17 अप्रैल 2011

आचार्य शंकर और मण्डन मिश्र के बीच शास्त्रार्थ 12

नारायण ! विश्वरूपाचार्य मण्डन मिश्र कहते हैं - हे यतिवर्य ! तब इस जैमिनि सूत्र  का क्या तात्पर्य है ? आम्नायस्य क्रियार्थत्वादादार्थक्यमतदर्थानाम । जैमिनि सूत्र 1/2/1 ( कर्म  का प्रतिपादन करने वाली श्रुतियाँ ही सार्थक है । जो वेद भाग यज्ञ आदि क्रिया के लिए नहीं है । वह निरर्थक है } इस सूत्र से स्पष्ट सिद्ध होता है कि सम्पूर्ण वेद साक्षात व परम्परा से कर्म का वर्णन करता है । न कि ब्रह्म का ।
सर्वज्ञ शंकर देशिकेन्द्र कहते हैं - श्रुति का तात्पर्य तो अद्वैत ब्रह्म के प्रतिपादन में ही है । परन्तु परम्परा से आत्मज्ञान उत्पन्न  करने वाले कर्मों में भी श्रुति का ध्यान है । इस  प्रकार यह सूत्र कर्म के प्रकरण में है ।  अतः उसका अर्थ कर्म परक मानना चाहिए । परन्तु ब्रह्म विद्या का प्रकरण तथा विषय इससे भिन्न है  । इसलिए इस सूत्र के अभिप्राय वेदान्त वाक्य  निरर्थक नहीं हो सकते ।
मण्डन कहते हैं -
ननु सच्चिदात्मपरताऽभिमता यदि कृत्स्नवेदनिचयस्य मुनेः ।
फलदातृतामपुरुषस्य वदन्त कथं निराह  परमेश्वरमपि । 
- जब समस्त वेद का सच्चिदानन्द ब्रह्म के  प्रतिपादन में तात्पर्य है । तब परमेश्वर से भिन्न  कर्म ही फलदाता है । इस सिद्धान्त का प्रतिपादन  मुनि ने ईश्वर का निराकरण कर कैसे किया ?
आचार्य शंकर भगवत्पाद कहते हैं -  हे विश्वरूप ! प्रत्येक कर्म किसी कर्ता द्वारा होता है । जगत्कार्यं ईश्वरकृतृ कं कार्यत्वात, यथा मकान किसी कारीगर से बनाया जाता है । तथा जगद रूप  कार्य भी किसी विशेष कर्ता द्वारा होना चाहिये ।  वह कर्ता सर्वज्ञ ईश्वर है । यह अनुमान आगम  वचनोँ के विना ईश्वर को सिद्ध करता है ।  श्रुतियाँ केवल अनुमान का अनुवाद मात्र करती है । यह वैशेषिकों  का मत है । परन्तु यह शुष्क  अनुमान ईश्वर सिद्धि में पर्याप्त नहीं है । { वेद  को न जानने वाला उस बृहद औपनिषद ब्रह्म  को नहीं जान सकता } यह श्रुति वचन ईश्वर को वेद  के न जानने वालों के लिए अगोचर सूचित करता है ।  ऐसी दशा में अनुमान ईश्वर को कैसे सिद्ध कर  सकता है ? इसी  भाव को अपने मन में रखकर  मुनि जैमिनि  ने ईश्वर परक अनुमान का तथा ईश्वर  से जगत के उदय उस्त आदि होते हैं । इन सब  वैशेषिक सिद्धान्तों का सैकड़ों अकाटय युक्तियों से  खण्डन किया है । आशय यह है कि जैमिनि मुनि श्रुति सिद्ध ईश्ष का अलाप खण्डन नहीं करते । किन्तु तार्किक सम्मत श्रुति हीन अनुमान  का ही खण्डन करते हैं । इसी तरह मेरी समझ में  उपनिषद रहस्य से जैमिनि का सिद्धान्त लेशमात्र  भी विरुद्ध नहीं है । जैमिनि के इस गूढाभिप्राय को न जानकर विद्वान लोग उन्हें अनीश्वरवादी बतलाते हैं ।
विश्वरूपाचार्य मण्डन कहते हैं -  क्या इतने से ही तत्त्व वेत्ताओं में श्रेष्ठ
मुनि निरीश्वरवादी सिद्ध हो सकते हैं ?  क्या कहीं पर भी उल्लू से कल्पित अन्धकार दिन में  सूर्य के प्रकाश को मलिन कर सकता है ? कभी नहीं ।
इसी प्रकार अविद्वानों से कल्पित मिथ्या दोष जैमिनि मुनि को अनीश्वरवादी नहीं बना सकता ।  इस प्रकार जैमिनि मुनि के अभिप्राय को यतिवर  शंकर स्वामी द्वारा स्पष्ट प्रतिपादित किये  जाने पर शारदा मण्डन मिश्र तथा सब सभासद  अति प्रसन्न हुए । परन्तु शंकर के कथन से  मीमांसा के आशय को समझ लेने पर भी मण्डन के मन में फिर भी कुछ संदेह बना रहा । क्योँकि उनकी लगभग सम्पूर्ण आयु इसी कार्य में  व्यतीत हुई थी । सहसा वे संस्कार कैसे दूर होते ?  निरुत्तर होने पर भी पूर्ण विश्वास नहीं हो रहा था । इसलिये मानसिक शंका को निवृत्त करने के लिए  मुनि के वचन ही उनके अभिप्राय को जानने के लिए  मण्डन मिश्र ने मुनि जैमिनि का स्मरण  किया । जिससे मुनि शीघ्र मण्डन मिश्र के समीप प्रकट हुए ।
मुनि जैमिनि कहते हैं -  सुनो हे सुमते ! भाष्यकार शंकर के वचनों में संदेह
मत कर । मेरे सूत्रों का जो अभिप्राय उन्होंने  कहा है । वह इससे भिन्न नहीं है । ये यतिराज केवल  मेरे ही अभिप्राय को नहीं जानते । बल्कि श्रुति और  समस्त शास्त्रों का अभिप्राय भी जानते हैं । भूत  भविष्यत तथा वर्तमान को जितना ये जानते हैं ।   उतना अन्य कोई भी नहीं जानता ।  मेरे गुरु वेद व्यास ने उपनिषद का तात्पर्य - चिद्रूप एक रस ब्रह्म में है । ऐसा निर्णय किया है । मैंने  उन्हीं से ज्ञान प्राप्त किया है । भला एक भी सूत्र  उनके इस सिद्धान्त के विपरीत मैं कैसे कह सकता हूँ ।
एक टिप्पणी भेजें

Follow by Email