01 जून 2011

4 खानि 84 लाख योनियों से आये मनुष्य के लक्षण

धर्मदास बोले - हे साहिब ! जिन चार खानों की उत्पत्ति हुयी । आप उनका वर्णन मुझे बतायें । 84 लाख योनियों की जो विकराल धारायें हैं । उनमें किस योनि का कितना विस्तार हुआ । वह भी बतायें ।
कबीर साहब बोले - हे धनी धर्मदास सुनो । मैं तुम्हें योनि भाव का वर्णन सुनाता हूँ ।
84 लाख योनियों में 9 लाख जल के जीव हैं । और 14 लाख पक्षी होते हैं । उङने रेंगने वाले कृमि कीट आदि 27 लाख होते हैं । वृक्ष बेल फ़ूल आदि स्थावर 30 लाख होते हैं । और 4 लाख प्रकार के मनुष्य हुये । इन सब योनियों में मनुष्य देह सबसे श्रेष्ठ है । क्योंकि इसी से मोक्ष को जाना समझा और प्राप्त किया जा सकता है ।
मनुष्य योनि के अतिरिक्त और किसी योनि में मोक्ष पद या परमात्मा का ग्यान नहीं होता । क्योंकि और योनि के जीव कर्म बँधन में भटकते रहते हैं ।
तब धर्मदास बोले - हे साहिब ! जब सभी योनियों के जीव एक समान हैं । तो फ़िर सभी जीवों को एक सा ग्यान क्यों नहीं है ?
कबीर साहिब बोले - हे धर्मदास ! सुनो । जीवों की इस असमानता की वजह तुम्हें समझाकर कहता हूँ । चार खानि के जीव एक समान हैं । परन्तु उनकी शरीर रचना में तत्व विशेष का अन्तर है । स्थावर खानि में सिर्फ़ एक ही तत्व होता है । ऊष्मज खानि में दो तत्व होते हैं । अण्डज खानि में तीन तत्व और पिण्डज खानि में चार तत्व होते हैं । इनसे अलग मनुष्य शरीर में 5 तत्व होते हैं ।
हे धर्मदास ! अब चार खानि का तत्व निर्णय भी जानों । अण्डज खानि में 3 तत्व - जल अग्नि और वायु हैं । स्थावर खानि में एक तत्व जल विशेष है । ऊष्मज खानि में दो तत्व वायु तथा अग्नि बराबर समझो । पिण्डज खानि में 4 तत्व अग्नि प्रथ्वी जल और वायु विशेष हैं । पिण्डज खानि में ही आने वाला मनुष्य - अग्नि वायु प्रथ्वी जल आकाश से बना है ।
तब धर्मदास बोले - हे बन्दीछोङ ! सदगुरु कबीर साहिब.. मनुष्य योनि में नर नारी तत्वों में एक समान हैं । परन्तु सबको एक समान ग्यान क्यों नहीं है । संतोष । क्षमा । दया । शील । आदि सदगुणों से कोई मनुष्य तो शून्य 0 होता है । तथा कोई इन गुणों से परिपूर्ण होता है । कोई मनुष्य पाप कर्म करने वाला अपराधी होता है । तो कोई विद्वान । कोई दूसरों को दुख देने वाले स्वभाव का होता है । तो कोई अति क्रोधी काल रूप होता है । कोई मनुष्य किसी जीव को मारकर उसका आहार करता है । तो कोई जीवों के प्रति दया भाव रखता है । कोई आध्यात्म की बात सुनकर सुख पाता है । तो कोई काल निरंजन के गुण गाता है । हे साहिब मनुष्यों में यह नाना गुण किस कारण से होते हैं ?
कबीर साहिब बोले - हे धर्मदास ! सुनो । मैं तुमसे मनुष्य योनि के नर नारी के गुण अवगुण को भली प्रकार से कहता हूँ । किस कारण से मनुष्य ग्यानी और अग्यानी भाव वाला होता है । वह पहचान सुनो ।
शेर । साँप । कुत्ता । गीदङ । सियार । कौवा । गिद्ध । सुअर । बिल्ली तथा इनके अलावा और भी अनेक जीव हैं । जो इनके समान हिंसक । पाप योनि । अभक्ष्य माँस आदि खाने वाले दुष्कर्मी । नीच गुणों वाले समझे जाते हैं । इन योनियों में से जो जीव आकर मनुष्य योनि में जन्म लेता है । तो भी उसके पीछे की योनि का स्वभाव नहीं छूटता । उसके पूर्व कर्मों का प्रभाव उसको अभी प्राप्त मानव योनि में भी बना रहता है । अतः वह मनुष्य देह पाकर भी पूर्व के से कर्मों में प्रवृत रहता है । ऐसे पशु योनियों से आये जीव नर देह में होते हुये भी प्रत्यक्ष पशु ही दिखायी देते हैं ।
जिस योनि से जो मनुष्य आया है । उसका स्वभाव भी वैसा ही होगा । जो दूसरों पर घात करने वाले क्रूर हिंसक पापकर्मी तथा क्रोधी विषैले स्वभाव के जीव हैं । उनका भी वैसा ही स्वभाव बना रहता है ।
हे धर्मदास ! मनुष्य योनि में जन्म लेकर ऐसे स्वभाव को मेटने का एक ही उपाय है कि किसी प्रकार सौभाग्य से सदगुरु मिल जायँ । तो वे ग्यान द्वारा अग्यान से उत्पन्न इस प्रभाव को नष्ट कर देते हैं । और फ़िर मनुष्य काग दशा ( विष्ठा मल आदि के समान वासनाओं की चाहत ) के प्रभाव को भूल जाता है । उसका अग्यान पूरी तरह समाप्त हो जाता है ।
तब हे भाई ! पूर्व पशु योनि और अभी की मनुष्य योनि का यह द्वंद छूट जाता है । श्री सदगुरुदेव ग्यान के आधार हैं । वे अपने शरण में आये हुये जीव को ग्यान अग्नि में तपाकर एवं उपाय से घिस पीटकर सत्यग्यान उपदेश अनुसार उसे वैसा ही बना लेते हैं । और निरंतर साधना अभ्यास से उस पर प्रभावी पूर्व योनियों के संस्कार समाप्त कर देते हैं ।
हे धर्मदास ! जिस प्रकार धोबी वस्त्र धोता है । और साबुन मलने से वस्त्र साफ़ हो जाता है । ..तब वस्त्र में यदि थोङा सा ही मैल हो । तो वह थोङी ही मेहनत से साफ़ हो जाता है । परन्तु वस्त्र बहुत अधिक गन्दा हो । तो उसको धोने में अधिक मेहनत की आवश्यकता होती है । हे धर्मदास ! वस्त्र की भांति ही जीवों के स्वभाव को जानों । कोई कोई जीव जो अंकुरी होता है । ऐसा जीव सदगुरु के थोङे से ग्यान को ही विचार कर शीघ्र गृहण कर लेता है । उसे ग्यान का संकेत ही बहुत होता है । अधिक ग्यान की आवश्यकता नहीं होती । ऐसा शिष्य ही सच्चे ग्यान का अधिकारी होता है ।
तब धर्मदास बोले - हे साहिब ! यह तो थोङी सी योनियों की बात हुयी । अब आप चार खानि के जीवों की बात कहें । चार खानि के जीव जब मनुष्य योनि में आते हैं । उनके लक्षण क्या हैं ? जिसे जानकर मैं सावधान हो जाऊँ ।
कबीर साहिब बोले - हे धर्मदास सुनो । 4 खानों की 84 लाख योनियों में भरमाया भटकता जीव जब बङे भाग्य से मनुष्य देह धारण करने का अवसर पाता है । तब उसके अच्छे बुरे लक्षणों का भेद तुमसे कहता हूँ ।
जिसको बहुत ही आलस नींद आती है । तथा कामी क्रोधी और दरिद्र होता है । वह अण्डज खानि से आया हुआ होता है । जो बहुत चंचल होता है । और चोरी करना जिसे अच्छा लगता है । धन माया की बहुत इच्छा रखता है । दूसरों की चुगली निंदा जिसे अच्छी लगती है । इसी स्वभाव के कारण वह दूसरों के घर वन तथा झाङी में आग लगाता है । तथा चंचल होने के कारण कभी बहुत रोता है । कभी नाचता कूदता है । कभी मंगल गाता है । भूत प्रेत की सेवा उसके मन को बहुत अच्छी लगती है । किसी को कुछ देता हुआ देखकर वह मन में चिङता है । किसी भी विषय पर सबसे वाद विवाद करता है । ग्यान ध्यान उसके मन में कुछ नहीं आते । वह गुरु सदगुरु को नहीं पहचानता न मानता । वेद शास्त्र को भी नहीं मानता । वह अपने मन से ही छोटा बङा बनता रहता है । और यह समझता है कि मेरे समान दूसरा कोई नहीं है । उसके वस्त्र मैले तथा आँखे कीचङ युक्त और मुँह से लार बहती है । वह अक्सर नहाता भी नहीं है । जुआ चौपङ के खेल में मन लगाता है । उसका पांव लम्बा होता है । और कभी कभी वह कुबङा भी होता है । हे धर्मदास ! ये सब अण्डज खानि से आये मनुष्य के लक्षण हैं ।
हे धर्मदास ! अब ऊष्मज के बारे में कहता हूँ । यह जंगल में जाकर शिकार करते हुये बहुत जीवों को मारकर खुश होता है । इन जीवों को मारकर अनेक तरह से पकाकर वह खाता है । वह सदगुरु के नाम ग्यान की निंदा करता है । गुरु की बुराई और निंदा करके वह गुरु के महत्व को मिटाने का प्रयास करता है । वह शब्द उपदेश और गुरु की निंदा करता है । वह बहुत बात करता है । तथा बहुत अकङता है । और अहंकार के कारण बहुत ग्यान बनाकर समझाता है । वह सभा में झूठे वचन कहता है । टेङी पगङी बाँधता है । जिसका किनारा छाती तक लटकता है । दया धर्म उसके मन में नहीं होता । जो कोई पुण्य धर्म करता है । वह उसकी हँसी उङाता है । माला पहनता है । और चंदन का तिलक लगाता है । तथा शुद्ध सफ़ेद वस्त्र पहनकर बाजार आदि में घूमता है । वह अन्दर से पापी और बाहर से दयावान दिखता है । ऐसा अधम नीच जीव यम के हाथ बिक जाता है । उसके दाँत लम्बे तथा बदन भयानक होता है । उसके पीले नेत्र होते हैं ।
कबीर साहिब बोले - हे धर्मदास ! अब स्थावर खानि से आये जीव ( मनुष्य ) के लक्षण सुनो । इससे आया जीव भैंसे के समान शरीर धारण करता है । ऐसे जीवों की बुद्धि क्षणिक होती है । अतः उनको पलटने में देर नहीं लगती । वह कमर में फ़ेंटा बाँधता है । तथा सिर पर पगङी बाँधता है । तथा राज दरबार की सेवा करता है । और कमर में तलवार कटार बाँधता है । इधर उधर देखता हुआ मन से सैन ( आँख मारकर इशारा करना ) मारता है । परायी स्त्री को सैन से बुलाता है । वह मुँह से रसभरी मीठी बातें कहता है । जिनमें कामवासना का प्रभाव होता है । वह दूसरे के घर को कुदृष्टि से ताकता है । तथा जाकर चोरी करता है । पकङे जाने पर राजा के पास लाया जाता है । जब सारा संसार भी उसकी हँसी उङाता है । फ़िर भी उसको लाज नहीं आती । एक क्षण में ही वह देवी देवता की पूजा करने की सोचता है । दूसरे ही क्षण विचार बदल देता है । कभी उसका मन किसी की सेवा में लग जाता है । फ़िर जल्दी ही वह उसको भूल भी जाता है । एक क्षण में ही वह किताब ( कोई ) पढकर ग्यानी बन जाता है । एक क्षण में ही वह सबके घर आना जाना घूमना करता है । एक क्षण में ही बहादुर और एक क्षण में ही कायर भी हो जाता है । एक क्षण में ही मन में साहू ( धनी ) हो जाता है । और दूसरे क्षण में ही चोरी करने की सोचता है । एक क्षण में धर्म और दूसरे क्षण में अधर्म भी करता है । इस प्रकार क्षण प्रतिक्षण मन के बदलते भावों के साथ वह सुखी दुखी होता है । वह भोजन करते समय माथा खुजाता है । तथा फ़िर बाँह जाँघ पर रगङता है । भोजन करता है । फ़िर सो जाता है । जो जगाता है । उसे मारने दौङता है । और गुस्से से जिसकी आँखे लाल हो जाती हैं । और उसका भेद कहाँ तक कहूँ ।
हे धर्मदास ! अब पिण्डज खानि से आये जीव का लक्षण सुनो । पिण्डज खानि से आया जीव वैरागी होता है । तथा योग साधना की मुद्राओं में उनमनी समाधि का मत आदि धारण करने वाला होता है । और वह जीव वेद आदि का विचार कर धर्म कर्म करता है । वह तीर्थ वृत ध्यान योग समाधि में लगन वाला होता है । उसका मन गुरु के चरणों में भली प्रकार लगता है । वह वेद पुराण का ग्यानी होकर बहुत ग्यान करता है । और सभा में बैठकर मधुर वार्तालाप करता है । राज मिलने का तथा राज के कार्य करने का और स्त्री सुख को बहुत मानता है । कभी भी अपने मन में शंका नहीं लाता । और धन संपत्ति के सुख को मानता है । बिस्तर पर सुन्दर शैया बिछाता है । उसे उत्तम शुद्ध सात्विक पौष्टिक भोजन बहुत अच्छा लगता है । और लोंग सुपारी पान बीङा आदि खाता है । वह पुण्य कर्म में धन खर्च करता है । उसकी आँखों में तेज और शरीर में पुरुषार्थ होता है । स्वर्ग सदा उसके वश में है । वह कहीं भी देवी देवता को देखता है । तो माथा झुकाता है । उसका ध्यान सुमरन में बहुत मन लगता है । तथा वह सदा गुरु के अधीन रहता है ।
हे धर्मदास ! मैंने चारों खानि के लक्षण तुमसे कहे । अब सुनो । मनुष्य योनि की अवधि समाप्त होने से पहले किसी कारण से देह छूट जाय । वह फ़िर से संसार में मनुष्य जन्म लेता है । अब उसके बारे में सुनो ।
******
आगे शीघ्र प्रकाशित होगा ।
एक टिप्पणी भेजें

Follow by Email