पर शान्तिकुंज की स्थापना की । जो इतना
अधिक इसीलिये और फ़ैला कि - वह ( हरिद्वार ) साधुओं का मार्केट है । वरना शर्मा जी बहुत समय मथुरा भी रहे । अब आपको एक और बात । बिलकुल सच्ची बताऊँ । आँवलखेङा और आसपास के कई लोगों से मेरा मिलना होता है । मैंने कहा - आप लोग श्रीराम शर्मा को मानते होंगे । उन्होंने कहा - नहीं । लोकल में उनका प्रभाव बहुत मामूली है । जङ समाधि वाले पायलट बाबा और श्रीराम शर्मा आपस में स्टाफ़ के आदमी हैं । ये दोनों द्वैत ज्ञान वाले हैं ।
लेकिन छोङिये । ये सब बातें । आपने आपत्ति शुरू की । मेरे द्वारा काली को राक्षसी कहने पर । मैंने तर्क दिया । जाने कब से जिस देवी के मन्दिर में पूजा में नर बलि पशु बलि का चलन है । वह किस एंगल से दयालु देवी कही जा सकती है ? अगर उसकी पूजा में कोई दम है । तो क्यों नहीं इन भटके लोगों को रास्ता दिखाती ? पर आपको इस सटीक मानवीय बात का कोई जबाब नहीं सूझा ।
फ़िर आपने श्रीराम शर्मा को - कबीर । रामदास । रामकृष्ण के बाद का चौथा जन्म बताया । उस पर दिये गये मेरे तर्कों पर आप ध्यान न देकर दूसरी ही बात कहने लगे । जबकि बात आपने ही शुरू की । आपने ही श्रीराम और कबीर में कोई फ़र्क ही न समझा ? फ़िर मैंने और भी तर्क के रूप में कई झूठ बताये । उन पर आप मौन क्यों रहे ? चलिये । अब सबसे बङी बात । आपके गुरु ने 3200 पुस्तकें लिखी । ध्यान की तकनीकी आंतरिकता पर लिखे गये मेरे लेखों जैसा कोई 1 ही लेख दिखा दो । मैंने अभी अभी चैलेंज किया । मनोबैज्ञानिक धरातल पर लिखी मेरी कहानी " कामवासना " जैसी 1 भी नयी या पहले ( कभी की किसी की ) की कहानी दिखाओ । मैं ये भी कहता हूँ । किसी में ताकत हो । तो लिख कर दिखायें । ओमियो तारा का MATTER मुझे कहीं और दिखाओ ।
अब रही बात इस बात की - राजीव जी ! आपको तो कहीं याद करते नहीं देखा ?
ये आप अपनी बुद्धि से कह रहे हैं । मुझे विश्व भर में इतने लोग याद करते हैं कि उस तरह ? सलमान खान को भी याद नहीं करते होंगे । अद्वैत के लगभग 8 साल मुझे आसपास के ही लोग घेरे रहे । हमारे मण्डल से बहुत लोग जुङे । अचानक 2 साल से कुछ अधिक हुये । मैंने ब्लाग बनाया । तब यहाँ से बहुत लोग जुङे । सच ये है कि विधिवत अभी भी हमारा आश्रम शुरू नहीं हुआ । इस तरह औरों की तुलना में बहुत लोग हमसे जुङे हुये हैं । 
बाकी समाचारों के लिये बस थोङा ही इंतजार और करें । और तब तक ये महत्वपूर्ण ज्ञान पढिये । अगर इसे समझ गये । तो इसमें बहुत बङा रहस्य लिखा है । रामचरित मानस उत्तर काण्ड से ।
नर सहस्र महँ सुनहु पुरारी । कोउ एक होई धर्म ब्रतधारी  ।   
धर्मसील कोटिक महँ कोई । बिषय बिमुख बिराग रत होई ।
हे त्रिपुरारि ! सुनिये । हजारों मनुष्यों में कोई 1 धर्म के वृत का धारण करने वाला होता है । और करोड़ों धर्मात्माओं में कोई 1 विषय से विमुख ( विषयों का त्यागी ) और वैराग परायण होता है ।
कोटि बिरक्त मध्य श्रुति कहई । सम्यक ग्यान सकृत कोउ लहई ।
ग्यानवंत कोटिक महँ कोऊ । जीवन मुक्त सकृत जग सोऊ ।
श्रुति कहती है कि - करोड़ों विरक्तों में कोई 1 ही सम्यक ( यथार्थ ) ज्ञान को प्राप्त करता है । और करोड़ों ज्ञानियों में कोई 1 ही जीवन मुक्त होता है । जगत में कोई विरला ही ऐसा ( जीवन मुक्त ) होगा ।
तिन्ह सहस्र महु सब सुख खानी । दुर्लभ बृह्म लीन बिग्यानी ।
धर्मसील बिरक्त अरु ग्यानी । जीवन मुक्त ब्रह्म पर प्रानी ।
हजारों जीवन मुक्तों में भी । सब सुखों की खान । बृह्म में लीन विज्ञान वान पुरुष और भी दुर्लभ है । धर्मात्मा । वैराग्यवान । ज्ञानी । जीवन मुक्त और बृह्मलीन ।
सब ते सो दुर्लभ सुर राया । राम भगति रत गत मद माया ।
सो हरि भगति काग किमि पाई । बिस्वनाथ मोहि कहहु बुझाई ।
इन सबमें हे महादेव ! वह प्राणी अत्यंत दुर्लभ है । जो मद और माया से रहित होकर राम की भक्ति के परायण हो । हे विश्वनाथ ! ऐसी दुर्लभ हरि भक्ति को कौआ कैसे पा गया । मुझे समझा कर कहिये ।

28 अप्रैल 2012

मनुष्य शरीर विराट की प्रतिकृति है

राजीव अंकल ! क्या ये कृष्ण जी उसी गोलोक में रहते हैं । जिसे किसी लेख में आपने इन्द्रियों " गोमास भक्षण वाले लेख में " की संज्ञा दी थी । या वो कोई और है ? अगर वो ही है । तो अब कैसे explain करोगे ? अगर नहीं । तो क्यों नहीं । आपके उत्तर की प्रतीक्षा में  । abra ka dabra
ANS - गोलोक विभिन्न लोकों की स्थिति अनुसार ( मगर ) बृह्माण्डी सत्ता का सबसे ऊँचा और आकार में सबसे बङा लोक है । यहाँ राधा कृष्ण अपने वास्तविक रूप में रहते हैं । वास्तव में यही त्रिलोकी सत्ता का मुख्यालय है । साधारण रूप से बृह्मा विष्णु शंकर देवियाँ आदि जैसे पदस्थ लोग यहाँ कभी नहीं जा सकते ।  विशेष कोशिशों और सिफ़ारिशों पर द्वैत के पहुँचे हुये सन्त इनकी एकाध बार मुलाकात कराते हैं । क्योंकि अपनी क्षमता से ये देवता यहाँ की ( ऊपर ) यात्रा नहीं कर सकते । गोलोक में घूमने वाले गोप गोपियों के अधिकार इन देवी देवताओं से बहुत अधिक होते हैं । ये वहाँ मुलाकात की प्रतीक्षा में उसी तरह गलियारे में खङे रहते हैं । जैसे किसी मिनिस्टर से मिलने आये छोटे मोटे लोग । इनसे बैठने को भी नहीं कहा जाता ।
2 - मनुष्य शरीर विराट की same प्रतिकृति है । गो - इन्द्रियों को कहा जाता है । और ये शरीर सभी अन्य चीजों ( तत्वों । प्रकृति । गुण आदि ) के साथ साथ ( जीव

स्थिति में ) गो यानी इन्द्रियों के समूह ( 5 ज्ञान इन्द्रियाँ 5 कर्म इन्द्रियाँ ) से खास संयुक्त है । मनुष्य के ज्ञान रहित अवस्था में ज्यादातर व्यवहार इन्द्रियों से ही जुङे हैं । अन्य चीजों को न जानता हुआ । वह ( इस शरीर को ही ) इनसे बने कृतिम शरीर को ही सब कुछ मानता है । अतः उस स्थिति अनुसार ( समझाने के लिये )  ये भी गो लोक ही है । जब अखिल सृष्टि का नक्शा जीवन्त रूप में इसमें है । तब फ़िर इसमें कृष्ण वाला गोलोक भी है । और भी गो लोक हैं । क्योंकि सनातन आत्मा इन सबसे परे है । उसमें गो वैल नाम की कोई चीज नहीं है । कुछ भी नहीं है । जो है ? वह वह वही शाश्वत सनातन है । और वह - है । जबकि बाकी सब बाद में निर्मित हैं ।
एक बात और । सतपुरुष और परमात्मा में भी भेद है ? भेजा फ्राई हो गया अंकल । आबरा का डाबरा ।

ANS - देखिये । यहाँ दोनों ही बातें हो जाती हैं । कुछ आत्म ज्ञानी सन्तों ने अपने भाव अनुसार परमात्मा को भी सत पुरुष कहा है । वास्तव में यहाँ इस भाव का अर्थ है । शाश्वत सत्य ( सत ) जो है । और 1 मात्र पुरुष ( चेतन । आत्मा ) जो है । इस तरह इस भाव अनुसार ये बिलकुल सही बात हुयी । लेकिन बारीक विश्लेषण कुछ अलग तरह का हो जाता है । यदि स्थूलता भाव में सिर्फ़ शब्द पर ध्यान दें । उसकी गहराई में न जायें । तो ये पूरी तरह गलत भी है । क्योंकि परमात्मा न सत है । न असत है । न स्त्री है । न पुरुष है । उसकी वास्तविकता वह है । जहाँ कोई स्थिति ही नहीं है । मतलब आदि सृष्टि से भी पहले की स्थिति । शाश्वत होना । है । है । है । सिर्फ़ - है ।
इस पूरे अखिल सृष्टि का सिर्फ़ 1 ही मुख्य सूत्र है । जो इसको समझ लेता है । वह बहुत जल्द परम ज्ञान को प्राप्त होने लगता है । सूत्र है - है । सो परमात्मा । ( यह सब हलचल ) हो रहा है - प्रकृति में । मान रहा है ( मैं मेरा । तू तेरा ) सो - जीव । बस कुल खेल इतने ही सूत्र में सिमटा हुआ है ।
सूत्र - है । सो परमात्मा । हो रहा है - प्रकृति में । मान रहा है सो - जीव ।
इसको समझकर ह्रदयंगम करने से बार बार दोहराने याद करने से बहुत ही लाभ होता है । जिसको बिना शक आशातीत कल्पनातीत लाभ कह सकते हैं ।
राजीव जी और अशोक जी ! शायद आप history नहीं पढते । गुरु तो रामदास जी शिवाजी के थे । पर शिवाजी ने राष्ट्र धर्म को जीवन्त जागृत किया । इतिहासकार तो वीर शिवा का गुणगान करते हैं । चाहे शिवाजी इसका श्रेय अपने गुरु को देते होंगे । अशोक जी ! आप मुझे गुरु गरिमा के बारे में बताते हो । मेरे गुरुदेव पं.श्रीराम शर्मा जी आगरा के आंवलखेङा के जाये जन्में  " Light of india " से नवाजे गये । और उनका अबसे पहले तीसरा - जन्म सन्त कबीर । दूसरे में सन्त रामदास जी । और बाद में रामकृष्ण परमहँस के रूप में आये थे । जिन्होंने  3200 पुस्तकें बिज्ञान और अध्यात्म पर लिखी । मेरा आशय  इतना ही है कि history को नजर अंदाज कर आपके विचार प्रमाणिकता विहीन व दुराग्रही हैं । चूणाराम विश्नोई ।
ANS - इसको पढकर मुझे इतनी हँसी आयी कि - शायद जीवन में नहीं आयी । इससे पहले भी पंजाब के हमारे एक पाठक ने बताया कि उनके घर में ईसाई धर्म में परिवर्तित हुआ कोई गुरु आया । जो कहता था - कबीर स्वर्ग में रहते हैं ? तब भी मुझे बहुत हँसी आयी थी । कहाँ श्री राम शर्मा ?? और कहाँ ये अति अति अति महान तीन हस्तियाँ । कबीर । रामदास । और रामकृष्ण परमहँस । और इनका चौथा जन्म ? जन्म ? वो भी श्री राम शर्मा का ? सिर्फ़ एक मुनि स्तर का ज्ञानी ।
कबीर । रामदास । और रामकृष्ण परमहँस - ये Light of india नहीं । बल्कि  Light of परमात्मा है ।
आप  history पढने पर जोर देते हो । कृपया अपने - गुरु के पूर्व 3 जन्मों ?? की वाणियों का अध्ययन करें । उन्होंने किसी गायत्री ? उपासना को कोई महत्व दिया । कोई भी महत्व ? उन्होंने घर घर बच्चों की तरह पढने के लिये किताबों कापियों के बस्ते बेचे । जिनमें राम राम वगैरह लिख कर आत्म ज्ञान ? बताया जाता हो ।
बड़के भैया " चूना राम बिश्नोई जी " हमारी नोलेज के हिसाब से तो तोतापुरी जी महाराज अभी कुछ समय पहले तक मुक्ति के लिए भटक ही रहे थे । अब शायद कहीं की सीट आरक्षित हो गयी हो । तो कह नहीं सकते  । आगे भैया छोटा मुँह बड़ी बात बोल दिए । अगर बुरा लगे हो । तो हमका माफ़ी दे दो । आबरा का डाबरा ।
ANS - अक्सर एक नाम के कई सन्त । कई प्रसिद्ध लोग हुये हैं । जैसे एक विश्व विजेता सिकन्दर लगभग 500 वर्ष पूर्व कबीर के समय में उनका शिष्य हुआ । और एक कई हजार वर्ष पहले हुआ है । वह भी राजा ही था । और बेहद प्रसिद्ध भी हुआ । इसी तरह तोतापुरी नाम से विभिन्न पंथों के द्वैत ज्ञान में कई प्रसिद्ध अप्रसिद्ध सन्त हुये हैं । लेकिन आत्म ज्ञान की सनातन परम्परा में ये तोतापुरी मेरी जानकारी में सिर्फ़ 1 ही हुये हैं । ये रामकृष्ण परमहँस की युवावस्था का समय था । तब ये तोतापुरी बिहार के आसपास जंगलों आदि में घूमते रहते थे । वहीं इन्होंने सार शब्द मिशन के प्रमुख सन्त अद्वैतानन्द को उनके बचपन में ही ज्ञान दिया था । जिनके मण्डल की शाखायें - दिल्ली । पंजाब । नंगली ( मेरठ के पास ) आनन्द पुर ( ग्वालियर ) आदि बहुत स्थानों पर हैं । यही तोतापुरी रामकृष्ण परमहँस के भी अद्वैत मार्गी ज्ञान के गुरु थे । इनके और प्रसिद्ध शिष्यों के बारे में मुझे जानकारी नहीं । लेकिन मेरे ख्याल से इनके और शिष्य प्रसिद्ध नहीं हुये । या इन्होंने ज्यादा शिष्यों को ज्ञान ही नहीं दिया । तोतापुरी ( के गुरु ) से ऊपर की परम्परा किसी को ज्ञात नहीं है । इन्हीं तोतापुरी के शिष्य - अद्वैतानान्द के शिष्य - स्वरूपानन्द टेरी कोहाट ( सिन्ध प्रांत । अब पाकिस्तान में ) के थे । जिन्होंने उस समय पूरे विश्व में सतनाम का डंका बजा दिया था । इन्हीं को नंगली सम्राट कहा जाता है । नंगली और आनन्दपुर दोनों ही आश्रम लगभग 16 km के दायरे में बसे हुये हैं ।
विशेष - चुणाराम जी के श्रीराम शर्मा से सम्बन्धित प्रश्न का उत्तर और भी  विस्तार से - राजीव जी इतना झूठ मत बोलो । में भी दिया जायेगा । क्योंकि उसका विषय पूर्णरूपेण ऐसा ही होगा ।

27 अप्रैल 2012

कुछ रास्ता बतायें ? मेरी बहन की सहायता करें

मृत्यु का बड़ा भय है । क्या इससे छूटने का कोई उपाय है ?
- मृत्यु तो उसी दिन हो गई । जिस दिन तुम जन्मे । अब छूटने का कोई उपाय नहीं । जिस दिन पैदा हुए । उसी दिन मरना शुरू हो गए । अब 1 कदम उठा लिया । अब दूसरा तो उठाना ही पड़ेगा । जैसे कि प्रत्यंचा से तीर निकल गया । तो अब लौटाने का क्या उपाय है ? जन्म हो गया । तो अब मौत से बचने का कोई उपाय नहीं । जिस दिन तुम्हारी यह बात समझ में आ जाएगी कि - मौत तो होनी ही है । सुनिश्चित होनी है । और सब अनिश्चित है । मौत ही निश्चित है । उसी दिन भय समाप्त हो जाएगा । जो होना ही है । उसका क्या भय ? जो होकर ही रहनी है । उसका क्या भय ? जिसको टाला ही नहीं जा सकता । उसका क्या भय ? जिसको अन्यथा किया ही नहीं जा सकता । उसका क्या भय ?
आशंका है तुम्हें । जिस दुर्घटना की ।
घट चुकी है वह । पहले ही भीतर ।
केवल आएगा तैरकर । गत आगत की सतह पर ।
हो चुका है पहले ही काम । मर गए तुम उसी दिन । जिस दिन तुम जन्मे । जिस दिन तुमने सांस ली । उसी दिन सांस छूटने का उपाय हो गया । अब सांस किसी भी दिन छूटेगी । तुम सदा न रह सकोगे । इसलिए इस भय को समझने की कोशिश करो । बचने की आशा मत करो । बचने को तो कोई नहीं बच पाया । कितने लोगों ने कितने उपाय किए बचने के । तुम पूछते हो - मृत्यु का बड़ा भय है । क्या इससे छूटने का कोई उपाय है ? छूटने का उपाय करते रहोगे । भय बढ़ता जाएगा । तुम छूटने का उपाय करोगे । मौत रोज करीब आ रही है । क्योंकि बुढ़ापा रोज करीब आ रहा है । तुम जितने ही उपाय करोगे । उतने ही घबड़ाते जाओगे । मुझसे तुमने पूछा है । अगर मेरी बात समझ सको । तो मैं तुमसे कहूंगा - मौत को स्वीकार कर लो । छूटने की बात ही छोड़ो । जो होना है । होना है । उसे तुम स्वीकार कर लो । उसे तुम इतने अंतरतम से स्वीकार लो कि उसके प्रति विरोध न रह जाए । वहीं भय समाप्त हो जाएगा । मृत्यु से तो नहीं छूटा जा सकता । लेकिन मृत्यु के भय से छुटकारा हो सकता है । मृत्यु तो होगी । लेकिन भय आवश्यक नहीं है । भय तुमने पैदा किया है । वृक्ष तो भयभीत नहीं हैं । मौत उनकी भी होगी । क्योंकि उनके पास सोच  विचार की बुद्धि नहीं है । पशु तो चिंता में नहीं बैठे हैं । उदास नहीं बैठे हैं कि - मौत हो जाएगी । मौत उनकी भी होगी । मौत तो स्वाभाविक है । वृक्ष, पशु, पक्षी, आदमी । सभी मरेंगे । लेकिन सिर्फ आदमी भयभीत है । क्योंकि आदमी सोचता कि किसी तरह बचने का उपाय हो जाए । कोई रास्ता निकल आए । तुम जब तक बचना चाहोगे । तब तक भयभीत रहोगे । तुम्हारे बचने की आकांक्षा से ही भय पैदा हो रहा है । स्वीकार कर लो । मौत है । होनी है । तो जब होनी है । हो जाएगी । और हर्जा क्या है ? जन्म के पहले तुम नहीं थे । कोई तकलीफ थी ? कभी इस तरह सोचो । जन्म के पहले तो तुम नहीं थे । कोई तकलीफ थी ? मौत के बाद तुम फिर नहीं हो जाओगे । जो जन्म के पहले हालत थी । वही मौत के बाद हालत हो जाएगी । जब तक तुमने पहली सांस न ली थी । तब तक का तुम्हें कुछ याद है ? कोई परेशानी है ? कोई झंझट ? ऐसे ही जब आखिरी सांस छूट जाएगी । उसके बाद भी क्या झंझट ? क्या परेशानी ? सुकरात मरता था । किसी ने पूछा कि - घबड़ा नहीं रहे आप ? सुकरात ने कहा - घबड़ाना क्या है ? या तो जैसा आस्तिक कहते हैं । आत्मा अमर है । तो घबड़ाने की कोई जरूरत ही नहीं । आत्मा अमर है । तो क्या घबड़ाना । या जैसा कि नास्तिक कहते हैं कि - आत्मा मर जाती है । तो भी बात खतम हो गई । जब खतम ही हो गए । तो घबड़ाना किसका ? घबड़ाएगा कौन ? बचे ही नहीं । तो न रहा बांस । न बजेगी बांसुरी । तो सुकरात ने कहा - दोनों हालत में । दोनों में से कोई ठीक होगा । और तो कोई उपाय नहीं है । या तो आस्तिक ठीक । या नास्तिक ठीक । आस्तिक ठीक । तो अमर हैं । बात खतम हुई । चिंता क्या करनी ? नास्तिक ठीक । तो बात खतम ही हो जानी है । चिंता किसको करनी है । किसकी करनी है ? सुकरात ने कहा - इसलिए हम निश्चिंत हैं । जो भी होगा । ठीक है । तुम बचने की कोशिश न करो । मौत तो होगी । लेकिन तुमसे मैं कहना चाहता हूं । मौत तुम्हारी नहीं होगी । तुम्हारा जन्म ही नहीं हुआ । तो तुम्हारी मौत कैसे होगी ? शरीर का जन्म हुआ है । शरीर की मौत होगी । तुम्हारा चैतन्य अजन्मा है । और अमृतधर्मा है । शरीर तो रोज मर रहा है । शरीर की तो प्रक्रिया मृत्यु है । इस शरीर के पार 1 चैतन्य की दशा है । मगर उसका तुम्हें कुछ पता नहीं । तुम वही हो । और तुम्हें उसका पता नहीं । तुम्हें आत्म स्मरण नहीं । यह मत पूछो कि - मौत के लिए हम क्या करें ? इतना ही पूछो कि हमारे भीतर शरीर के पार जो है । उसे जानने के लिए क्या करें ? मृत्यु से बचने की मत पूछो । ध्यान में जागने की पूछो । अगर तुम्हें इतना पता चल जाए कि - मैं भीतर चैतन्य हूं । तो फिर शरीर ठीक है । तुम्हारा आवास है । घर को अपना होना मत समझ लो । और जैसे ही तुम्हें यह बात समझ में आनी शुरू हो जाएगी । तुम्हारे भीतर अपूर्व क्रांति घटित होगी ।
नर ! बन नारायण । स्वर ! बन रामायण ।

और तब तुम अचानक पाओगे । तुम्हारे भीतर जो तुमने नर की तरह जाना था । वह नारायण है । और जो तुमने स्वर की तरह जाना था । वह रामायण है । ओशो
**********
नमस्ते ! राजीव जी ! आज से 7 वर्ष पूर्व मेरे .........? का .....? राजस्थान हाईवे पर एक्सीडेंट हो गया था । वो मोटर साइकिल से थे । उनके सर में गहरी चोट लगी थी । इसके अलावा हाथों में सारा माँस निकल गया । एक हाथ में तो दो मुख्य नसों के अलावा सभी नसें ख़तम हो गयी थी । ...... हॉस्पिटल जयपुर में 6 माह admit  रहे । उनके सर के 2 ऑपरेशन । जबड़े के  2 -3 आपरेशन । हाथो के ऑपरेशन । व प्लास्टिक सर्जरी । 1 - 2 दूसरे ऑपरेशन भी हुए । आज भी उनकी दवाईयाँ चल रही हैं । जिस जिसने जो जो बताया । वो सब किया । काफी डॉक्टरों को दिखाया । राजस्थान में काफी देवताओं के । माताजियों के । तंत्र मंत्र करने वालो के गये । वो बोलते हैं कि - ये करवाया गया था ( तंत्र मंत्र से )  । इतना सब होने के बाद भी । आज जीजाजी ना तो खड़े हो पाते हैं । ना उठ पाते हैं । बोलने की कोशिश करते हैं । लेकिन समझ में नहीं आता । याददाश्त पूरी है । लेट्रिन पेशाब के लिए भी नहीं बोलते । बिस्तर ख़राब कर देते हैं । सभी काम दीदी ही करती हैं । जैसे कि - खाना खिलाना । गन्दगी साफ़ करना । उनको नहलाना । थोडा घुमाना आदि । आर्थिक रूप से बर्बाद हो चुके हैं । घर में और कोई आदमी नहीं है l  घर में दुकान है । वो दीदी की सास व दीदी मिल कर संभालती है । वो भी अब काफी कम चलती है । कोर्ट केस ( दुर्घटना बीमा वाला ) उसका कुछ पैसा मिला था । उसका आधा अभी ब्लाक है । कोर्ट में उस पर भी रोक लगी हुई है । उसे जीने की चाह नहीं है । लेकिन बालकों के लिए जी रही है ।   वो बहुत दुखी रहती है । बालकों के भविष्य का पता नहीं ।  अब दीदी  भी बीमार रहने लगी है । मानसिक टेंशन रहती है ।  कुछ रास्ता बतायें ? मेरी बहन की सहायता करें । एक पाठक  ।
विशेष - हमारे पाठक के अनुरोध पर परिचय  नहीं दिया गया है । ये कोई सज्जन इंसान हैं । जिन्होंने एक दुखी महिला को बहन मानते हुये दीदी सम्बोधन से पत्र लिखा है । वास्तव में ये इनकी सगी बहन नहीं हैं ।  एक परिचित भर हैं ।
***********
उत्तर यहीं प्रकाशित होगा ।

25 अप्रैल 2012

आत्म ज्ञानी सन्त ज्ञानेश्वर की गीता व्याख्या के लिंक

आदरणीय राजीव जी  ! जय गुरुदेव की । गीता प्रेस गोरखपुर की सन्त ज्ञानेश्वर का " श्री ज्ञानेश्वर " के नाम से हिन्दी में पुस्तक निकाली है । जो कि 832 page की है । यदि आप कहें । तो मैं उसे लेकर रोज 2-4 page टायप करा के आपको मेल कर दिया करूँ । दूसरा जो internet पर है । वह जल्दी खुल नहीं रहा है । उसका adress लिंक है -
http://www.scribd.com/collections/2817781/Jnaneshwar
और जब तक कुछ नहीं मिल पा रहा । तब तक ये ब्लाग के पाठकों को Dr Kumar Vishvas डा. कुमार विश्वास का कवि सम्मेलन का आनन्द देने की कृपा करें । यदि आप चाहें तो । इसमें कुछ अच्छी बाते भी हैं ।
Thanks
*************
गाजियाबाद के बहुचर्चित कवि कुमार विश्वास की MP3 फ़ाइल को या ऐसी ही अन्य फ़ाइल को अपलोड करने के लिये मेरे पास opendrive.com/ ( क्लिक करें ) जैसी किसी साइट पर खाता नहीं हैं । इस साइट पर मेरा जो खाता था । वह अष्टावक्र गीता में 1GB स्पेस पूरा होते ही फ़्री स्पेस खत्म हो गया । अब कोई भी MP3 फ़ाइल लिंक पाठको को उपलब्ध कराने हेतु मुझे नया खाता नये नाम से खोलना होगा । और फ़ाइल अपलोड कर उसका कोड पोस्ट में लगाना होगा । तब वह MP3 फ़ाइल पाठकों को सुनने या  डाउनलोड करने को उपलब्ध हो जायेगी । पर ये सब करने के लिये मेरे पास समय नहीं है । यदि आप चाहते हैं । तो इसी साइट पर अपना खाता खोलकर 1GB तक फ़्री डाटा कई फ़ाइलों में डाउनलोड कर उसका embed Code मुझे मेल से भेज सकते हैं । तब मैं उसको पोस्ट में लगा दूँगा ।
बाकी आपने वाकई बेहद महत्वपूर्ण ज्ञानेश्वर गीता की हिन्दी व्याख्या के लिंक की खोज की है । मैंने इस साइट पर सीधे सीधे उन्ही पेजों के लिंक कापी किये । जहाँ ये गीता आदि व्याख्या हिन्दी PDF फ़ाइल में उपलब्ध है । और आप उनको सीधा डाउनलोड भी कर सकते हैं । फ़िर इसके 1 से 18 अध्याय डाउनलोड करना या टायप करना कोई बङी बात नहीं है ।
लेकिन गीता प्रेस की किताब का कोई फ़ायदा नहीं । वह लोग ( वहाँ के टीकाकार आदि ) आत्म ज्ञान के विषय में नहीं जानते । उनकी अधिकांश पुस्तकें द्वैत ज्ञान पर आधारित हैं । वो भी भक्ति भाव में । न कि किसी शोध के अन्दाज में । अतः उसका कोई फ़ायदा भी नहीं । और वैसे भी किसी प्रकाशन की पुस्तक को इस तरह नहीं छापा जा सकता । कुछेक अंशों की बात अलग है । लेकिन ज्ञानेश्वर गीता की व्याख्या छापी जा सकती है । फ़िर वह चाहें । किसी प्रकाशक ने छापी हो । क्योंकि 50 साल से अधिक पुरानी पुस्तकों पर कापीराइट खत्म हो जाता है ।
नीचे 13 वीं सदी के महान आत्म ज्ञानी सन्त ज्ञानेश्वर जी सम्बन्धित लिंक हैं । इन्हें क्लिक करने पर सीधा वही पेज खुलता है । और आराम से खुलता है । मैं आपको बता दूँ । सन्त ज्ञानेश्वर जी आत्मज्ञान के सच्चे और बहुत उच्च स्तर के सन्त हुये हैं । इनके समान भगवत गीता की टीका व्याख्या आज तक कोई नहीं कर पाया । ये बहुत छोटी उमर में शरीर त्याग कर चले गये थे । और सिर्फ़ गीता की व्याख्या करने हेतु ही इस प्रथ्वी पर प्रकट हुये थे । इनका जन्म नहीं हुआ था ।
सन्त ज्ञानेश्वर से सम्बन्धित विभिन्न पेजों की संयुक्त जानकारी देता पेज । इसी लाइन या नीचे वाली पर क्लिक करें ।
http://www.scribd.com/collections/2817781/Jnaneshwar
सन्त ज्ञानेश्वरी गीता हिन्दी अध्याय 1-to-6 इसी लाइन पर या नीचे क्लिक करें ।
http://www.scribd.com/Soham%20Hamsah/d/13571198-Jnaneshwari-Gyaneshwari-Hindi-Chapters-1-to-6
सन्त ज्ञानेश्वरी गीता हिन्दी अध्याय 7-to-12 इसी लाइन पर या नीचे क्लिक करें ।
http://www.scribd.com/Soham%20Hamsah/d/13572021-Jnaneshwari-Gyaneshwari-Hindi-Chapters-7-to-12
सन्त ज्ञानेश्वरी गीता हिन्दी अध्याय 13-to-16 इसी लाइन पर या नीचे क्लिक करें । http://www.scribd.com/Soham%20Hamsah/d/13572653-Jnaneshwari-Gyaneshwari-Hindi-Chapters-13-to-16
सन्त ज्ञानेश्वरी गीता हिन्दी अध्याय 17-18 इसी लाइन पर या नीचे क्लिक करें ।
http://www.scribd.com/Soham%20Hamsah/d/13573452-Jnaneshwari-Gyaneshwari-Hindi-Chapters-17-18
ये  भी सन्त ज्ञानेश्वर जी से सम्बन्धित बहुमूल्य ज्ञान है । इसी लाइन पर या नीचे क्लिक करें ।
http://www.scribd.com/Soham%20Hamsah/d/47168103-%E0%A4%9C%E0%A5%8D%E0%A4%9E%E0%A4%BE%E0%A4%A8%E0%A5%87%E0%A4%B6%E0%A5%8D%E0%A4%B5%E0%A4%B0%E0%A5%80-%E0%A4%AD%E0%A4%BE%E0%A4%B5%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A5%8D%E0%A4%A5%E0%A4%A6%E0%A5%80%E0%A4%AA%E0%A4%BF%E0%A4%95%E0%A4%BE
सन्त ज्ञानेश्वर अभंग गाथा इसी लाइन पर या नीचे क्लिक करें ।
http://www.scribd.com/Soham%20Hamsah/d/18944126-Jnaneshwar-Abhang-Gatha-Marathi-
यहाँ पता नहीं क्या है ? ये इसी साइट से खुल गया था । क्लिक करके देखें ।
http://www.here-now4u.de/

24 अप्रैल 2012

मैं बीसवीं सदी का व्यक्ति हूँ

सवाल - आपकी नजर में विज्ञान का भविष्य क्या होगा ?
मैं बीसवीं सदी का व्यक्ति हूँ । और पूरी तरह से जीवंत हूँ । और मैं भविष्य की जरा भी चिंता नहीं करता । न ही मैं अतीत की कोई परवाह करता । मेरा सारा जोर वर्तमान पर है । क्योंकि सिर्फ वर्तमान ही का अस्तित्व है । अतीत अब रहा नहीं । भविष्य आया नहीं । दोनों ही का अस्तित्व नहीं है । वे पैगंबर पागल रहे होंगे । जो भविष्य की चिंता करते थे । वे हमेशा भविष्य की बात करते थे ।
दुनिया में दो ही तरह के पागल लोग हैं । वे जो हमेशा अतीत की बात करते हैं । और थोड़े जो भविष्य की बात करते हैं । अतीत की बात करने वाले लोग इतिहासविद, पुरातत्वविद इत्यादि होते हैं । और जो लोग भविष्य की बात करते हैं । वे पैगंबर, कल्पनाशील, कवि होते हैं । मैं दोनों ही नहीं हूँ । मेरा सारा संबंध इस क्षण से है..अभी. यहाँ ।
मैं पैगंबर नहीं हूँ । लेकिन एक बात मैं कह सकता हूँ । और इसका असल में भविष्य से कुछ लेना देना नहीं है । यह अभी यहीं घट रहा है । लोग अंधे हैं । इसलिए वे देख नहीं सकते । मैं देख सकता हूँ । यह पहले ही हकीकत बन चुका है । बड़ी से बड़ी बात जो हो रही हैं । जो बाद में समझ में आएगी । वह है - धर्म और विज्ञान का मिलन । पूर्व और पश्चिम का मिलन । भौतिकता और आध्यात्मिकता का मिलन । बाह्य और अंतस का मिलन । अंतर्मुखी और बाह्यमुखी का मिलन । लेकिन यह अभी ही हो रहा है । यह भविष्य में विकसित होगा । लेकिन मेरा संबंध वर्तमान से है । और मैं बहुत प्रसन्न हूँ कि कुछ बहुत ही महान बात होने को है । बीज अंकुरित हो चुका है । तुम इतने अतीत और भविष्य से बँधे हो कि वर्तमान में छोटे से अंकुरण को देख नहीं सकते । यहाँ, तुम्हारी आँख के नीचे । दो विपरीत ध्रुवों का मिलन हो रहा है । विज्ञान अकेला आधा है । और मानव को तृप्ति नहीं दे सकता । यह तुम्हें अधिक बेहतर शरीर दे सकता है । यह तुम्हें अच्छा स्वास्थ्य दे सकता है । लंबा जीवन दे सकता है । यह तुम्हें अधिक भौतिक सुविधाएँ दे सकता है । अधिक विलासिता । मैं इनमें से किसी के खिलाफ नहीं हूँ । मैं दुखवादी नहीं हूँ । मैं किसी भी तरह से उस तरह का मूर्ख नहीं हूँ । लेकिन यह सिर्फ बाहरी दुनिया की चीजें ही दे सकता है । जो कि अपने में सुंदर है । मैं चाहता हूँ कि सभी लोग सुंदर जीवन, आरामदायक जीवन जीएँ । अधिक विलासिता में, अधिक स्वस्थ, अधिक पोषित, अधिक शिक्षित, लेकिन सिर्फ यही सब कुछ नहीं है । यह सिर्फ जीवन की सतह भर है - केंद्र नहीं ।
धर्म केंद्र उपलब्ध करवाता है । यह तुम्हें आत्मा देता है । इसके बिना विज्ञान लाश भर है । एक सुंदर लाश । तुम लाश को रंग रोगन कर सकते हो । तुम लाश को धो सकते हो । और सुंदर कपड़े पहना सकते हो । लेकिन लाश तो लाश ही है । और याद रखो । यही बात धर्म के साथ भी लागू होती है । धर्म अकेला भी पर्याप्त नहीं है । अकेला धर्म तुम्हें भूत बना देता है । पवित्र भूत ! लेकिन यह तुम्हें भूत बना देता है । यदि धर्म भौतिक नहीं बनता है । तो आत्मा परमात्मा की बातें महज एक पलायन है । पूरब में यही हुआ है । हम आत्मा की बहुत ज्यादा बात करते हैं । और हमें जो यथार्थ चारों तरफ से घेरे है । उसे भूल ही गए हैं । हम अंतर्मुखी हो गए हैं । स्व से अत्यधिक बँधे हुए । हम वृक्षों की, पहाड़ों की, और चंद्रमा और तारों की खूबसूरती के बारे में पूरी तरह से भूल गए । पूरब में मानवता कुरूप हो गई । इसके पास केंद्र है । लेकिन परिधि नहीं । सब कुछ केंद्र पर सिकु्ड़ गया । पश्चिम के पास परिधि है । पर केंद्र नहीं । लोगों के पास सब कुछ है । लेकिन कुछ महत्वपूर्ण से चूक रहे हैं । विज्ञान और धर्म एक हो रहे हैं । ये एक हो चुके हैं । मैं यह नहीं कह रहा हूँ कि वे एक होने वाले हैं । वे एक हो रहे हैं । सभी महान वैज्ञानिक - एडिंग्टन, प्लैंक, आइंस्टिन । विज्ञान जगत के उच्च क्षमता के लोग । इस बात के लिए सचेत हुए हैं कि अकेला विज्ञान काफी नहीं है । यहाँ कुछ और भी अधिक रहस्यपूर्ण है । जो वैज्ञानिक कार्य प्रणाली व संसाधनों से पकड़ नहीं सकते । कुछ भिन्न प्रयास की जरूरत होती है । ध्यान पूर्ण होश की जरूरत होती है ।
एडिंग्टन अपनी आत्मकथा में कहता है - जब मैंने अपने जीवन की शुरुआत एक वैज्ञानिक की तरह की । तो मैं सोचता था कि दुनिया चीजों से चलती है । लेकिन जैसे मैं विकसित हुआ । वैसे वैसे मैं अधिक से अधिक सचेत हुआ कि दुनिया में सिर्फ चीजें ही नहीं होती । बल्कि विचार भी होते हैं ।
यथार्थ विचार के अधिक करीब है । यथार्थ की थाह नहीं पाई जा सकती । उसे नापा नहीं जा सकता । वह कहीं अधिक अधिक रहस्यपूर्ण है । यथार्थ मात्र वस्तु नहीं । बल्कि चेतना भी है । मेरी अपनी दृष्टि यह है कि हमें जोरबा दि बुद्धा का निर्माण करना होगा । जो नया बुद्ध होगा । वह जोरबा दि ग्रीक और गौतम बुद्ध का मिलन होगा । वह सिर्फ जोरबा नहीं हो सकता । और वह सिर्फ बुद्ध भी नहीं हो सकता ।
और इसीलिए मेरा सारा प्रयास है - जोरबा और बुद्ध के बीच सेतु निर्माण किया जाए । स्वर्ग सेतु, या इंद्रधनुषी सेतु, धरती और अनंत के बीच, इस किनारे और उस किनारे के बीच । यह मेरे आसपास घट रहा है । इसे घटते हुए कहीं और तुम देख नहीं सकते ।
यहाँ सभी तरह के वैज्ञानिक हैं । यहाँ कई तरह के वैज्ञानिक हैं । यहाँ पर कवि और संगीतकार, चित्रकार हैं- सभी तरह के लोग, और ये सभी एक साथ एक महान प्रयास के लिए जुटे हैं - ध्यान के लिए । यहाँ सिर्फ एक मिलन का बिंदु है । और वह है - ध्यान । सिर्फ एक बिंदु पर वे मिलते हैं । अन्यथा सभी की अपनी वैयक्तिक यात्रा है । इस मिलन द्वारा अदभुत विस्फोट संभव है । यह यहाँ घट रहा है । जिनके पास आँखें हैं । वे यह घटते यहाँ देख सकते हैं ।
पृथ्वी पर यही एक जगह है । जहाँ दुनियां के सारे देशों के प्रतिनिधि मिलेंगे । हम यहाँ पर रूस के लोगों को चूक रहे थे । और अब मैं यह बताते प्रसन्न हूँ कि रूस से भी लोग यहाँ आ गए हैं । सभी वर्ग यहाँ मिल रहे हैं । सभी धर्म यहाँ मिल रहे हैं । यहाँ पर छोटा सा संसार है । छोटी सी दुनिया । और हम सभी यहाँ पर मानव की तरह मिल रहे हैं । कोई ईसाई नहीं है । हिंदू नहीं है । या मुसलमान नहीं है । कोई नहीं जानता कि कौन वैज्ञानिक है । कौन संगीतकार है । कौन चित्रकार है । कौन प्रसिद्ध अभिनेता है । कोई कहता भी नहीं । एक पूरे तरह का नया विज्ञान निश्चित ही आने वाला है । यह दोनों एक साथ होगा - धर्म और विज्ञान । और तब ही यह पूर्ण हो सकता है । यह अंतस और बाह्य दोनों का विज्ञान होगा । सच तो यह है कि धर्म के दिन पूरे हुए । सिर्फ विज्ञान काफी है । एक ही शब्द से काम चल जाएगा । 'विज्ञान - सुंदर शब्द है । इसका मतलब है - जानना, विवेक ।
विज्ञान को दो श्रेणियों में बाँटना है - विषयगत विज्ञान - रसायन शास्त्र, भौतिकशास्त्र, गणित, इत्यादि इत्यादि । और आत्मपरक विज्ञान । और तब धर्म और विज्ञान को बाँटने की जरूरत नहीं है । और धर्म और विज्ञान का मिलन पहली बार पूर्ण मानव का निर्माण करेगा । अन्यथा मानवता आज तक खंडित रही है । बँटी हुई । विक्षिप्त । विभाजित रही है । मैं संपूर्ण मानव के लिए हूँ । क्योंकि मेरे अनुसार संपूर्ण मानव ही पवित्र मानव हैं । ओशो

22 अप्रैल 2012

सदा संत मतवाला

नई सुबह । नया सूरज । नयी धूप । नये फूल । सोकर उठा हूं । सब नया नया है । जगत में कुछ भी पुराना नहीं है ।
कई सौ वर्ष पहले यूनान में हेराक्लतु ने कहा था - एक ही नदी में दो बार उतरना असंभव है । सब नया है । पर मनुष्य पुराना पड़ जाता है । मनुष्य नये में जीता ही नहीं । इसलिए पुराना पड़ जाता है । मनुष्य जीता है - स्मृति में । अतीत में । मृत में । यह जीना ही है । जीवन नहीं है । यह अर्ध मृत्यु है । और इस अर्ध मृत्यु को ही हम जीवन मानकर समाप्त हो जाते हैं । जीवन न अतीत में है । न भविष्य में है । जीवन तो नित्य वर्तमान में है । वह जीवन योग से मिलता है । क्योंकि योग चिर नवीन में जगा देता है । योग चिर वर्तमान में जगा देता है । उसमें जागना है - जो है । जो था - वह भी नहीं है । जो होगा - वह भी नहीं है । और जो है - वह प्रकट तब होता है । जब मानव चित्त स्मृति और कल्पना के भार से मुक्त होता है । स्मृति मृत का संकलन है । उसमें जीवन को नहीं पाया जा सकता है । और कल्पना भी स्मृति की ही पुत्री है । वह उसकी ही प्रतिध्वनि और प्रक्षेप है । वह सब ज्ञात में भटकना है । उससे जो अज्ञात है । उसके द्वार नहीं खुलते हैं ।
ज्ञात को जाने दो । ताकि अज्ञात प्रकट हो सके । मृत को जाने दो । ताकि जीवित प्रकट हो सके । योग का सार सूत्र यही है - संसार दर्पण है ।
आणा नाचे ताणा नाचे । नाचे सुत पुराणा ।
बाहर खडी तेरी नाचे जुलाही । अन्दर कोई ना आणा ।
हस्ती चढ़ कर ताणा तणीया । ऊंट चडया निर्वाणा ।
घुडले चढ़ कर बणबा लाग्या । वीर छावनी छावा ।
उरद मूंग मत खाए जुलाही । तेरा लड़का होगा काला ।
एक दमड़ी का चावल मंगा ले । सदा संत मतवाला ।
माता अपनी पुत्री ने खा गई । बेटा ने खा गयो बाप ।
कहत कबीर सुणो भाई साधो । रतियन लाग्यो पाप ।

20 अप्रैल 2012

क्षण ! शाश्वत क्षण में छिपा है । और अणु में विराट । अणु को जो अणु मानकर छोड़ दे । वह विराट को ही खो देते हैं । क्षुद्र में ही खोदने से परम की उपलब्धि होती है । जीवन का प्रत्येक क्षण महत्वपूर्ण है । और किसी भी क्षण का मूल्य किसी दूसरे क्षण न ज्यादा है । न कम है । आनंद को पाने के लिए किसी अवसर की प्रतीक्षा करना व्यर्थ है । जो जानते हैं । वे प्रत्येक क्षण को ही आनंद बना लेते हैं । और जो अवसर की प्रतीक्षा करते हैं । वे जीवन के अवसर को खो देते हैं । जीवन की कृतार्थता इकट्ठी और राशिभूत नहीं मिलती है । एक साधु के निर्वाण पर उसके शिष्यों से पूछा गया था कि दिवंगत सदगुरु अपने जीवन में सबसे बड़ी महत्वपूर्ण बात कौन सी मानते थे ? उन्होंने उत्तर में कहा - वही जिसमें किसी क्षण वे संलग्न होते थे ।
बूंद बूंद से सागर बनता है । और क्षण क्षण से जीवन । बूंद को जो पहचान ले । वह सागर को जान लेता है । और क्षण को जो पा ले । वह जीवन पा लेता है - ओशो ।
लेकिन कल तो कभी आता नहीं । जब भी आता है । आज ही आता है । कल भी आज ही आएगा - ओशो ।
तेरे इश्क की खुशबू में खोया खोया सा रहता हूँ ।
मुझे सब लोग छेड़ते रहते हैं कि मे सोया सोया सा रहता हूँ ।

ज्ञानी हमेशा चुप और शांत होता है । वह पूछने पर या जरुररत पर ही बोलता है । वह ज्ञानी के साथ ज्ञानी होता । और मूर्ख के साथ मूर्ख हो जाता है । बच्चों के साथ बच्चा हो जाता है । जवान के साथ जवान होता है । वह किसी भी रंग में अपने को रंग देता है । वही ज्ञानी और योगी है ।
जब वो शरीर में थे । तब भी लोग चूक गए थे । और अब भी चूक रहे हैं । आगे भी बुद्ध होंगे । और चूकेंगे । ये संसार का शाश्वत नियम है ।
हाजिर की हुज्जत गये की तलाशी - इसी को कहा है ।
जो होश पूर्वक जीता है । उसे किसी गुरु की जरुरत नहीं पड़ती है । 
ख़याल रहे । इस पूरी प्रथ्वी के इतिहास में जितने गुरु अपनी जिन्दगी 
में बुद्ध ने बनाये । और किसी ने नहीं बनाये । कोई गुरु पार नहीं लगा पाया । अंत में खुद का ही होश काम आया । इसीलिए तो बुद्ध ने खुद जानकर कहा - कोई तुम्हे कुछ नहीं दे सकता । मैं भी नहीं - अप्पो दिप्पो भव । एस धमो सनन्तनो । सत्य ही सनातन है । सत्य ही शाश्वत है ।

19 अप्रैल 2012

सुमरन कर ले मेरे मना तेरी बीते उमर हरि नाम बिना

अब आगे - मैंने अक्सर ही ये बात कही है । योग और परमात्मा को आपने हौवा बना दिया है । बहुत दूर की बात बना दिया है । जबकि यही आपकी असली बात है । अपनी चीज भी है । वास्तविक स्वस्थ = स्व + स्थ । इसी को कहा जाता है । योग के पारिभाषिक शब्द में खास इसको स्वरूप दर्शन कहा जाता है । स्वरूप = स्व + रूप । आपके अपने ही रूप ( या  रूपों ) का दर्शन होना । तब योग स्थिति में जो कुछ भी आप देखते हैं । वह आपका अतीत भविष्य और वर्तमान ही होता है ।
जी हाँ ! SCIENCE के तरीके से आप MATTER की आंतरिक क्रियाओं को समझने लगते हैं । फ़िर योग बहुत सरल हो जाता है । और साधारण मनुष्य से लेकर बहुत छोटे बच्चे और पशु पक्षी भी किसी न किसी स्तर किसी % पर योग करते हैं । कैसे ? मैं आपको समझाता हूँ ।
चलिये । आँखें बन्द कर लीजिये । अब बाहर का दिखाई देना बन्द हो गया । लेकिन आँखों के ठीक सामने एक परदा अब भी है । और वो आपको स्पष्ट 


दिख रहा है । लेकिन इससे बात कुछ ज्यादा समझ में नहीं आयेगी । तब आप यूँ समझें । बहुत गहरी नींद और सामान्य - आधी नींद और आधा जागरण । इनमें क्या अन्तर है ?
बहुत गहरी नींद । जिसमें आपको कोई होश हवास नहीं रहता । आपकी स्वतः होने वाली मगर अपरिचित योग की श्रेष्ठ तुरियातीत अवस्था है । जबकि स्वपन वत स्थिति आपकी विकल्प योग अवस्था है । वास्तव में इस शरीर में किसी भी अवस्था में आप योग मय ही हैं । योग से वियोग होते ही उसी क्षण शरीर की मृत्यु हो जायेगी । लेकिन बात इतनी ही है । वह आपकी जानकारी में नहीं है । इसलिये आप उसके अधिकारी नियंत्रण कर्ता आदि नहीं हैं । एक उदाहरण देता हूँ । एक डाक्टर वकील पुलिस वाले को उनसे सम्बन्धित कोई समस्या आ जाती है । तो वो समस्या का कारण निदान सब जानते हैं । इसलिये समस्या उनके लिये कोई परेशानी पैदा नहीं करती । पर आम आदमी की रातों की नींद दिन का चैन उङा सकती है । क्योंकि वह उसका अधिकारी नहीं है ।  जबकि उपरोक्त पदासीन लोगों के रोज के खेल । दिनचर्या । इंगलिश में - routine .
तब एक बात सोचिये । स्वपन में भी सब कुछ इसी संसार जैसा ही है । तुम भी । और संसार भी । बस वो आपके लिये स्पष्ट नहीं है कि - ये सब क्यों हैं । क्या है ?
कल के लेख - राजीव की रहस्यमय दुनियाँ ..में मैंने जो भी वर्णन किये । वह सभी नीचे लोकों के ही हैं । मैं बता चुका हूँ । प्रथ्वी गुदा से थोङा ऊपर और लिंग योनि से थोङा नीचे यानी गुदा और लिंग योनि के बीच स्थित है । अतः कल वर्णित लोक यहीं मुश्किल से एकाध इंच के पास ही हैं ।
अगर आपने शास्त्रों को कभी गौर से पढा हो । तो उसमें आता है । विराट पुरुष के रोम रोम में अनेकों खण्ड बृह्माण्ड स्थित हैं । रोम रोम समझते हैं आप ? शरीर के अनगिनत छिद्र । जिनमें रोम यानी बाल निकलते हैं । और मनुष्य शरीर और विराट पुरुष की रचना same हैं । तब आप खुद अंदाजा लगा सकते हैं । इसलिये समझिये । अभी आप नाभि तक भी  नहीं आये । लिंग या योनि स्थान तक भी नहीं आये । क्योंकि यहाँ बृह्मा का लोक है । लेकिन ऊपर चलने से पहले आपको एक बार नीचे के लोकों के बारे में और बता दूँ । जहाँ आप बेल्ट बाँधते हैं । उससे नीचे दोनों ही पैरों में अँधेरे लोक । नीचे लोक । और सजायाफ़्ता जीवात्माओं के लिये लोक है । लगभग घुटने तक । इनमें (  सजा पाये ) निवासियों की संख्या बहुत कम होती हैं । और ये आकार में भी तुलनात्मक बहुत छोटे होते हैं । इनमें SEX आदि भी नहीं है । वनस्पतियाँ भी नहीं हैं । जैसे कोढी आदि होने की सजा पाये लोक में कोढी जीव निश्चित समय तक नियम अनुसार  फ़्री स्टायल घूमते

रहते हैं । ऐसी ही अन्य सजायें । घुटने से नीचे जल सृष्टि या जलीय लोक आरम्भ होने लगते हैं । और पैर के पंजे और उँगलियों पर तो अथाह जलराशि है ही । ध्यान रहे । ये अखिल सृष्टि जल में निर्मित स्थापित है । और तमाम बृह्माण्ड और उनके ग्रह लोक आदि इसमें गेंदों की तरह तैर रहे हैं । हालांकि आपको सूर्य जैसे तारे के बारे में सोचकर ये बात हजम नहीं होगी । अटपटी भी लगेगी । पर उस बिज्ञान को समझना आसान नहीं है । और समझा देने से आप इसके बैज्ञानिक बनने वाले भी नहीं । लेकिन एक उदाहरण देना ठीक है । हिरण्याक्ष ने प्रथ्वी को पाताल में छुपा दिया था । और बराह अवतार इसको अपनी थूथनी पर रख कर वापस जल के ऊपर लाया था । जाहिर है । इससे प्रथ्वी के तुलनात्मक अथाह जलराशि की सहज कल्पना की जा सकती है । जिसमें एक छोटी गेंद के समान प्रथ्वी कहीं खो सी गयी थी ।
योग में विभिन्नता क्रिया के अन्तर से लगती है । पर वास्तव में जब योग होना आरम्भ होता है । तब वो  क्रिया

एक ही हो जाती है । फ़िर चाहे योग - भाव पूजा । तंत्र से । या मंत्र से । या कुण्डलिनी । या हंस ज्ञान । या आत्म भाव में किया जाये । मूल क्रिया 1 ही होगी । क्योंकि दूसरी है ही नहीं ।
चलिये । सबसे पहले घरेलू पूजा की बात करें । आपने पूजा आरती वगैरह की । सुगन्धित धूप बत्ती आदि से आपका मन शान्त हो गया । मानसिक उपद्रव कुछ देर को शान्त हो गये । आप भी शान्ति महसूस करने लगे । अब आप मौन ही तो हैं । सिर्फ़ भाव में । कोई मंत्र नहीं । कोई आरती नहीं । कोई कुछ भी नहीं । बस एक शान्ति सी । स्वस्थ = स्व + स्थ । तंत्र मंत्र भाव पूजा के तुलनात्मक थोङा बैज्ञानिक हो जाता है । लेकिन उसकी भी स्थूल बाह्य क्रियायें पूर्ण होते ही बाद की स्थिति वही होगी । मौन अज्ञात में घटित होता इच्छित पदार्थ । अब 


क्योंकि यह तरीके और तकनीक से किया गया है । इसलिये प्राप्ति और अनुभव का % भाव पूजा के तुलनात्मक काफ़ी अधिक हो जाता है । कुण्डलिनी जैसा महायोग साधारण लोगों के नसीब में नहीं होता । दरअसल नीचे की पढाई किसी भी रूप में आपको पूरी करनी ही होगी । तभी आप यहाँ तक आ पायेंगे । इसलिये कुण्डलिनी के आवेश विलक्षण होते हैं । कुण्डलिनी साधना की A B C D ही दिव्यता से शुरू होती है । यदि किसी के अन्दर ये योग सक्रिय है । तो फ़िर वो सामान्य पुरुष स्त्री नहीं । बल्कि देवत्व श्रेणी का छात्र है । बस उसको इसको पढना और उत्तीर्ण करना है । लेकिन कुण्डलिनी के आवेश में भी किसी सिद्ध मंत्र या बीज मंत्र या तत्व मंत्र के स्थूल जप के बाद सूक्ष्म जप स्वतः होने लगता है । और फ़िर साधक उसी धारा में स्थित हुआ सिर्फ़ जानता है । देखता है । उसे करना कुछ नहीं होता । बस अनुभव इसके अलग स्तर के  होंगे । और आपके वांछित क्षेत्र के होंगे । इसलिये महत्वपूर्ण शब्द MATTER का बिज्ञान ठीक से समझें । फ़िर समझना आसान होगा । कुण्डलिनी के बेहद शान्त और अति हाहाकारी भी अनुभवों

के इतने प्रकार होते हैं कि - उन सभी का वर्णन असंभव सा ही है । आप योग के स्तर के अनुसार शरीर से भी निकल सकते हैं । स्वयं के ही दो या चार शरीरों में भी हो सकते हैं । किसी भी स्थान पर पल भर में पहुँच सकते हैं । किसी को बुला सकते हैं । अतीत में जा सकते हैं । भविष्य का निर्मित हो चुका चित्र अपनी क्षमता अनुसार देख सकते हैं । उचित होने पर किसी क्रिया को बदल सकते हैं । रोक भी सकते हैं । नयी क्रिया भी कर सकते हैं । यहाँ तक कि अनुचित कार्य भी कर सकते हैं । ये आपको मुक्त प्रयोग की छूट देता है ।
लेकिन ध्यान रहे । अगर आप मुक्त रूप से प्रयोग करते हैं । तो उस परिणाम का पूरा उत्तरदायित्व आपका ही  होगा । उस प्रयोग के सभी MATTER का निचोङ निकाल कर आपको सजा या पुरस्कार प्राप्त होगा । आप कार्य कर सकते हैं । पर उसका परिणाम हमेशा सत्ता और उसके कानून के अनुसार ही होगा । ये एक बङी वजह है । जिससे देवता बनने गये लोग राक्षस बन जाते हैं । और राक्षसी प्रवृति की चाह रख कर जुङे देवत्व को प्राप्त हो जाते हैं । जबकि अधीन भाव से कार्य करने वाले गलती हो जाने पर परिणाम के जिम्मेदार नहीं होते । उनसे गलती हो जाने पर प्रकृति देवी का बिज्ञान विभाग उस गलत हो गये MATTER को सही कर देता है । क्योंकि आप जानते ही हो । पढाई और प्रयोग में गलतियाँ सफ़लतायें असफ़लतायें निश्चित ही होती हैं ।
कुण्डलिनी का जागरण या ध्यान अवस्था । आपको सीधा ऊँचे आकाश में उठाता है । आसमानी नीला तारों से झिलमिलाता शान्त स्वच्छ मनमोहक खुला अंतरिक्ष । आपको 


महसूस होगा । एक पूर्ण शुद्धता purity. जैसे आपने पहली बार महसूस की हो । स्वच्छ वातावरण में ली गयी सांस कैसी होती है ? इससे पहले आप कभी नहीं जान पायेंगे । आपके फ़ेफ़ङे सीना दिलोदिमाग एक अनोखी ताजगी और स्फ़ूर्ति का अनुभव करते हुये भर उठेंगे । ध्यान टूटने के बाद भी ये प्रभाव बहुत समय तक रहेगा । आपका दिल यही करेगा । किसी चिङिया की तरह पंख फ़ैलाकर आकाश में उङ जाऊँ ।
जी हाँ ! आपको अन्दर से ये भाव स्थिर स्थित हो चुका होगा । आप आराम से ऐसा कर सकते हैं । हो सकता है । एक बार की यात्रा में ही आपको दुनियाँ फ़ीकी रसहीन घिनौनी और बेरंग लगने लगे । तीनों बन्द लगाय के अनहद सुनो टंकोर । सहजो सुन्न समधि में नहिं सांझ नहिं भोर । नाम खुमारी नानका चढी रहे दिन रात । फ़िर ये नशा उतरने वाला नहीं ।
परमहँस ज्ञान की बात गोपनीय और बेहद उच्च स्थिति वालों के लिये होती है । अतः उसका जिक्र नहीं करूँगा । 


जब हँसा परमहँस हो जाये । पारबृह्म परमात्मा साफ़ साफ़ दिखलाये । समझ गये ।
कुण्डलिनी के बाद हँस ज्ञान ध्यान की बात करते हैं । जहाँ परमहँस ध्यान साधना बेहद कठिन है । ऐसी तैसी मार देता है । वहीं हँस सबसे सरल योग ध्यान है । घरेलू भाव पूजा से भी सरल । तंत्र मंत्र कुण्डलिनी तो इसके देखे बहुत कठिन हैं । लेकिन हँस ज्ञान जो घरेलू स्तर का गृहस्थ टायप इंसान नामदान लेकर करता है । वो वास्तव में उनका नाम जप कमाई या असली पूजा है । जो उनके खाते में जमा होती रहती है । अभी ये ध्यान या साधना नहीं है । सच्ची हँस दीक्षा का सबसे बङा लाभ 84 लाख योनियों की जेल से मुक्ति । अगला मनुष्य जन्म निश्चित । और समृद्ध और भक्ति ज्ञान युक्त अगले जन्म की गारंटी । आपको इसी

जन्म में हो जाती है । लेकिन कुछ गलतियाँ होने पर इसके side effect काफ़ी भयंकर हैं । क्योंकि हँस ज्ञान सीधा सीधा बिजली है । कायदे से उपयोग किया । तो सुख ही सुख । वरना मौत । और फ़िर अनन्त कल्पों का रौरव नरक । और महा रौरव नरक । क्यों ? मूढता । मनमुखता । गुरुद्रोह । जलन । ईर्ष्या । छल । कपट आदि भावों से ये ध्यान करने पर वैसा ही  MATTER तैयार हो जाता है । कबिरा हरि के रूठते गुरु के शरने जायें । कह कबीर गुरु रूठते हरि नहीं होत सहाय । किसी भी शक्ति की । किसी लोकपाल की ताकत नहीं । इस जीव को पनाह दे । तब इसे महा रौरव नरक में फ़ेंक दिया जाता है । वहाँ से अनन्त समय के बाद ये पहले जङ जीव वृक्ष पहाङ । फ़िर नीच योनियाँ । फ़िर नीच मनुष्य । फ़िर उच्च मनुष्य । फ़िर राक्षस । फ़िर यक्ष गंधर्व देव आदि योनियों को पार करके । फ़िर 84 । फ़िर मनुष्य । तब इसका शुद्धिकरण होकर  यदि भक्ति में प्रवृत हुआ । तब मोक्ष का अवसर बनता है ।
आपको परमात्मा की भक्ति के इस परिणाम पर आश्चर्य हो रहा होगा । तब कबीर आदि आत्म ज्ञानी सन्तों को पढें । शास्त्रों को पढें । कोई पुलिस कमाण्डों का अध्ययन प्रशिक्षण ले चुका इंसान यदि अपनी भावना से आतंकवादी बने । या मानवता के विरुद्ध कार्य करें । तो उसकी उपलब्धियाँ भी उसे दण्डनीय बना देती हैं । अतः मैंने कहा । कुल MATTER से क्या बन रहा है ? इसे ठीक से समझें ।
हँस योग में कुछ नहीं करना । गुरु आपकी स्वांसों में गूँजते नाम को जागृत करके बृ्ह्माण्डी लाक नामदान के समय ही खोल देते हैं । आपको सांसो के आवागमन को पूर्ण एकाग्रता से आँखें बन्द कर देखते रहना । सुनते रहना है । यदि सही क्रिया सीख गये । तो दस मिनट में आप इस दुनियाँ से उस दुनियाँ में पहुँच जाते हैं । यह दीक्षा अखिल सृष्टि का परमिट लायसेंस होता है । आप कहीं भी जाईये । आपको पूरा सम्मान और मान्यता दी जाती है । आज इतना ही । फ़िर मिलते हैं । TA,TA

18 अप्रैल 2012

राजीव की रहस्यमय दुनियाँ

इससे पहले की कथा सुननी है । तो इससे पहले का लेख - इस दुनियाँ में इससे आनन्दित कुछ नहीं । पढें ।
...यहाँ भी बात वही है । आपकी पात्रता । और आपके गुरु की स्थिति । पर ज्यादातर साधक यहाँ डर ही जाते हैं । क्योंकि तांत्रिक बङे खतरनाक होते हैं । यहाँ आपको गन्दे स्थान और अजीव से सामान सजाबट अधिक देखने को मिलेगी । यहाँ भी अमीरी गरीबी देखने को मिलेगी । विभिन्न जगह तंत्र क्रियाओं का अनुष्ठान भी होता मिलेगा । तांत्रिक आपको कैद करने के लिये कई प्रयास भी करेंगे । बात वहीं बार बार आयेगी । गुरु की पोजीशन क्या है ?
मैंने खास तांत्रिक लोकों को बहुत घूमा है । क्योंकि मैं स्पष्ट कर दूँ । इससे पूर्व ( जन्म ) की मेरी योग यात्रा में तांत्रिक रुझान खासा था । यहाँ जाने का सीधा मतलब है - पंगा । अपने आपको सिद्ध करो । जैसा कि किसी कट्टर तालिबानी इलाके में अकेले फ़ँस गये हों । ये लोग आक्रमण के लिये तलवारें कुल्हाङी आदि भी रखते हैं । पर साधक घबरायें न । वे आपका कुछ नहीं बिगाङ सकते । दरअसल योग की ये खासियत है कि साधारण साधक जिस भी लोक में जायेगा । उसी लोक अनुसार उसका सूक्ष्म शरीर हो जायेगा । और तब वे आपको अपरिचित समझते हैं । और आपको उस सब घनचक्कर के बारे में 


कुछ पता नहीं होता । इसलिये साधक अक्सर घबरा जाते हैं । अगर वे आप पर किसी प्रकार का घात करेंगे भी । ठीक उसी समय ध्यान भंग हो जायेगा । लेकिन हठ योग वाले बिना गुरु वाले उनकी पकङ में आ जाते हैं । और कैद हो जाते हैं । इन्हीं लोगों की उसी समय या कुछ बाद में मृत्यु हो जाती है ।
अलबत्ता तांत्रिक स्त्रियाँ अलग प्रकार की होती हैं । अगर आप भाग्यवश ऐसे किसी स्थान पर पहुँच गये कि सीधे ही कोई तांत्रिक स्त्री आपको मिल गयी । तो वो सिर्फ़ एक ही काम में अधिक इंट्रेस्टिंड होगी । आपसे SEX करने को । अक्सर उनके कमरों में रहस्यमय लाल मद्धिम प्रकाश और किसी जङी के धुँयें की लगभग बदबू सी खुशबू अवश्य ही मिलती है । ऐसे अंतर्लोकों में औपचारिकता का कोई झंझट नहीं होता । कोई दुआ सलाम नहीं । कोई बहन जी भाभी जी नहीं । बस गिराओ । और शुरू हो जाओ । इसका एक और भी रहस्य होता है । एक समर्थ गुरु दो कारणों से यहाँ अंधेरा करके इस स्थिति को बिना दिखाये ही जल्दी से 

क्योंकि ये क्रिया स्त्री पुरुष दोनों साधकों के साथ ही लगभग निश्चित होती है । हरेक जीव का किसी न किसी स्तर पर पूर्व ( या जन्म ) में तंत्र से जुङाव रहता ही है । तो वो उनके जमा कारण संस्कार भी कटते हैं ।


निकाल देता है । 1 साधक को SEX में रुचि होने जाने के कारण उसका ध्यान वहाँ अटक सकता है । और योग रुक जायेगा । क्योंकि वो सोचेगा । फ़िर वो ही करूँ । पर वो कारण खत्म हो चुका होगा । 2 कोई अच्छे संस्कार का योग बिज्ञान से अपरिचित साधक सोच सकता है - ये कैसी भक्ति है ? कोई भृष्ट गुरु लगता है । क्योंकि इस स्थिति में लगभग 1 महीने तक निरन्तर कहीं न कहीं सम्भोग स्थिति बनती हैं । और प्रतिदिन ही वीर्य स्खलित होता है । आप समझ सकते हैं । तब अलग अलग दिमाग के इंसान पर विपरीत असर भी पङ सकता है । इसलिये हम ऐसे स्थानों पर अंधेरा कर देते हैं । और साधक को सिर्फ़ किसी कामुक सपने की अनुभूति होती है । योग में उसकी रुचि बनी रहे । एकाध बार झलक भी दिखा देते हैं । संस्कार बहुत मामूली होने पर फ़ास्ट फ़ारवर्ड की तरह उसे आगे बढा भी देते हैं । ये सब कुछ गुरु पर निर्भर करता है । पर इतना तय है । तांत्रिक लोकों में घूमना किसी रोमांचक भूतिया थ्रिलर एक्शन मूवी का अहसास कराता है । अच्छी तांत्रिक स्त्रियाँ मिल जायें । फ़िर तो कहने ही क्या हैं ? इसीलिये तमाम अज्ञानी साधक यहीं फ़ँस जाते हैं ।
यह अनुभव किसी जङ समाधि और कच्चे योग के समान होता है । इसमें शरीर पर नियंत्रण नहीं होता । और क्रिया पूरी हो जाने पर ही साधक आवेश से बाहर आता है । तब तक वह घबराये । या कुछ भी करे । एक तरह की तरंगों में कैद सा रहता है । आप समझ सकते हैं । अगर डूबने का डर लगा रहे । तो आदमी कभी तैरना नहीं सीख सकता । बच्चा भी चलना सीखने से पहले दस बार गिरता है । अतः किसी खतरनाक तिलिस्म की
कल्पना न कर लें । ये योग की साधारण और अनिवार्य घटनायें हैं ।
मैंने एक चीज और देखी है । योग में आंतरिक सेक्स के अनुभव होते ही स्त्री पुरुष बङी रुचि से योग अभ्यास करते हैं । और फ़िर बङे झिझकते हुये बताते हैं - ऐसा अनुभव होना कुछ गलत तो नहीं ?
- कुछ गलत नहीं । मैं जबाब देता हूँ - दरअसल अन्दर जो भी प्रत्यक्ष होगा । वो तुम्ही हो । तुम्हारी खुद की ही पूर्व वासनायें हैं । क्योंकि सब कुछ तुम्हारे अन्दर ही तो घट रहा है ।
वास्तव में यही वो मुख्य कारण हैं । जिससे प्रत्येक साधक के योग अनुभवों में अंतर होता है । क्योंकि सभी की वासनायें अलग अलग ही होती हैं ।
चाहे तांत्रिक लोक हों । अन्य कोई भी लोक । या अदृश्य सत्ता के लिये कार्य करने वाले विभिन्न प्रशासनिक लोक । मैंने एक चीज वहाँ खास देखी । इस प्रथ्वी की तरह बेडौल शरीर के स्त्री पुरुष कहीं नहीं होते । और प्रायः मोटे या बहुत दुबले सूखे तो हरगिज नहीं होते । और ऐसा भी नहीं । सभी बहुत सुन्दर पुष्ट ही होते हों । अक्सर सामान्य शरीर सामान्य अंगों वाले स्त्री पुरुष होते हैं । हाँ काले  गोरे अवश्य होते हैं ।
इसका कारण यही है । यहाँ पहले के कर्म फ़ल के अनुसार आपको यह शरीर मिलता है । और मनुष्य शरीर कर्म प्रधान होने के कारण आप फ़िर से पतले को मोटा । मोटे को पतला । कुरूप को सुन्दर । और सुन्दर को कुरूप भी कर सकते हैं । सब कुछ आपके हाथ में हैं । जबकि वह सभी शरीर आपके संचित पुण्य पाप के आधार पर मिलते हैं । इसलिये स्थिर होते हैं । उसमें कोई बदलाव नहीं हो्ते ।
जिस प्रकार संसार के बाजार में । भीङ में कोई स्त्री पुरुष आपको बहुत आकर्षित करता है । कोई कम । और कोई सामान्य । और किसी की तरफ़ निगाह भी नहीं जाती । और किसी को देखने से ही घिन आती है । आपने कभी सोचा । ऐसा क्यों ? ANS - MATTER . जी हाँ ! आपके अन्दर के गुण । चरित्र । तेज । रूप । व्यक्तित्व । आभा आदि MATTER से आपका एक आकार बनता है । वह आकार कितना प्रभावशाली है ? बस वही आकर्षण के % का कारण होगा ।
ठीक यही बात आंतरिक लोकों में भी है । इसलिये - अंधेर नगरी चौपट राजा । टके सेर भाजी टके सेर खाजा ..वाला हिसाब मत सोच लेना कि जो भी जाता है । उसकी बल्ले बल्ले ही हो जाती है । यही अमीरी गरीबी । सुन्दर असुन्दर आदि सभी भेद भाव वहाँ भी है । आप सोच रहे होंगे । अन्दर पैसा शरीर तो जाता ही नहीं । फ़िर ?
जी नहीं ! आपका संचित पुण्य । तेज । चरित्र । भक्ति भाव । दृणता आदि सभी MATTER की आभा वहाँ आपको

अमीर या गरीब सुन्दर असुन्दर बनाती है । आपकी योग स्थिति वहाँ आपको पावर फ़ुल या कमजोर या सामान्य बनाती हैं । ये भी एक कारण हैं । जिससे साधकों के अनुभव में भारी भिन्नता होती है ।
नहीं फ़िर आप मुझसे शिकायत करो - राजीव जी ! तो कह रहे थे । अप्सरा - हाय हेंडसम बोलेगी । ये तो शटअप ब्लडी फ़ूल बोल रही है । और ये भी मत सोच लेना । आप वहाँ अन्दर चले गये । तो आपने कोई बहुत बङा तीर मार लिया । वहाँ आप जैसे पर्यटक लाखों की संख्या में 24 घण्टे अंतरिक्ष के विभिन्न स्थानों से आते रहते हैं । हालांकि इस सबको सही स्थिति में जानने समझने के लिये बहुत गहन अभ्यास की आवश्यकता है । ये सब विलक्षण अनुभव सिर्फ़ उन्हीं के हिस्से में आते हैं । योग ही जिनका  full time job है । मेरे जैसे । बीबी न बच्चे । बस पहनने को दो ही कच्छे ।


- इंटरवल ।

17 अप्रैल 2012

इस दुनियाँ में इससे ज्यादा आनन्दित कुछ नहीं

नमस्कार राजीव जी ! कैसे हैं आप ? मैं आपको बहुत ही दिनों बाद यह मेल कर रहा हूँ । कुछ दिनों से थोडा व्यस्त चल रहा था । इन्टरनेट पर काम नहीं कर पा रहा था । परन्तु मैं आपका ब्लॉग नियमित रूप से देखता रहता हूँ ।
मैंने एक वीडियो देखी । youtube पर देखी । आप भी ये  वीडियो देखना चाहें । तो कृपया इसी लाइन पर क्लिक करें
http://www.youtube.com/watch?v=L4thsq2m0ic
इस वीडियो को देखकर मैं बहुत ही आकर्षित हुआ । और मुझे लगा कि - अगर इस वीडियो को देखकर  इतना अच्छा फील कर रहा हूँ ।  तो अगर यह रियल में अनुभव करूँ । तो शायद इस दुनियाँ में इससे ज्यादा आनन्दित कुछ नहीं होगा ।
मैं आपसे यह जानना चाहता हूँ कि जो इस वीडियो में दिखाया गया हैं । वो क्या सच में होता है ? अगर यह सच में होता है । तो कृपया करके आप विस्तार से समझायें । मेरा कहने का मतलब हैं कि - अंतर की यात्रा के बारे में थोडा डिटेल में समझायें । यानि जब हम ध्यान में बैठते हैं । तो शुरू से अंत तक क्या क्या होता है ?

अगर आपने अपने  ब्लॉग में पहले से बताया हुआ है । तो मुझे कृपया उसका लिंक दे दीजिये । मुझे आपके उत्तर का इंतज़ार रहेगा ! कृपया उतर ब्लॉग में प्रकाशित करें । धन्यवाद ।  राज गुजरात से ।
****************
प्रिय राजीव जी ! नमस्कार ।
ये मौत की हंडिया दरअसल मैंने भी देखी है । अपने बचपन में । मैं 2 महीने की छुट्टियों में नानी के घर विष्णु गार्डन । दिल्ली में रहने गया था । वही एक दिन छत पर । मैंने शाम को सूरज ढलने के बाद । लेकिन कुछ प्रकाश अवश्य था । तब छत पर देखा था । इस हंडिया में छेद थे । जिससे आग नजर आ रही थी । और वो 


घूमती हुई एक दिशा की तरफ जा रही थी । तब मेरी उमृ शायद 7-8 साल की ही होगी । इस बारे में जब मैंने अपनी नानी को बताया । तो उन्होंने मुझे डाँटा । और कहा कि - मुझे उस तरफ नहीं देखना चाहिये । मैं इस बात को मानता हूँ । क्योंकि मैंने उसे देखा है । अशोक दिल्ली से ।
***************
- किसी भी ध्यान अवस्था या इस तरह के अलौकिक अनुभव मुख्यतः 3 प्रकार से होते हैं । ये तीनों वास्तव में हैं तो उसी supreme power से ही । पर कृमशः नीचे की स्थितियों में इनका तरीका बदल जाता है । जैसा कि आपने कहा - विस्तार से उत्तर दूँ । सच तो ये है कि अलौकिकता के किसी भी विषय पर मेरे जैसा इंसान यदि लिखेगा । तो पूरा एक मोटा ग्रन्थ ही लिख जायेगा । रामायण बाइबिल गुरु ग्रन्थ साहब और कुरआन आदि से भी बङा । इसलिये संक्षेप में सार सार और सूत्र कहकर उसकी थोङी सी व्याख्या ही हो पाती है ।
तो अगर यह रियल में अनुभव करूँ । तो शायद इस दुनियाँ में इससे ज्यादा आनन्दित कुछ नहीं होगा - अब मुझे वह बात तो याद नहीं आ रही । पर ऐसी ही - अगर या यदि ? आपने पहले भी लगा कर मुझे बर्रैया लगा दीं थी ।


तुलसी रामायण में ही लिखा है - नाम रूप दोऊ अकथ कहानी । समझत सुखद न जात बखानी ।
इसका मतलब समझाऊँ आपको - परमात्मा का वह आकाश महा आकाश में स्वतः और निरन्तर झंकृत होता नाम । जिसे कृमशः नीचे मनुष्य से 1 सोहं ( स्वांस या चेतन धारा । अन्दर देखना । दुनियाँ के परदे से अतिरिक्त भी अदृश्य को देखना  ) 2 निरंकार ( आकाशीय स्थिति का आनन्द । पक्षी की तरह उङना ) 3 रंरकार ( चेतन शक्ति और माया । यानी प्रकृति के विभिन्न खेल देखना । साक्षी होना ) 4 बृह्माण्ड की चोटी ( सुन्न घाटी । महासुन्न मैदान आदि के रोमांचक अनुभव ) 5 सचखण्ड ( अनुपम दिव्य सुगन्ध । और विभिन्न आत्मिक अनुभव । आत्मिक शब्द पर गौर करें । 


इससे नीचे के अनुभव जीव आत्मिक थे ) 6 फ़िर इससे ऊपर बहुत सी आनन्ददायी स्थितियाँ हैं । इनके बीच में भी बहुत सी स्थितियाँ हैं । जो छोटे लेख में बताना संभव नहीं ।
तो ये था । निर्वाणी अजपा आकाशीय नाम का कमाल । जो दोहे में कहा गया है । अब जैसा कि नानक कबीर आदि ने कहा है - शब्द ई धरती शब्द अकाशा । शब्द इ शब्द हुआ प्रकाशा । यानी इसी शब्द की सत्ता से इस सारी रचना का निर्माण हुआ है । नानक ने कहा है - बोदा नशा शराब का उतर जाये परभात । नाम खुमारी नानका चढी रहे दिन रात । मतलब ये सहज योग है । सहज समाधि । एक बार मिल जाने पर ये खुद ब खुद अक्सर होती ही रहती है । पहले तो आवै नहीं । और आवै तो जावै नहीं । बस ये सहज समाधि आती जरा देर से । और प्रयास से

है ।
अब नाम की बात मैंने स्पष्ट कर दी । अब रूप ? की बात समझें । नाम की जिस स्थिति में साधक की पहुँच हो गयी । वहाँ का रूप ( स्थिति ) उसे दर्शनीय होगा । लेकिन तुलसी कहते हैं - ये अकथ ( यानी कही न जा सके ) स्थिति है । इसलिये समझने में सुखद है । बखान करना बङा मुश्किल है । इस स्थिति को राजीव बाबा ने ऐसे कहा है - रूप तेरा मस्ताना । प्यार मेरा दीवाना । भूल कोई हमसे ना हो जाये ।
दरअसल प्रत्येक साधक की इस अगम अपार में इतनी स्थितियाँ बनती हैं कि - वर्णन करना मुश्किल है । दूसरे एक महत्वपूर्ण बात और भी है । सन्तों ने जान बूझ कर भी अधिक वर्णन नहीं किया है । क्योंकि तब साधक के मन में धारणा बन जायेगी । अब ऐसा ही मेरे साथ भी होगा । इससे उसके योग में प्रगति के बजाय बाधा अधिक आयेगी । क्योंकि हो सकता है । उसके संस्कार अधिक निर्मल और भक्तिमय हों । तब वह किसी स्थिति को राकेट की भांति सूँऽऽऽऽ करता हुआ पार हो सकता है । इसलिये सन्त धारणा बनाने से बचे हैं ।
अब आईये । फ़िर ऊपर की बात पर आते हैं । 1 विभिन्न मंत्र साधक मंत्र जप आदि में आवेश के बाद ऐसी किसी भी स्थिति का अनुभव करते हैं । वह अधिक स्थूल और कच्ची स्थिति कच्चा ज्ञान माना जाता है । इसमें शरीर में कंपन । शरीर में वेग से धारायें सी दौङना । कोई गोली कंचा टायप का बाडी में घूमते हुये अनुभव होना । भौंहों में अंटा लगा सा महसूस होना । भूत प्रेत जिन्न चुङैल डाकिनी शाकिनी कर्ण 


पिशाचिनी वेताल या तांत्रिक मांत्रिक लोगों का दिखाई देना आदि आदि कुछ भी हो सकता है । इसके पीछे बिज्ञान यह होगा । उस अनुष्ठान के दौरान साधक का क्या matter बना । तब पर्यावरण क्या था ? यानी आपने जगह बाँधी । कोई सेफ़्टी की या नहीं ? क्रिया विधिवत वेद या शास्त्रोक्त ढंग से की । या मनमाने तरीके से । या फ़िर उल्लू के ठप्पे स्टायल में मूढता से । मंत्र और मिलती जुलती अन्य साधनायें लगभग ऐसे ही अनुभव देती हैं ।
2 कुण्डलिनी यानी मायावती भाभी के जलवे । वही मेरी अष्टांगी डार्लिंग का खेल । जादू । इसको दूसरे शब्दों में द्वैत योग ज्ञान भी कहते हैं । इसमें तो इतने लफ़ङे हैं । घनचक्कर हैं कि आदमी पागल ही हो जाता है । संसार में जितने भी बाबा दिखते हैं । इसी का झाङन पोंछन करके हुआ फ़ेंकन समेटते रहते हैं ।

और वो भी आम लोगों के लिये बङा दैवीय बङा चमत्कारी होता है ।
लेकिन इसके बङे स्तर के योगी गम्भीर होते हैं । आम पब्लिक के सम्पर्क में नहीं आते । गिने चुने शिष्य होते हैं । जिनसे कङा बरताव और कङे अनुशासन का व्यवहार किया जाता है । इसके सबसे टाप मास्टर श्रीकृष्ण बाबा । और फ़िर नीचे बहुत से गोरख । मंछदर । सौभरि । तैलंग आदि आदि कोई गिनती ही नहीं है ।
3 सबसे टाप यानी supreme power यानी अद्वैत । इससे  तो मेरा पूरे ब्लाग ही भरे पङे है । इसलिये आईये । आपके मूल प्रश्न पर बात करते हैं ।
अगर आप ओशो बाबा के सतसंग के शौकीन हैं । तो कृपया इस लाइन पर क्लिक करें ।
http://oshosatsang.org/
अब अगर मैं अपने स्तर से बात करूँ । तो यही कहूँगा - OH GOD ! ऐसा किसी के साथ न हो । क्योंकि द्वैत और अद्वैत का संगम बहुत ही विलक्षण केसों में हो पाता है । और इसमें बहुत डरावनी स्थितियाँ बन जाती हैं । लेकिन यदि साधक इनको झेलता हुआ जीवित बच गया । तो फ़िर वह बहुत मजबूत भी हो जाता है । इसलिये प्रायः मेरी जैसी स्थितियाँ बहुत कम नगण्य देखने में आती हैं । अधिकांश लोगों की मौत हो जाती है ।
प्रायः सभी का ध्यान किसी एक तरीके से शुरू नहीं होता । शुरूआत बङी कठिन और उबाऊ होती है । कभी बहुत 


देर बैठने पर कुछ सेकेण्ड के लिये दूधिया प्रकाश दीख गया । कभी कभी निचले आसमान दिख गये । और इनके साथ ही सबसे प्रारम्भ की गन्दी सी लोकेशन वाली पहाङी । उस पर मंडराते चील कौवे जैसे पक्षी अक्सर दिखते हैं । ये ठीक वैसा ही दृश्य होता है । जैसे शहर से बाहर कोई गन्दे नाले के पास पहाङी वगैरह देख रहे हों । इसी स्थिति में कभी कभी गुरु का प्रकार दूसरा होने पर ये न दिख कर एक प्रकाश shade fade जैसी स्थिति में उसी प्रकाश के मध्य विभिन्न फ़ूल पत्ती दिखते हैं । ध्यान रहे । ऐसे अनुभव होने पर समझ लें । आपका गुरु अधिकतम त्राटक स्तर का है । और ज्ञान बिलकुल  A B C D स्तर का है । अगर इतना भी नहीं होता । तो वो गुरु है । या कचरे का डिब्बा ? आप खुद ही समझ लेना ।
इससे कुछ बङे स्तर के गुरु होने पर ये सब झंझट नहीं होगा । आप लगभग सीधे ही पहले आसमान में होंगे । सच्चे गुरु का प्रमाण पत्र रूपी दीक्षा ( जो अदृश्य मोहर के रूप में लगी होती हैं ) आपके पास होगी । और आपको सुन्दर भूमियाँ अपने संयम ( यानी ध्यान में न चौंकना । और निष्क्रिय से शान्त रहना ) अनुसार समय तक देखने को मिलेंगी । यहीं से अन्दर की रामलीला शुरू हो जाती है । यानी ज्यादातर बहुत छोटे स्तर के दिव्य लोग मिलना शुरू हो जाते हैं । रामलीला मैंने इसलिये कहा । क्योंकि उनके सिल्की टायप आरेंज कलर के वस्त्र लगभग उसी तरह के होते हैं । जैसे धार्मिक सीरियलों में वस्त्र

होते हैं । बहुत से पागल इन्हीं को - प्रभु प्रभु ! कह कर हाथ पांव जोङने लगते हैं । जबकि ये अंतर लोकों की पब्लिक जैसे होते हैं । यहाँ बेहद निम्न स्तर की दिव्य युवतियाँ भी मिलती हैं । जो साधारण स्तर के साधकों में कोई रुचि नहीं लेती ।
लेकिन आपका स्टेयरिंग भावना भाव अनुसार थोङा दाँये बाँये घूम गया । तो आपकी गाङी तांत्रिक लोकों प्रेत लोकों अंधेरे लोकों में भी जा सकती हैं । इनमें तांत्रिक लोक अपने नाम के अनुसार ही रहस्यमय विचित्र बनाबट के और खतरनाक लोगों से भरे होते हैं ।
- क्योंकि पेज बङा हो रहा है । आगे का विवरण इसी लेख के दूसरे भाग में । 

16 अप्रैल 2012

hallo scientist

कभी कभी जब भारतीय लोग मुझसे पूछते हैं - भूत प्रेत होते हैं ? तब मैं बङा आश्चर्य में पङ जाता हूँ । लेकिन उससे भी ज्यादा आश्चर्य  तब होता है । जब बहुत लोग पूरे confidence से कहते हैं - अरे ! भूत प्रेत जैसा कुछ नहीं होता । सब बकबास । लगभग बहुत सी बातों में भारतीयों का ये confidence मुझे हैरान करता है । चाहे उस विषय की A B C D न मालूम हो । पर किसी भी विषय पर पूरे confidence से ही बात करते हैं । मानों Ph.D कर रखी हो ।
खैर..छोङिये । मैं एक बात सोच रहा था । इस तरह की उत्सुकता के मामले में अमेरिका यूरोप आदि देशों का नजरिया हमसे आगे हैं । लेकिन बस उनको एक बात की सनक ज्यादा सवार है । जो भी चीज देखेंगे । science के दृष्टिकोण से ही  देखेंगे । वही भौतिक बिज्ञान ।.. आध्यात्म बिज्ञान या योग बिज्ञान जैसी कोई चीज होती भी है । शायद वे सोच नहीं पाते । शायद जान नहीं पाते । लेकिन मैं उनकी गलती भी नहीं मानता । जब भी वेद उपनिषद आदि भारतीय धर्म ग्रन्थों में वर्णित perfect yoga science के प्रति आकर्षित होकर वे इसकी खोज में भारत आये । हरिद्वार बनारस आदि जैसे किसी स्थान पर लंगोटा बाबाओं से टकरा गये । और लगभग खाली हाथ लौटे । कुछ भटकते  भटकते मथुरा वृंदावन जैसे स्थानों पर पहुँच गये । और हरे रामा हरे कृष्णा की बीन बजाने लगे । असली बात ही भूल गये ? हम क्यों आये थे । फ़िर भी yes i repeat फ़िर भी अलौकिकता को जानने के मामले में उनकी उत्सुकता लगन और परिश्रम सराहनीय है । मंगल चाँद पर जाने की कल्पना ।

वहाँ पर बसने की कल्पना । और उसके प्रयास लगभग सभी जानते हैं ।
लेकिन अफ़सोस इस बात का भी है कि - उनके ये सपने कभी सच नहीं होंगे । दरअसल उनकी theory वास्तविकता से एकदम भिन्न है । अब चाँद को लीजिये । वे वहाँ पानी जीवन रहने आदि के अवसर तलाशते हुये खोज रहे हैं । जबकि सब कुछ खोजा हुआ तैयार रखा है । भारतीय धर्म ग्रन्थों में । चाँद । एक पुरुष । उसकी पत्नियाँ । उसका परिवार । उसके अन्य सम्बन्ध । सभी कुछ फ़ुल डिटेल में । पूरा विवरण विस्तार से मौजूद है । कुछ भी नहीं खोजना । हाँ चाँद पर जीवन भी है । पानी भी है । सब कुछ है । पर वह सूक्ष्म जीवन है । micro life । अदृश्य । यही बात सूर्य पर । मंगल पर । अन्य पर । और सबसे बङी बात - प्रथ्वी पर भी लागू होती है । जी हाँ । इसे सिर्फ़ मिट्टी जल गैसों आदि का एक बङा गोला पिण्ड न समझें । ये बाकायदा स्त्री रूप देवी भी है ।
फ़िर पहले वाली बात करते हैं । दरअसल MODERN SCIENCE में जो भी प्रयोग और विकास आप देखते हो । मेरा मतलब । अंतरिक्ष और अलौकिकता को जानने के सम्बन्ध में । यह सब भी ईश्वरीय सत्ता की मर्जी से ही होता है । अब पूछिये । इसके फ़ायदे क्या हैं ? जब वो सफ़ल ही नहीं होगा ।

इससे आप प्रथ्वी और प्रकृति के बहुत से रहस्य कृमशः जानने लगते हो । उदाहरण देखें । भले ही NASA की  दूरबीन अंतरिक्ष में राजीब बाबा को नहीं देख पायी । पर उसी technique से कृतिम उपग्रहों पर लगे कैमरों आदि से प्रथ्वी पर क्या क्या  सुविधायें उपलब्ध हुयीं । भले ही कोई राकेट किसी एलियन को बैठाकर आज तक नहीं लौटा । पर राकेट की तकनीक ने वैमानिकी आदि की प्रगति में क्या क्या योगदान दिया । दूसरे परमाणु आदि अन्य कार्यकृमों से कम खर्च में जीवन की अन्य दूसरी सुविधाओं में भारी बढोत्तरी हुयी । यूँ कह सकते हैं । किसी दूसरे उद्देश्य को लेकर किया गया कार्य दूसरी जगह के लिये सफ़ल हो गया ।
यूँ तो दुनियाँ में गजल गो बहुत हैं । पर गालिब का अंदाज ए बयां कुछ और ही है की तर्ज पर मैं अक्सर एक बात

सोचता हूँ । जो कि सुरति शब्द बिज्ञान के अनुसार मुझे असमंजस में डालती है । क्योंकि फ़िर जो बात होनी चाहिये । वो क्यों नहीं होती ? इन लोगों के साथ । दरअसल जब भी कोई इंसान बहुत गहरायी से किसी चीज पर सोचता है । तो उसकी सुरति उधर ही जाने लगती है । और तब उसके रहस्य प्रकट होने लगते हैं । उधर की यात्रा अनजाने में ही आरम्भ हो जाती है । इस बात का कोई मतलब निकालने से पहले बैज्ञानिकों की गहन सोच । या अंग्रेजों आदि की तीवृ उत्सुकता को ध्यान में रखना । मेरा मतलब उतना ‍% होने पर ।
और मैंने इसका उत्तर भी तलाश कर लिया । ऐसा क्यों नहीं होता ? सर्वप्रथम - माँसाहारी होना । जीव हत्या में प्रवृति । क्योंकि इससे तमोगुण की वृद्धि होती है । 


जो आत्म उत्थान की बजाय । आत्म पतन करता है । दूसरे भौतिकवाद पर अधिक विश्वास होना । जो हो । सो प्रत्यक्ष ही होना चाहिये । तीसरे सब कुछ बाहर ही खोजने की सनक । अन्दर की सोचते तक नहीं । खोज के ही मानेंगे । आदि आदि ऐसे कारण हैं । जो खुद उनके लिये रुकावट बन जाते हैं । वरना निश्चय ही वे अन्दर की तरफ़ जाने लगें ।
अब थोङा भारतीय लोगों की इस मामले में पात्रता पर बात करें । इनकी समृद्ध परम्परा इनका समृद्ध आध्यात्म बिज्ञान इनके पूर्वज आदि सभी कुछ इस बात को निश्चित कर देते हैं । मृत्यु क्के बाद फ़िर जीवन । आत्मा । ईश्वर । स्वर्ग । नरक । कर्म योग । भक्ति योग आदि सब कुछ  सिद्ध है । बल्कि वो कैसे है ? इसकी स्पष्ट theory भी लिखी मौजूद है । फ़िर भी इनके कान पर जूँ तक नहीं रेंगती । श्रीमान ! मैं उसी उत्सुकता के बिन्दु पर बात कर रहा हूँ । पश्चिमी देशों के पास ऐसा सोचने ऐसी भावना का कोई ठोस आधार नहीं हैं ।  ये उनकी परम्परा भी नहीं है । ये उनकी संस्कृति भी नहीं 


है । पर हम तो जीवन की पहली सांस भी भक्ति के पर्यावरण में लेते हैं । आप समझ रहे हैं ना । फ़िर तुलनात्मक हममें वह उत्सुकता क्यों नहीं ? जबकि मजे की बात है । परलोक के लिये हमारी सारी ही कोशिशें स्वर्ग प्राप्त करने की होती हैं । और हम इसके प्रति इतने आश्वस्त भी हैं कि - अपने किसी के भी मर जाने पर उसे सीधा स्वर्ग ही भेज देते हैं । शोक सन्देश में - स्वर्गवासी हुये । अखबार उठावनी में - स्वर्गवासी हुये । पहले तो यही समझ में नहीं आता । जब दुनियाँ की कांय कलेश से निकल कर आदमी स्वर्गवासी  हो गया । तो ये शोक सन्देश हुआ । या हर्ष सन्देश हुआ । बहुत खुशी की बात हुयी ना ? ना ?? हाँ ! शोक सन्देश ये यूँ हो सकता है । हम जाने कब मरेंगे ? जब हम भी स्वर्गवासी होंगे ? सोचिये क्या होना चाहते हैं आप - स्वर्गवासी ? या वाकई confidence है - ताऊ स्वर्ग ही गयो ।

खैर..छोङिये । भारत महान की महानता कम शब्दों में बताना संभव नहीं है । इसलिये फ़िर बात अंग्रेजों की ही करते हैं । इसलिये देखिये । कुछ अंग्रेज विद्वानों की मान्यतायें ।


- हम अपने दिमाग का 1% से भी बहुत कम उपयोग कर पाते हैं । इसको सरलता से समझने में यूँ भी कह सकते हैं । हमारी पहुँच दिमाग के बहुत ( बहुत ही कम ) कम भाग में है । यदि हम पूरे दिमाग का उपयोग कर पायें । तो बहुत से रहस्य जान सकते हैं ।
- हम दिमाग के सिर्फ़ बायें हिस्से का ही उपयोग करते हैं । जबकि दाँयें हिस्से में अपार संभावनायें छुपी हुयी  हैं । विलक्षण प्रतिभाशाली लोगों के दिमाग का दाँया भाग सक्रिय पाया गया ।
- बैज्ञानिकों ने डिजटिल (  ध्वनि रूप । लय में । निरन्तर बजने वाली काफ़ी समय की आडियो फ़ाइल ) ॐ..ऽऽ ॐ..ऽऽ को अपनी क्षमता अनुसार अंतरिक्ष में विभिन्न तरीकों से प्रक्षेपित किया है । स्थापित किया है । ( अज्ञात अनजान सभ्यताओं के लिये ) सन्देश रूप में भेजा है । ताकि कभी किसी को प्राप्त हो । तो वो हमसे सम्पर्क करें । क्या आपको पता है ? वर्षों से ऐसे कई अंतरिक्ष केन्द्र प्रतीक्षारत है कि प्रथ्वी से इतर किसी सभ्यता किसी जीवन से कोई सम्पर्क हो । सन्देश मिले ।
- संक्षेप में और भी तरह के अंतरिक्ष यान इस प्रकार के विभिन्न खोजी अभियानों पर लगे हुये हैं । अक्सर जाते ही रहते हैं ।
अब देखिये । मैं बताता हूँ कि - ये समस्त अभियान अपने असल उद्देश्यों में क्यों नहीं सफ़ल होंगे ।


दिमाग - सरलता से समझें । हमें ये लगता ही है कि दिमाग हम नियंत्रित कर रहे हैं । वास्तव में जीव ( सामान्य मनुष्य ) अवस्था में दिमाग ही हमें नियंत्रित कर रहा है । इसलिये ये बात ही लगभग उलटी हो जाती है कि हम दिमाग के बहुत कम हिस्से में जा पाते हैं । वास्तव में हमें वहाँ से command मिलती है । और हम विभिन्न कार्य करते हैं । मनुष्य की गति अधोगति ( नीचे की ओर ) है । और दिमाग में जाने के लिये ऊर्ध्वगति ( ऊपर की ओर ) होना आवश्यक है । ये सिर्फ़ योग और ध्यान की क्रिया से संभव है । जबकि आप उसमें पारंगत भी हों ।
- एक और भी दिक्कत है । जीव ( मनुष्य ) के विचरण के लिये इस बाडी में बहुत थोङा परिपथ circuit ही खोला गया है । बाकी सभी लाक्ड है । इसलिये आप आँखों से ( भौंहों से नीचे ) से लेकर नाभि तक के गिने चुने स्थानों पर ही आते जाते हो । कहाँ - गले में । ह्रदय में । और नाभि में । इसी भाग को पिण्ड कहते हैं । लिंग योनि क्षेत्र । और कमर से पैरों के प्रारम्भ होने से लेकर नीचे पैर की उँगलियों तक भी आपकी पहुँच नहीं । आँखों से ऊपर भी आपकी कोई पहुँच नहीं । मेरा मतलब आप वहाँ सिर्फ़ देख सकते हैं । जा नहीं सकते ।  समझें । हम आसमान को देख तो सकते हैं । पर बिना साधन उपाय जा नहीं सकते । जबकि प्रथ्वी पर हम कहीं भी बिना अतिरिक्त उपाय जा सकते हैं । क्योंकि वो हमारी पहुँच में है । उतना मनुष्य के लिये तय भी है इसलिये । तो जब आँखों से ऊपर का हिस्सा लाक्ड ( भौंहों के मध्य । बृह्माण्डी द्वार ) ही है । तो जाने का कोई सवाल ही नहीं । और यही पर 3rd EYE भी है । क्योंकि ऊपर  3rd EYE और 3rd ear ही काम आता है ।


ॐ ध्वनि भेजने की बात - इस पर तो मुझे बहुत ही हँसी आती है । दरअसल इलावृत ( प्रथ्वी ) के बैज्ञानिक नहीं जानते । अंतरिक्ष में कई स्थानों पर ऐसे zone हैं । जहाँ ॐ सोहं जैसे बीज मंत्र स्वयं ही गूंज रहे हैं । बहुत सी ध्वनियाँ । कल्पनातीत । अब यहाँ एक मजे की बात । point की बात देखें । आपने कभी सोचा है कि हम जो बातचीत करते हैं । विभिन्न अन्य loud ध्वनियाँ तरह तरह से करते हैं । ये आखिर कहाँ जाती हैं । कहाँ विलीन होती हैं । नष्ट कैसे होती हैं ? अगर ये सब वातावरण में ही फ़ैली रहती । तो जीवन एक दिन चलना मुश्किल हो जाता ना ? इनकी दो गतियाँ हैं । विभिन्न इच्छित मनुष्य अंतकरणों में record हो जाना । और बाह्य रूप से ये सब आकाश ( फ़िर आगे महा आकाश आदि ) में जाती हैं । वहाँ जिस शब्द की गूँज ( vibration ) से ये सब उत्पन्न हो रही हैं । उसी में नष्ट हो जाती हैं । तो ऐसे ॐ ..गणपत बाप्पा मोरया । झूलेलाल का वहाँ क्या मतलब हुआ ?
अब चलिये मान लेते हैं । आपके द्वारा भेजी वह ध्वनि क्योंकि निरन्तर हो रही है । इसलिये बीच में कोई catch कर ले । पर वो कोई कौन ? मैंने पहले ही बताया । आपकी जितनी फ़्लायटें उङती हैं । उससे हजारों गुना लाखों गुना विकसित बिज्ञान के विमान अंतरिक्ष में निरन्तर उङते ही रहते हैं । वे आपके ॐ को  सुनकर क्या करेंगे ? भेजते तो शकीरा बेबी का न्यू सोंग भेजते । दूसरे वे आपसे क्या सम्पर्क करेंगे । जबकि हमेशा से उनकी पचासों फ़्लायट रोज ही earth पर लैंडिंग करती हैं । अपने विभिन्न कार्यों से । आपसे भी सम्पर्क करते हैं । ऐसी बात नहीं । पर तब । जब उसके बाद आप किसी को बता ही नहीं पाते - चल भाई ! बहुत हुआ । बहुत मस्ती कर ली । अब तेरा खेल खत्म । लो जी हो गया सम्पर्क । अब अनुमान लगाना

। कितने लोगों का रोज ही सम्पर्क होता होगा ? है कोई आयडिया ?
हाँ ! बैज्ञानिकों की एक बात तथ्य पर आधारित है । किसी दूसरी प्रथ्वी के लोग ? पर भईया ! ये दूसरी प्रथ्वी ( या प्रथ्वियाँ ) आपकी पहुँच से इतनी दूर हैं कि - न तो कभी आपका ॐ वहाँ जा पायेगा । और न ही कोई अंतरिक्ष यान । क्योंकि अंतरिक्ष के रास्तों के बीच बीच में black hole जैसे तमाम दुष्ट और तमाम अन्य स्थान ऐसे हैं । जो यान की ऊर्जा सोख लेंगे । खत्म कर देंगे । यान को ही नष्ट कर देंगे । क्योंकि यान धातुओं से ही तो बना है । और वे धातुओं को ही गलाने पर उतारू हैं । अब बोलो क्या करोगे ? बोलो बोलो ?
चलिये आपका यान किसी तरह इन सब बातों को चकमा देकर किसी  दूसरी प्रथ्वी तक पहुँच भी गया । तो क्या पता । वे भले आदमी अभी नंगे ही घूम रहे हों । मतलब वहाँ आदि मानव युग चल रहा हो । अब मैं आज एक बहुत महत्वपूर्ण बात बैज्ञानिकों को बताता हूँ । यदि वे समझ पायें तो ? इस अखिल सृष्टि का नक्शा । map । आपने डाक्टर की दुकान पर टंगा वो कलेंडर कभी  देखा है । जिसमें अन्दर से भी नंगे आदमी के उर्जे पुर्जे खास कर नसें नाङियाँ लाल और नीले कलर में दिखाई गई होती हैं । यहीं है - अखिल सृष्टि का नक्शा । जो नीली लाल नाङियाँ हैं । ठीक यही तो बृह्माण्डी रास्ते हैं । लेकिन उस पुराने कलेण्डर के जमाने गये । आजकल किसी जीवित आदमी को Magnetic resonance imaging ( M R I ) गुफ़ा में डाल दो । उससे भी अधिक स्पष्ट नक्शा विभिन्न एंगल से घुमा फ़िराकर 3D देखो ना ।


चलिये नक्शा जान गये । अब मैं आपको ये भी बता देता हूँ । आपका हवाई जहाज इस नक्शे में किस हवाई अड्डे से उङेगा ? आप मल और मूत्र ( नक्शे में देखें । या फ़िर अपनी बाडी में ही देख लें ) जहाँ से करते हैं । इन दोनों के बीच एक स्थान है । मल स्थान । विभिन्न नर्कों में जाने का द्वार है । बस इससे ठीक ऊपर लिंग योनि की ओर ( बीच में ) आपकी प्रथ्वी है । यहीं से आपका अंतरिक्ष यान उङता है । अब ले जाइय़े । किस ओर ले जाना है ?
- अगर आप फ़न्नी फ़ोटोज के शौकीन हैं । तो कृपया इसी लाइन पर क्लिक करें ।

13 अप्रैल 2012

सरगे जाओ चाहे नरके जाओ मोहि रुपैया देउ

तब राजीव जी ! आप ही बताओ । आज कलयुग में वो 12 पंथ और 4 वंश कौन से हैं ? जिनसे बच कर जीव सही गुरु का वरण करे । व मुक्ति पाये । लेख - काल पुरुष का अपने दूतों को चाल समझाना..पर इन्हीं की टिप्पणी ।
*********************
जाका गुरु है गिरही ।  गिरही चेला होय । कीच  कीच के धोवते ।  दाग न छूटे कोय ।
गुरु मिला तब जानिये ।  मिटे मोह तन ताप । हरष शोष व्यापे नहीं ।  तब गुरु आपे आप ।
बंधे को बंधा मिला ।  छूटे कौन उपाय । कर सेवा निरबन्ध की । पल में लेय छुड़ाय ।
गुरु कीजिए जानि के ।  पानी पीजै छानि । बिना विचारे गुरु करे ।  परे चौरासी खानि ।
जो गुरु ते भृम न मिटे ।  भ्रान्ति न जिसका जाय । सो गुरु झूठा जानिये ।  त्यागत देर न लाय ।

कबीर बेड़ा सार का ।  ऊपर लादा सार । पापी का पापी गुरु ।   यो बूडा संसार ।
गु अंधियारा जानिये । रु कहिये परकाश । मिटि अज्ञाने ज्ञान दे । गुरु नाम है तास ।
गुरुवा तो घर घर फिरे । दीक्षा हमरी लेउ । के बूडो के ऊबरो । टका परदानी देउ ।
गुरुवा तो सस्ता भया ।  कौड़ी अर्थ पचास । अपने तन की सुधि नहीं ।    शिष्य करन की आस ।
गुरुआ तो घर घर फ़िरें । कण्ठी माला लेय । सरगे जाओ चाहे नरके जाओ । मोहि रुपैया देउ ।
******************
मेरे बहुत से पाठक अक्सर अनुराग सागर पुस्तक की मुझसे माँग करते रहते हैं । अनुराग सागर के सभी महत्वपूर्ण लेख मेरे ब्लाग्स में प्रकाशित हैं ।  आप इसी लाइन पर क्लिक करके बहुत से लेख यहाँ देख सकते हैं । इसके अतिरिक्त भी बहुत से लेख प्रकाशित हैं ।
http://ohmygod-rajeev.blogspot.in/2011/06/blog-post_03.html?showComment=1334324141683#comment-c7800396346955755753
*********************
शुरू शुरू के कुछ 8-10 माह में 4 बजे उठ कर नहा धोकर ( सर्दी या गर्मी  ) सुमरन करता था ।

- कमाल है । कुछ कुछ हैरानी सी भी हुयी । एक हमारे साधक हैं । जिनको घर पर ही आसानी से अनुभव होने लगे । और जिनको आश्रम के कठिन नियमों जैसी पाबन्दी भी नहीं है । और फ़िर भी उनकी किन्तु परन्तु लेकिन वेकिन नहीं गयी । अक्सर कहते हैं - साधना के लिये उचित समय नहीं मिलता । हमारी बिजी लाइफ़ में कहाँ संभव हो पाता है । ठीक तरह से नियम अनुसार सुमरन करें । वे समझते हैं कि - सुमरन करके हम पर अहसान करते हैं । तब मैं कहता हूँ - भाङ में जाओ । GO TO HELL
आश्रम में हर 4 घंटे बाद 2 घंटे के लिए हम 4 लडकों को सुमरन ( मन से ) करना होता था । क्योंकि लडकों की संख्या समय को विभाजित करके 4 पर 2 घंटे सुमरन तय हुआ था ।
- वैसे एक हिसाब से यह सब ठीक है । अनुशासन । नियमित अभ्यास । यदि जिन्दगी में ढल जाये । तो स्वास्थय । चरित्र । आत्म उत्थान में बेहद सहायक होता है । लेकिन इसमें थोङा फ़र्क है । अक्सर आश्रम वाले ये सब दिखावे के लिये अधिक करते हैं । एक तरह से प्रचार के लिये । वहाँ आने जाने ठहरने वाले लोगों को दिखाने के लिये । इसलिये सारा मामला असली भक्ति का न होकर बनाबटी व्यवसायिक ही हो जाता है । क्या आपको पता है

? वृंदावन में भारत के अनेक स्थानों से आयी बूढी विधवा तलाकशुदा अनाथ बेसहारा औरतें सिर्फ़ 40 रु. रोज ( जब मैंने सुना था तब । करीब 5 साल पहले ) पर - हरे कृष्णा..कन्हैया आदि सुमरन ऊँचे स्वर में ( खास कर दिखावे के लिये ) करती है । अगर आप उनको सुमरन करता देखें । तो आपको लगेगा । ये किसी की मृत्यु पर विलाप कर रही हैं । ऐसे झुँझला कर हरे कृष्णा ..कन्हैया से बोर होती हुयी सी उसे रोती कोसती हैं । क्या लाभ ? ऐसी मूर्खता का ।
अभी तो कुछ समय बाकी है । 2 बजने में । तो वो बोला - अभी नहाना भी तो है ।
- मुझे फ़िर आश्चर्य है । आपकी लगन पर । काश भारत के मूर्ख लोग आपसे कुछ सबक लेते । जो सिर्फ़ 2000 में

भागवत कथा करा कर या हरिद्वार में गंगा नहा कर तरने के ख्वाव देखते हैं ।
नेट पर मुझे राधा स्वामी पंथ के गुरुओं की अंदरूनी कलह के बारे में पता चला । तो मैं भटक गया ।
- गद्दी परम्परा से बने गुरु गुरु नहीं होते । बल्कि उस बिजनेस को आगे बढाने वाले संचालक मैंनेजर होते हैं । एक धंधेबाज आम इंसान । क्योंकि उन्हें मुफ़्त की खाने को मिलती हैं । तो धन और अपनी प्रतिष्ठा बढाने के लिये वे ऐसा ही करते हैं । अज्ञानियों में कलह होना स्वाभाविक है । और भारत की भेङ जनता उनकी मनोकामना पूर्ण करने में अच्छा योगदान करती हैं ।
कई गुरु जो उसी समय साक्षात्कार का दावा करते थे । से मिला ।

- हाँ ! लेकिन ये साक्षात्कार की सही परिभाषा । सही अर्थ । सही मतलब नहीं बताते । या कहिये । खुद भी कहाँ जानते हैं ? विदेश में जाकर बस गया । भारत के एक प्रसिद्ध गुरु घराने का गुरु । सिर्फ़ आँखों के पीछे दिखने वाले दूधिया प्रकाश को ही साक्षात्कार कह कर पब्लिक को मूर्ख बना रहा है । आप मुझसे दीक्षा मत लो । मैं बिना गुरु बने ही आपको बता रहा हूँ । अपनी दोनों आँखों को उँगलियों से कुछ देर थोङा ताकत से दबायें रहें । आपको दूधिया प्रकाश नजर आने लगेगा । ये पाखण्डी आदमी सिर्फ़ इतनी ही बात से करोंङो में खेल रहा है । ये सभी भाई पूरा परिवार ही पब्लिक को खासा मूर्ख बना रहे हैं । बात वही हैं । भारत के इंसान.. सारी भेङें नहीं जानते । आत्म

ज्ञान की वंश परम्परा आज तक नहीं हुयी । न भविष्य में कभी होगी । भगवान किसी एक को ठेका नहीं दे देता । जाओ राज्य करो । ऐश करो । साक्षात्कार के नाम पर तरह तरह की बातें बताने वाले ज्यादातर शेखचिल्ली जैसी ऐसी ही कहानियाँ सुना रहे हैं ।
करोंदा । हरियाणा में कोई रामपाल जी महाराज हैं ? जो खुद को कबीर साहब का उत्तराधिकारी कहते है ?? व दावा करते है कि - इस समय धरती पर केवल उन्हीं के पास कबीर जी का असली ज्ञान है ?
- रामपाल ठीक कहता है । वो उत्तराधिकारी है । लेकिन कबीर ने जो बताया कि - उनके पंथ में कैसे काल दूत घुस आयेंगे । और लोगों को भृमित करेंगे । वो उन्हीं में से एक उत्तराधिकारी है । जो संयोगवश आप टिप्पणी में पूछ चुके । पर आपने शायद ध्यान नहीं 


दिया । कबीर ने अनुराग सागर में काल दूत का हुलिया भी बताया है । एक बार मिलान करे । खुद पता चल जायेगा । अगर उसमें ताकत है । तो मुझसे बात करे । मैं उसे बताऊँगा । कबीर ने क्या कहा । क्या नहीं कहा ?
पर वो टीवी पर एक रिकॉर्डिंग के द्वारा था । क्या ये मुमकिन है कि - कोई टीवी द्वारा ज्ञान दे ? 
- मुमकिन है । मगर सिर्फ़ पाखण्डियों के लिये । वे कुछ भी कर सकते हैं ।
और असल में उनके मंत्र में वे काल के मंत्र भी थे ??? जिनका वो सतसंग में विरोध करते हैं ?????
- वो जिसकी नौकरी करता है । उसी की तो बजायेगा । निर्वाणी मंत्र में 1 भी अक्षर नहीं है । ये स्वांस में ध्वनि रूप है । भले ही इसको ढाई अक्षर का ( है तो मगर ध्वनि रूप ) कबीर आदि ने बताया है

। पर ये ध्वनि रूप है । इसमें 1 भी अक्षर वाणी से नहीं बोलना होता । इसलिये इसे अजपा और निर्वाणी मंत्र कहा गया है । इसके अलावा वाणी से जाप करने को कोई गुरु 1 भी अक्षर का ह्यी क्लीं ॐ लं नं आदि जैसे बीज मंत्र भी देता है । निश्चय ही वो काल पुरुष का चमचा है । लेकिन ध्यान रहे । वो भी ( ऐसा हरेक गुरु ) अपने आपको सतगुरु ही कहता है । सतगुरु ?
कृपया बताये कि - अब क्या मार्ग है मेरे लिए ? कहीं ऐसा न हो कि मेरे मरने पर ये सारे गुरु आपस में लड़ मरे कि ये मेरा शिष्य है ? या फिर कोई आये ही न ? या फिर गधा घोडा बनना पड़े  ? 
- ये आयेंगे । तो तब । जब खुद इनका कोई ठिकाना होगा ? इनकी कुत्ता घसीटी तो खुद ही हो रही होगी । हो चुकी होगी । तब लङेंगे मरेंगे क्या । इसलिये आपने सही कहा । वे कहाँ से आ सकते हैं ? दरअसल गद्दी परम्परा के नकली गुरु पब्लिक को लम्बे समय से बेबकूफ़ बना रहे हैं । मरने के बाद गुरु क्या लेने आयेगा । जब वो जीते जी ही मुक्त कर देता है - जीयत मुक्त सो मुक्ता भाई । मर के मुक्ति किसने पायी ? किसने देखा  । क्या हुआ ? लौट कर किसने बताया । क्या हुआ ? मुक्ति जीते जी ही हो जाती है । शास्त्र का वचन देखें - फ़िर वह जीते जी बृह्म होकर बृह्म में ही विचरण करता है । इसको कहते हैं - असली मुक्ति ।

आगे और भी जुङेगा

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Follow by Email